• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

यूपी चुनाव: गैर यादव पिछड़ों को साधने में जुटे अखिलेश, जानिए समाजवादी पार्टी के सामने क्या हैं चुनौतियां

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 22 अक्टूबर: उत्तर प्रदेश में हाल ही में विधानसभा के डिप्टी स्पीकर के चुनाव में भाजपा समर्थित समाजवादी पार्टी के बागी विधायक नितिन अग्रवाल विजयी हुए थे। 18 अक्टूबर को हुए चुनाव में नितिन को कुल 396 में से 304 वोट मिले थे। हालांकि बसपा और कांग्रेस ने चुनाव का बहिष्कार किया था। नितिन भले ही भारी बहुमत से जीते, लेकिन अपने 46 वोटों के दम पर मैदान में उतरी सपा 60 वोट पाकर भी अपने मकसद में कामयाब हो गई थी। हालांकि बीजेपी पिछले दो तीन चुनावों से गैर यादव पिछड़ी जातियों को साधने में कामयाब हो रही है। बीजेपी की इस रणनीति को काउंटर करने के लिए ही अब समाजवादी पार्टी के मुखिया ने गैर यादव पिछड़ी जातियों पर फोकस करना शुरू कर दिया है। इसी के तहत हाल में सपा ने जो प्रदेश कार्यकारिणी बनाई है उसमें भी गैर यादव ओबीसी जातियों का खास खयाल रखा गया है।

बेनी प्रसाद वर्मा के बाद सपा में बड़े कुर्मी नेता का आभाव

बेनी प्रसाद वर्मा के बाद सपा में बड़े कुर्मी नेता का आभाव

कुर्मी, सैनी और मौर्य किसान आधारित पिछड़ी जातियां हैं जिनकी सामाजिक संरचना जिलों में समान है। 2017 के विधानसभा चुनाव में इन गैर यादव पिछड़ी जातियों ने बीजेपी को वोट दिया था. राजेश्वर कुमार बताते हैं, 'सपा के गठन के बाद मुलायम सिंह यादव और बेनी प्रसाद वर्मा की जोड़ी यादव और कुर्मी वोटों को अपने कब्जे में लेती थी। लेकिन बेनी प्रसाद की मृत्यु के बाद, सपा के पास कोई प्रभावी कुर्मी नेता नहीं है।

नरेश उत्तम को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर कुर्मी वोट सहेजने का प्रयास

नरेश उत्तम को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर कुर्मी वोट सहेजने का प्रयास

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कानपुर-बुंदेलखंड क्षेत्र के जाने-माने कुर्मी नेता नरेश उत्तम को 2017 के बाद पार्टी का प्रदेश अध्यक्ष बनाकर स्थिति सुधारने की कोशिश की थी। 2022 के विधानसभा चुनाव की तैयारी के लिए उत्तम ने 29 अगस्त को सीतापुर से 'किसान-नौजवान यात्रा' शुरू की थी। 64 दिनों की यह यात्रा यूपी के 46 जिलों को कवर करेगी। लौह पुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती 31 अक्टूबर को प्रयागराज में इसका समापन होगा।

राजपाल कश्यप को बनाया पिछड़ा प्रकोष्ठ का अध्यक्ष

राजपाल कश्यप को बनाया पिछड़ा प्रकोष्ठ का अध्यक्ष

इस बीच, एसपी पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष राजपाल कश्यप 9 अगस्त, क्रांति दिवस दिवस पर कानपुर में ओबीसी सम्मेलनों की एक श्रृंखला शुरू कर रहे हैं। झांसी, महोबा और हमीरपुर जिलों को कवर करने के बाद 15 अगस्त को फतेहपुर के जहानाबाद विधानसभा क्षेत्र में पिछड़ा वर्ग सम्मेलन संपन्न हुआ। सम्मेलनों में पिछली सपा सरकार की उपलब्धियों के साथ-साथ योगी और मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों पर प्रकाश डाला गया। राजपाल कश्यप कहते हैं कि, ''कोरोना की दूसरी लहर के दौरान गांव काफी प्रभावित हुए. वहां बड़ी संख्या में रहने वाली पिछड़ी जातियां राज्य सरकार के कुप्रबंधन का शिकार हुई हैं. पिछड़ी जातियों में भाजपा सरकार के खिलाफ गुस्सा है, यही वजह है. सपा के ओबीसी सम्मेलनों को भारी समर्थन मिला।

