• search
उत्तर प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

UP में पुराने चेहरे पर दांव लगा सकती है BJP, जानिए कौन हो सकता है स्वतंत्रदेव का विकल्प ?

|
Google Oneindia News

लखनऊ, 13 मई: उत्तर प्रदेश में चुनाव बीते हुए दो महीने पूरे हो चुके हैं। दो महीने चुनाव बीतने के बाद बीजेपी अभी भी अपना नया बॉस नहीं ढूंढ पाई है। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष को लेकर जो अटकलें चल रही हैं उसके मुताबिक पार्टी किसी ब्राह्मण चेहरे या दलित पर दांव लगा सकती है। इसके लिए ऐसे चेहरों की तलाश की जा रही है जिनकी लोकप्रियता पश्चिम से लेकर पूरब तक हो लेकिन अभी उस सांचे में कोई फिट नहीं बैठ रहा है। सवाल ये उठ रहा है कि क्या बीजेपी अपनी यूपी इकाई का नेतृत्व करने के लिए किसी पुराने नेता को ही चुनेगी?

नए प्रदेश अध्यक्ष की तलाश में जुटी है बीजेपी

नए प्रदेश अध्यक्ष की तलाश में जुटी है बीजेपी

मौजूदा यूपी बीजेपी प्रमुख स्वतंत्र देव सिंह को योगी आदित्यनाथ कैबिनेट में कैबिनेट मंत्री के रूप में शामिल किया गया है, जिससे नए प्रदेश अध्यक्ष की तलाश जरूरी हो गई है। जबकि भाजपा अपने पत्ते अपने सीने के पास रखती है, राजनीतिक सुर्खियों में पार्टी की दो दिवसीय राष्ट्रीय पदाधिकारियों की बैठक 20 और 21 मई को जयपुर में होने वाली है, जिसमें भगवा के लिए एक औपचारिक खाका तैयार होने की उम्मीद है।

नए चेहरे की बजाए पुराने पर दांव लगा सकती है पार्टी

नए चेहरे की बजाए पुराने पर दांव लगा सकती है पार्टी

पार्टी थिंक टैंक का मानना ​​​​है कि नए यूपी बीजेपी अध्यक्ष के रूप में एक अच्छी तरह से स्थापित नेता को ही पार्टी अध्यक्ष बनाया जाए जिससे सुनील बंसल की भी भरपाई हो सके। सुनील बंसल को एक प्रमुख पार्टी रणनीतिकार माना जाता है। सूत्रों ने कहा कि 2024 के लोकसभा चुनावों में जब पीएम नरेंद्र मोदी लगातार तीसरे कार्यकाल की तलाश करेंगे, तो एक अच्छे नेता के नेतृत्व में एक मजबूत राज्य संगठनात्मक ढांचा भाजपा के लिए महत्वपूर्ण है।

कई लोगों के नामों पर चल रहा है मंथन

कई लोगों के नामों पर चल रहा है मंथन

पार्टी हलकों में पहले से ही कई वरिष्ठ पदाधिकारियों के नामों की चर्चा है, जिन्हें राज्य इकाई की कमान सौंपी जा सकती है। सूत्रों ने कहा कि अगर भाजपा ने एक ब्राह्मण को नया प्रदेश अध्यक्ष नियुक्त किया है। यह 2014 के बाद से हर लोकसभा चुनाव से पहले एक प्रवृत्ति रही है। पार्टी यूपी के पूर्व भाजपा प्रमुख और देवरिया के सांसद रमापति राम त्रिपाठी पर विचार कर सकती है। वहीं दूसरी ओर पिछड़ों में एक नाम बाबूराम निषाद का भी सामने आ रहा है। शीर्ष नेतृत्व इनके उपर भी विचार कर रहा है।

पुराने और विश्वसनीय चेहरे की तलाश में पार्टी

पुराने और विश्वसनीय चेहरे की तलाश में पार्टी

प्रदेश इकाई के पूर्व अध्यक्ष और मेरठ के पूर्व विधायक लक्ष्मीकांत वाजपेयी और मैनपुरी से लगातार दूसरी बार जीते राम नरेश अग्निहोत्री के नाम भी चर्चा में हैं। बीजेपी के ओबीसी या दलित को नियुक्त करके रणनीति में नाटकीय बदलाव के बारे में भी अटकलें लगाई जा रही हैं। ओबीसी नेताओं में पार्टी थिंक टैंक राज्यसभा सदस्य बीएल वर्मा के नाम पर विचार कर रही है। ए लोध, वर्मा उत्तर-पूर्व विकास के लिए कनिष्ठ केंद्रीय मंत्री भी हैं।

दलित नेता का चुनाव भी कर सकती है बीजेपी

दलित नेता का चुनाव भी कर सकती है बीजेपी

प्रमुख दलित नेता और इटावा के सांसद राम शंकर कठेरिया भी नए प्रदेश अध्यक्ष की कतार में शामिल हैं। आरएसएस के पूर्व विभाग प्रचारक कठेरिया राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष रह चुके हैं। वास्तव में, भाजपा बसपा प्रमुख मायावती के वोट बैंक में मजबूत पैठ बनाने की कोशिश कर रही है, जिनके राजनीतिक कद को हाल ही में हुए यूपी चुनावों में भारी चोट लगी, जहां उनकी पार्टी सिर्फ एक सीट जीत सकी। यूपी बीजेपी के प्रवक्ता हीरो बाजपेयी ने कहा, "हम यूपी में पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व के अंतिम निर्णय की प्रतीक्षा कर रहे हैं। पार्टी को एक ऐसा नेता मिलने की उम्मीद है जो गतिशील हो और राज्य के मामलों से अच्छी तरह वाकिफ हो।"

यह भी पढ़ें- UP राज्यसभा चुनाव: 11वीं सीट के लिए क्यों बढ़ेगी छोटे दलों की अहमियत, जानिएयह भी पढ़ें- UP राज्यसभा चुनाव: 11वीं सीट के लिए क्यों बढ़ेगी छोटे दलों की अहमियत, जानिए

Comments
English summary
BJP can bet on old face in UP, know who can be the alternative of Swatantradev?
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X