• search
राजस्थान न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

बेटी की शादी से 7 दिन पहले पिता की मौत, लग्न वाले दिन उठी अर्थी तो पूरा गांव रो दिया, देखें VIDEO

|

karauli News, करौली। घर-परिवार खुशियों से सराबोर था। हर कोई लाडो की शादी की तैयारियों में जुटा था। मंगलगीत गाए जा रहे थे। बिन मां की बेटी को खुशी-खुशी से विदा करने में महज सप्ताहभर ही बचा था। लग्न-टीका ले जाया जाने वाला था। इस बीच मिली खबर ने कोहराम मचा दिया। खुशियों के बीच मातम पसर गया और हर किसी की आंखों से आंसुओं का दरिया बह निकला। दर्दभरी यह दास्तां राजस्थान के करौली जिले के एक परिवार की है।

विदाई के बाद रास्ते से दुल्हन का अपहरण, फिल्मी स्टाइल में दिया पूरी वारदात को अंजाम, देखें VIDEO

मां की पूर्व में हो चुकी है मौत

मां की पूर्व में हो चुकी है मौत

करौली जिले के मासलपुर थाना इलाके के गांव मेंगराकला में शादी से सात दिन पहले एक बेटी के सिर से पिता का साया उठ गया। मां की पहले ही मौत हो चुकी थी। जिस दिन लग्न-टीका ले जाया जाना था। घर से उस दिन पिता की अर्थी उठी तो कोई आंसू नहीं रोक पाया। अब इस परिवार को बस एक ही चिंता सता रही है कि आखिर लाडो के हाथों कैसे पीळे होंगे।

नहीं हुई लग्न टीके की रस्म

नहीं हुई लग्न टीके की रस्म

जानकारी के अनुसार मंगराकला के राधेश्याम जाटव की बेटी शिमला की 22 अप्रैल को शादी तय थी। बारात पड़ोस के गांव मामचारी से आनी थी। राधेश्याम 4 अप्रैल को वह बेटी की शादी का सामान खरीदने करौली के बग्गीखाना गया था। इस दौरान वह विद्युत निगम के ग्रिड स्टेशन के पास घूम रहा था। उसे कथित रूप से चोर समझकर निगम के सुरक्षाकर्मियों व कर्मचारियों ने उसके साथ मारपीट की, जिससे वह गंभीर रूप से घायल हो गया था। स्थानीय अस्पताल में प्राथमिक देकर उसे जयपुर रैफर किया गया। जयपुर में उपचार के दौरान राधेश्याम ने 15 अप्रैल को दम तोड़ दिया।

मामला दर्ज कर जांच शुरू

मामला दर्ज कर जांच शुरू

राधेश्याम की मौत के कारण 16 अप्रैल को शिमला के लग्न टीके की रस्म नहीं हुई। परिजनों ने आरोपियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन भी किया। सूचना पर पाकर पहुंचे करौली पुलिस उपाधीक्षक बाबूलाल मीणा एवं मासलपुर थाना प्रभारी श्रवण कुमार पाठक ने परिजनों से समझाइश की और कनिष्ठ अभियंता व सुरक्षाकर्मियों के खिलाफ पूर्व दर्ज मामले में उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया।

चार भाई-बहनों को अब कौन पालेगा

चार भाई-बहनों को अब कौन पालेगा

मृतक के परिजन लज्जाराम ने बताया कि राधेश्याम के तीन नाबालिग बेटे व एक बेटी है। पत्नी की मौत के बाद वह अपने चारों बच्चों को पाल रहा था, मगर इनके सिर से पिता का भी साया उठने पर न केवल बेटी की शादी व बच्चों के पालन-पौषण का भी संकट हो गया है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Father's death 7 days before of daughter's wedding in Karauli
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X