    UP Election 2022: Akhilesh के कोर वोटबैंक पर BJP लगाएगी सेंध? समझें- Yadav Politics | वनइंडिया हिंदी
    'पिछड़े दलित संवाद यात्रा' निकाल कर पिछड़ों को जोड़ने की कवायद

    'पिछड़े दलित संवाद यात्रा' निकाल कर पिछड़ों को जोड़ने की कवायद

    अधिवेशन से पहले, पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ ने 23 जुलाई से 1 अगस्त तक यूपी के 20,000 गांवों में चौपालों का आयोजन किया था। अब राजपाल कश्यप 'पिछड़े दलित संवाद यात्रा' के माध्यम से सपा के लिए बीसी-दलित गठबंधन बनाने की कोशिश कर रहे हैं। गैर यादव पिछड़ी जातियों में सपा का समर्थन बढ़ाने के लिए अखिलेश ने बड़ी संख्या में नए नेताओं को शामिल किया है। सपा में शामिल होने वाले नेताओं में पूर्व मंत्री और बांदा से बीजेपी विधायक शिवशंकर सिंह पटेल, बीजेपी विधायक माधुरी वर्मा के पति दिलीप वर्मा, कांग्रेस के पूर्व सांसद बाल कृष्ण पटेल शामिल हैं। इसके अलावा मायावती द्वारा बसपा से निकाले गए अंबेडकर नगर जिले के दो मजबूत नेताओं लालजी वर्मा और राम अचल राजभर से भी सपा बात कर रही है। इसके अलावा पूर्वांचल के कुछ सपा नेता 2022 के विधानसभा चुनाव से पहले अपना दल के कृष्णा पटेल गुट को भर्ती करने की कोशिश कर रहे हैं।

    राज्य कार्यकारिणी में भी गैर यादव पिछड़ी जातियों का समायोजन

    राज्य कार्यकारिणी में भी गैर यादव पिछड़ी जातियों का समायोजन

    19 अक्टूबर को घोषित 72 सदस्यीय सपा राज्य समिति के अनुसार, यह स्पष्ट है कि पार्टी ने अपने पारंपरिक जाति समीकरण के बजाय गैर-यादव पिछड़ी जातियों को महत्व देना शुरू कर दिया है। नई कमेटी में अखिलेश ने पिछड़ी जातियों को काफी अहमियत दी है. वे अब समिति के सदस्यों के 40 प्रतिशत से अधिक बनाते हैं। गौरतलब है कि इसमें सिर्फ 7 यादवों को ही जगह मिलती है. ऐसा लगता है कि अखिलेश ने भी मान लिया है कि गैर-यादव पिछड़ी जातियों के बीच पार्टी को जो वोट मिलते हैं, वही 2022 के विधानसभा चुनाव में सपा के 'चक्र' की राह तय करेंगे।

