• search
अमृतसर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर स्वर्ण मंदिर में खालिस्तान समर्थकों का हंगामा, लहराई तलवारें

|

अमृतसर। सिक्खों के सबसे बड़े तीर्थस्थल अमृतसर के स्वर्ण मंदिर परिसर में आज ऑपरेशन ब्लू स्टार की 35वीं बरसी पर खालिस्तान समर्थकों ने जमकर हंगामा किया। इस दौरान परिसर में तलवारें लहराई गईं व एक दूसरे की पगड़ियां भी उछलीं। परिसर में सादी वर्दी में मौजूद पंजाब पुलिस के जवानों ने कड़ी मशक्कत के बाद हालात को काबू में पाया।

तलवारें लहरा कर खालिस्तान के समर्थन में की नारेबाजी

तलवारें लहरा कर खालिस्तान के समर्थन में की नारेबाजी

गुरुवार सुबह जैसे ही अकाल तख्त के कार्यकार जत्थेदार ज्ञानी ध्यान सिंह मंड ने अकाल तख्त से जैसे ही अपना संबोधन शुरू किया, माहौल में तनातनी पैदा हो गई। उनके साथ आए अलगाववादी, कट्टरपंथी व खालिस्तानी समर्थक गुटों ने हवा में तलवारें लहरा कर खालिस्तान के समर्थन में नारेबाजी शुरू कर दी। खालिस्तानी समर्थकों ने श्री अकाल तख्त साहिब के अंदर दाखिल होने की कोशिश की, लेकिन टास्क फोर्स व सादे कपड़े पहने ड्यूटी कर रहे पुलिस जवानों ने उन्हें रोकने का प्रयास किया। प्रमुख परिसर से करीब 100 मीटर दूर पनपे तनाव से सुरक्षा बलों को भी परेशानी में डाल दिया।

उग्र नौजवान ने रेलिंग तोड़ दी

उग्र नौजवान ने रेलिंग तोड़ दी

इस दौरान कुछ नौजवान उग्र हो गए और उन्होंने एसजीपीसी द्वारा श्री अकाल तख्त साहिब की तरफ के रास्ते में लगाई गई रेलिंग तोड़ दी। रेलिंग तोड़ने के बाद माहौल में तल्खी पैदा हो गई और दोनों पक्ष आपस में भिड़ने लगे। इस दौरान कई सिखों की दस्तारें उतर गईं और नौजवानों ने उन्हें फाड़ दिया। कुछ नौजवान व उनके समर्थक तलवारों को लहराते हुए श्री अकाल तख्त साहिब के नजदीक मीरी-पीरी के संकल्प 'श्री निशान साहिब' के पास चले गए।

एसपी ने हाथ जोड़कर लोगों को मनाने की कोशिश की

एसपी ने हाथ जोड़कर लोगों को मनाने की कोशिश की

रेलिंग तोड़ने के बाद माहौल में तल्खी पैदा हो गई और दोनों पक्ष आपस में भिड़ने लगे। इस दौरान कई सिखों की दस्तारें उतर गईं और नौजवानों ने उन्हें फाड़ दिया। कुछ नौजवान व उनके समर्थक तलवारों को लहराते हुए श्री अकाल तख्त साहिब के नजदीक मीरी-पीरी के संकल्प 'श्री निशान साहिब' के पास चले गए। वहीं, अमृतसर के एसीपी जेसी वालिया हाथ जोड़ कर उग्र लोगों को मनाने की कोशिश करते देखे गए, लेकिन उनका प्रयास भी सफल नहीं हो पाया। उग्र भीड़ ने पुलिस का घेरा भी तोड़ डाला। इस दौरान भारत विरोधी व खालिस्तान के समर्थन में नारेबाजी होती रही।

ये भी पढ़ें: 5 जून: क्या है ऑपरेशन ब्लू स्टार जो बनी इंदिरा की हत्या की वजह

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
khalistan supporters swords brandished at Golden Temple on Blue Star anniversary
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X