• search
भोपाल न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

मध्य प्रदेश में नवजात का हाथ काटने की नौबत, परिजनों का आरोप-गलत इंजेक्शन से काला पड़ गया हाथ

|

भोपाल। मध्य प्रदेश के विदिशा के जिला अस्पताल में डॉक्टरों की कथित लापरवाही सामने आई है। आरोप है कि 24 अगस्त को पैदा हुए मासूम बच्चे के इलाज में लापरवाही बरतने के चलते उसका एक हाथ काटने की नौबत आ गई है।

Allegations of negligence in the treatment of newborn in Vidisha Hospitalज

24 को हो हुआ था जन्म

जानकारी के अनुसार विदिशा जिला अस्पताल में 24 अगस्त को जन्मे एक स्वस्थ्य बच्चे का हाथ कुछ दिनों बाद ही काला पड़ गया। परिजन का आरोप है कि बच्चे को अस्पताल में गलत इंजेक्शन लगाया गया जिससे उसे ऐसा रिएक्शन हुआ कि उसका एक हाथ काला पड़ गया है। फिर बच्चे को विदिशा से भोपाल के अस्पताल में रैफर किया गया।

मनोज की पत्नी ने दिया स्वस्थ् बच्चे को जन्म

बता दें कि विदिशा जिले के ग्यारसपुर के लोहर्रा गांव के रहने वाले मनोज सेन ने पत्नी मिथलेश को प्रसव पीड़ा होने पर विदिशा जिला अस्पताल में भर्ती कराया था। जहां 24 अगस्त को मिथलेश ने एक स्वस्थ्य बच्चे को जन्म दिया। पूरा परिवार बच्चे के जन्म से खुश था लेकिन उनकी खुशी उस वक्त चिंता और गम में तब्दील हो गई जब नवजात बच्चे का दांया हाथ काला पड़ गया।

पांच छह दिन तक नहीं दिया मिलने

बच्चे के पिता मनोज सेन का आरोप है कि बच्चे के जन्म के बाद अस्पताल में उसे एक इंजेक्शन लगाया गया था और उसके बाद बच्चे को तेज बुखार आया था। बच्चे को अस्पताल स्टाफ ने आईसीयू में भर्ती कर दिया। आईसीयू में भर्ती बच्चे से 5-6 दिन तक किसी भी परिजन को मिलने नहीं दिया और एक दिन बच्चे के भोपाल के कमला नेहरू अस्पताल में रेफर करने की जानकारी दी।

डेथ सेंटर बन गया है भोपाल का चिरायु कोविड हॉस्पिटल, नहीं दी जा रही मरीजों की सही जानकारी: कमलनाथ

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Allegations of negligence in the treatment of newborn in Vidisha Hospitalज
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X