• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

गुजरात का वो किसान जिसने 10 हजार रुपए से शुरू की शरीफा की खेती, अब हो रहा 10 लाख का मुनाफा

|
Google Oneindia News

वीरपुर। खेती-किसानी कर मोटा मुनाफा कमाने वालों में गुजरात के कई किसानों का नाम लिया जाता है। यहां प्याज, मूंगफली, टमाटर, खजूर आदि की बड़े पैमाने पर उपज होती है..इसी तरह फल भी खूब होते हैं। यहां मनसुख दुधात्रा वीरपुर के एक ऐसे किसान हैं, जिन्होंने 5 साल पहले सीताफल (जिसे शरीफा कहा जाता है) की खेती शुरू की थी। तब उन्होंने करीब 10 हजार रुपए खर्च किए थे। उसके बाद पिछले 3 से 4 साल में उत्पादन बढ़ाया। अब उनके यहां एक-एक किलो वजनी शरीफा मिल रहे हैं और भारत ही नहीं, अपितु दुबई तक डिमांड है।

गुजरात के किसान का कमाल

गुजरात के किसान का कमाल

मनसुख दुधात्रा के बेटे केतन के मुताबिक, शरीफा की उनके खेत में कई तरह की किस्में उगती हैं। जिनमें जो 1-1 किलो वाले बड़े शरीफा हैं, उसमें देसी शरीफा के मुकाबले कम बीज होते हैं। ऐसे 1 किलो हाइब्रिड शरीफा में 15-20 बीज होते हैं, जबकि देसी शरीफा में 35 से 40 बीज होते हैं। खाने में वो काफी स्वाद भी लगते हैं...इसलिए उसकी डिमांड भी ज्यादा है। बकौल केतन, "अब सालाना 10 लाख रुपए का मुनाफा हो जा रहा है। खासकर मार्केटिंग करने पर अच्छी आमदनी होनी शुरू हुई।"

सिर्फ 2 रुपए किलो बिक रहे टमाटर, किसानों को भारी घाटा, नागपुर-मुंबई हाईवे पर ऐसे उड़ेल दीं ट्रॉलियांसिर्फ 2 रुपए किलो बिक रहे टमाटर, किसानों को भारी घाटा, नागपुर-मुंबई हाईवे पर ऐसे उड़ेल दीं ट्रॉलियां

10 हजार रुपए की लागत से शुरू की बागवानी

10 हजार रुपए की लागत से शुरू की बागवानी

मनसुख दुधात्रा ने कहा कि, पहले मैं देसी सीताफल की खेती करता था। जिसमें प्रोडक्शन और कमाई दोनों ही कम होती थी। बाद में हमने हाइब्रिड किस्म की फार्मिंग शुरू की। इसका फायदा यह हुआ कि हमारा प्रोडक्शन बढ़ गया। कई फल तो हमारे एक किलो से भी ज्यादा वजन के निकले।

किसानों की आय दोगुना कराने में जुटी सरकार, आप मूंग के बाद प्याज की खेती कर ले पाएंगे दुगना फायदाकिसानों की आय दोगुना कराने में जुटी सरकार, आप मूंग के बाद प्याज की खेती कर ले पाएंगे दुगना फायदा

'मेरे दोनों बेटे यही काम कर रहे'

'मेरे दोनों बेटे यही काम कर रहे'

दुधात्रा बोले, ''तब हमने मार्केटिंग शुरू की। मेरे दोनों बेटे पढ़े-लिखे हैं, वे कहीं नौकरी के लिए नहीं गए। उन्हें इसी काम में लगा लिया। दोनों ने मिलकर मेरे लिए एक नर्सरी भी तैयार की है।''

गुजरात में यहां 6 हजार हेक्टेयर भूमि पर होती है प्याज की खेती, रेलों से बिकने जाती है नेपाल-बांग्लादेश तकगुजरात में यहां 6 हजार हेक्टेयर भूमि पर होती है प्याज की खेती, रेलों से बिकने जाती है नेपाल-बांग्लादेश तक

अब 10 लाख से ज्यादा का हो रहा मुनाफा

अब 10 लाख से ज्यादा का हो रहा मुनाफा

फिलहाल मनसुख 10 बीघा जमीन में बागवानी करते हैं और उसमें शरीफा की खेती ज्यादा होती है। उनका कहना है कि वे इसे और बढ़ाने जा रहे हैं। उनके पास शरीफा की देसी और हाइब्रिड समेत कई तरह की वैराइटी हैं। जिसमें से 900 हाइब्रिड किस्म के पेड़ हैं और काफी देशी किस्म वाले भी हैं।

वडोदरा के किसान करते हैं बारहमासी आम की खेती, बगीचों में पेड़ों पर ऐसे लदी हुई है फलों की नई किस्मवडोदरा के किसान करते हैं बारहमासी आम की खेती, बगीचों में पेड़ों पर ऐसे लदी हुई है फलों की नई किस्म

तरह-तरह की किस्मों वाले हैं शरीफा
उनकी बागवानी से हर दिन 35 से 40 किलोग्राम शरीफा निकलता है..और बाजार में 40 रुपए से लेकर 120 रुपए तक प्रति किलो बिक रहा है। उन्होंने कहा कि, देसी शरीफा 2 से 3 दिन तक चलता है। जबकि हाइब्रिड किस्म 10 से 15 दिनों तक सुरक्षित रहती है। अब सर्दियों में तो फल वैसे भी कम ही खराब होते हैं।

Comments
English summary
Custard apple farming in gujarat By farmer Mansukh Dudhatra, know how Cultivating Sharifa (Sitaphal)
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X