• search
राजकोट न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

इस जंगल में साथ रहता था 5 शेरों का परिवार, नहीं थी शिकार की कमी, फिर कैसे मर गए शेर-शेरनी

|

Gujarat News, राजकोट। वन्यजीवों के लिए गुजरात की शान माने जाने वाले गिर सोमनाथ और अमरेली जिलों में शेरों की अप्राकृतिक मौतें थम नहीं रही हैं। यहां दो दिनों में एक शेर व शेरनी के शव बरामद हुए हैं। अमरेली के खांभा व उना में इनके शवों को वनविभाग ने पोस्टमॉर्टम के लिए कब्जे में लिया, लेकिन इनकी मौतों की कोई वजह का खुलासा नहीं कर पाया है।

Lion and Lioness found dead in Gujarats forest

एक अधिकारी के अनुसार, उना के सैयद राजपरा गांव के निकट 5 शेरों का परिवार रहता था। किंतु मंगलवार को इनमें से एक शेर की डेडबॉडी हाथ लगी। वहीं, एक शेरनी का मृतदेह भी संदिग्ध हालातों में पाया गया है। अब ये मौतें इनफाइट में हुईं या किसी अन्य वजह की वजह से हुई, इसका अंदाजा पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने पर ही लग सकता है।

हाईवे से गुजर रही थी कार, तभी एक के बाद एक 10 शेरों ने काटा रास्ता, ड्राइवर की फूल गई सांसें

Lion and Lioness found dead in Gujarats forest

स्थानीय निवासियों के अनुसार, 5 शेरों वाले झुंड को माणेकपुर की ओर जाते हुए देखा गया था। जबकि, इसी क्षेत्र में डेढ़ साल पहले एक तेंदुए की मौत का कारण भी आज तक सामने नहीं आया है। अभी शेरनी के बारे में यह साफ हुआ है कि वह 9 साल की थी। अमरेली की तुलसीश्याम रेन्ज के भाणीया राउन्ड से उस शेरनी की मृतदेह भी संदिग्ध अवस्था में मिली। उसके शव से बदबू आ रही थी। 25 दिनों पहले भी शेरनी की मौत होने की जानकारी दी गई थी। वहीं अब, शेरनी के मृतदेह को नियम के अनुसार, खांभा कचहरी ले जाने के बजाय पोस्टमार्टम के लिए जसाधार भेजा दिया गया।

तेंदुए के जिस बच्चे को शेरनी ने अपना बच्चा समझकर पाला, 45 दिनों बाद वह हार गया जिंदगी की जंग

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Lion and Lioness found dead in Gujarat's forest
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X