    बीजेपी के गैर यादव ओबीसी रणनीति को काउंटर करने की तैयारी

    बीजेपी के गैर यादव ओबीसी रणनीति को काउंटर करने की तैयारी

    दरअसल2017 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी ने गैर यादव पिछड़ी जातियों को सपा के खिलाफ लामबंद किया था. उसी की प्रस्तावना के रूप में उसने अप्रैल 2016 में केशव प्रसाद मौर्य को प्रदेश अध्यक्ष बनाया था। बाद में मौर्य को उपमुख्यमंत्री बनाकर भाजपा ने पिछड़ों के बीच मौर्य, कुर्मी और सैनी वोटों पर पकड़ बनाए रखने की अपनी रणनीति को मजबूत किया था। जातियां सामाजिक न्याय समिति-2001 की रिपोर्ट के अनुसार, यूपी में कुल पिछड़ी जातियों में यादव 19.4% और कुर्मी 7.5% हैं। राजनीतिक विश्लेषकों के अनुमान के मुताबिक, वाराणसी, कानपुर, लखीमपुर खीरी और फर्रुखाबाद समेत पूर्वांचल और बुंदेलखंड में 17 जिले हैं जहां कुर्मी समुदाय की आबादी 15 फीसदी से ज्यादा है. इसके अलावा सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, सैनी, प्रतापगढ़, इलाहाबाद, देवरिया और कुशीनगर सहित आसपास के जिलों में मौर्य जाति के लोग बड़ी संख्या में हैं।

    सपा ही है बीजेपी की मुख्य प्रतिद्वंदी

    सपा ही है बीजेपी की मुख्य प्रतिद्वंदी

    लखनऊ विश्वविद्यालय के समाजशास्त्र विभाग के पूर्व एसोसिएट प्रोफेसर राकेश गौतम कहते हैं कि, 'सपा भले ही चुनाव हार गई हो, लेकिन इसका फायदा भी उसे मिला है. पहला, विधानसभा में अपने सदस्यों की संख्या से अधिक वोट प्राप्त करना यह दर्शाता है कि 2022 के विधानसभा चुनाव में सपा भाजपा की मुख्य प्रतिद्वंद्वी है। दूसरा, एक कुर्मी पिछड़ी जाति के उम्मीदवार (महमूदाबाद विधायक नरेंद्र वर्मा सपा के उम्मीदवार थे) को टिकट देकर पार्टी ने यह दिखाने की कोशिश की है कि भाजपा पिछड़ी जातियों के खिलाफ है।'

    बीजेपी के लोध वोट बैंक में कैसे सेंध लगाएगी सपा

    बीजेपी के लोध वोट बैंक में कैसे सेंध लगाएगी सपा

    विधानसभा चुनाव से पहले अखिलेश यादव को यूपी में लोध वोटबैंक के बारे में भी सोचना होगा। बीजेपी ने अपने पाले में कल्याण सिंह जैसे कद़दार नेता को लोध नेता के तौर पर आगे किया था लेकिन उनके निधन के बाद बीजेपी ने अब बी एल वमा को केंद्र में मंत्री बनाकर इस जाति को खुश करने की कवायद की है। लोध समुदाय का असर पश्चिमी यूपी से लेकर बुंदेलखंड तक फैला हुआ है। आंकड़ों पर गौर करें तो यूपी की करीब 20 से ज्यादा लोकसभा सीटों की लगभग 100 विधानसभा सीटों पर इनका प्रभाव है। अखिलेश यादव के पास अभी एक भी लोध नेता ऐसा नहीं है जिसको वो चेहरा बना सकें। पिछले दो चुनावों की गणित यही कहती है कि जिस पार्टी के पास हर वर्ग के बड़े चेहरे मौजूद हैं जीत उन्हीं की हो रही है, लिहाजा अखिलेश को इस दिशा में भी काम करने की जरूरत है।

    यह भी पढ़ें-Priyanka Gandhi Vadra ने किया बड़ा ऐलान, सरकार बनने पर छात्राओं को मिलेगी स्कूटी और स्मार्टफोनयह भी पढ़ें-Priyanka Gandhi Vadra ने किया बड़ा ऐलान, सरकार बनने पर छात्राओं को मिलेगी स्कूटी और स्मार्टफोन

    Comments
    English summary
    UP Assembly Elections: Akhilesh engaged in helping non-Yadav backwards, know how to counter BJP's strategy
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X