• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

fact check: क्या राहुल गांधी ने चीन बॉर्डर से सेना को हटाकर मजदूरों की तैनाती की बात कही थी?

|

नई दिल्ली। तमिलनाडु(Tamil Nadu) में एक सार्वजनिक सभा में राहुल गांधी(Rahul Gandhi) द्वारा दिया गया भाषण इन दिनों सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो में दावा किया जा रहा है कि, कांग्रेस नेता ने चीन बॉर्डर(china border) पर भारतीय सेना को हटाकर मजदूरों को लगाने का सुझाव दिया है। 26 सेकेंड इस भ्रामक वीडियो को केंद्रीय मंत्री किरण रिजिजू और बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने भी ट्विटर पर शेयर किया है।

fact check Rahul Gandhi did not suggested replacing Indian Army with labourers at LAC

वायरल हो रही वीडियो क्लिप में राहुल गांधी कह रहे हैं कि, 'मोदी सरकार चीन से भारत को सुरक्षित रखने के लिए इंडियन आर्मी, इंडियन नेवी और इंडियन एयरफोर्स का उपयोग कर रही है यदि वह भारत के भारतीय मजदूरों, भारतीय किसानों, भारतीय श्रमिकों का विश्वास जताया होता तो सीमा पर इंडियन आर्मी, इंडियन नेवी और इंडियन एयरफोर्स को खड़ा करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। चीन की देश के अंदर आने की हिम्मत भी नहीं होगी।

वायरल हो रहे वीडियो में कैप्शन दिया गया है कि, चूंकि राहुल गांधी सोचते हैं कि भारतीय सेना को किसानों और मजदूरों से रिप्लेस किया जा सकता है, तो हम नरेंद्र मोदी जी अमित शाह जी से अनुरोध करते हैं कि कृपया राहुल गांधी को दी गई वीआईपी सुरक्षा को हटा दें और इसे भारतीय किसानों और मजदूरों को सौंप दें। वन इंडिया की फैक्ट चेक टीम ने इस वीडियो की पड़ताल की तो चौंकानी वाली सच्चाई सामने आई।

वन इंडिया की पड़ताल में ये वीडियो फर्जी साबित हुआ है। दरअसल तमिलनाडु में राहुल गांधी द्वारा दिए गए भाषण की क्लिप का एक छोटा हिस्सा वायरल किया जा रहा है। जिससे सुनकर ऐसा प्रतीत हो रहा है कि, गांधी सेना को मजदूर से रिप्लेस करने की बात कर रहे हैं। जबकि सच्चाई इसके उलट है। राहुल गांधी ने अपने भाषण में उद्योगपतियों पर निशाना साधते हुए कहा था कि, अगर मोदी जी ने अपने उद्योगपति दोस्तों की मदद करके देश को खोखला करने की बजाए किसानों, मजदूरों और कामगारों को सुरक्षित किया होता चीन की हिम्मत नहीं होती कि वह हमारी जमीन ले पाता।

25 जनवरी को राहुल गांधी ने अपने भाषण में कहा था कि, चीन को यह समझ आ गया है कि भारत की अर्थव्यवस्था घुटनों पर है। चीन ने ये देख लिया है कि भारत सरकार का हर कदम चुनिंदा 5-6 उद्योगपतियों की मदद के लिए उठाया गया है और भारत की असल ताकत को कमजोर किया गया है। भारत के मजदूरों, कामगारों और बुनकरों को कमजोर करने के लिए भारत सरकार ने कदम उठाए हैं। मैं आपको ये गारंटी दे सकता हूं कि अगर भारत के कामगारों, मजदूरों और बुनकरों को ताकत दी गई होती और उनकी मदद की जाती तो चीन की हिम्मत नहीं थी कि वह भारत की सीमा के अंदर आता।

ट्रैक्‍टर रैली में मृत किसान का रामपुर में हुआ अंतिम संस्‍कार, दादा बोले- सरकार है बेटे की कातिल

Fact Check

दावा

कांग्रेस नेता ने चीन बॉर्डर(china border) पर भारतीय सेना को हटाकर मजदूरों को लगाने का सुझाव दिया है।

नतीजा

राहुल गांधी ने अपने भाषण में उद्योगपतियों पर निशाना साधते हुए कहा था कि, अगर मोदी जी ने अपने उद्योगपति दोस्तों की मदद करके देश को खोखला करने की बजाए किसानों, मजदूरों और कामगारों को सुरक्षित किया होता

Rating

False
फैक्ट चेक करने के लिए हमें factcheck@one.in पर मेल करें
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
fact check Rahul Gandhi did not suggested replacing Indian Army with labourers at LAC
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X