• search
राजस्थान न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

Lockdown Effect : मृतकों की अस्थियों को मोक्ष का इंतजार, लोग नहीं जा पा रहे हरिद्वार

|

सीकर। कोरोना वायरस के चलते देश में 24 मार्च से जारी 21 दिन का लॉकडाउन है। इस बीच आवागमन के साधन बंद हैं। ऐसे में अनेक मृत लोगों की अस्थियां कलश में मोक्ष का इंतजार कर रही हैं। लॉकडाउन होने के कारण आवागमन के साधन उपलब्ध नहीं होने से मृतकों के परिजन अस्थ्यिां विसर्जन के लिए हरिद्वार नहीं जा पा रहे हैं। परिजनों ने घर के अंदर या फिर मंदिर या शमशान घाट में अस्थि कलश रख रखे हैं ताकि व्यवस्थाएं सुचारू हो तो इनका विसर्जन हरिद्वार, पुष्कर या लोहागर्ल में किया जा सके।

sikar news

सीकर के महंत विष्णु प्रसाद की मां विनोद देवी का निधन 18 मार्च को हार्ट अटैक के कारण हो गया था। अंतिम संस्कार तो कर दिया गया, लेकिन लॉकडाउन के कारण परिवार के लोग हरिद्वार नहीं जा पा रहे हैं। सीकर ही नहीं पूरे देश में आलम ऐसा है कि अस्थियां कलश में बंद हैं। इंतजार है कि आवागमन खुलने का ताकि हरिद्वार जाकर इन कलश में बंद अस्थियों काविसर्जन गंगा में किया जा सके।

sikar news

सीकर के शिवधाम धर्माणा चेरीटेबल ट्रस्‍ट के कैलाश तिवाड़ी ने बताया कि अस्थियां तो लोग अपने घरों पर ले जाकर रख रहे हैं, लेकिन वे हरिद्वार नहीं जा पा रहे हैं। जो भस्मी राख है। वह कट्टों में भरकर यहां धर्माणा में रखी गई है। कारण कि भस्मी को लोग लोहागर्ल में ले जाकर विसर्जित करते हैं।

लॉकडाउन के चलते 418 KM दूर फंसी मां-बेटी को राजस्थान पुलिस ने निजी कार भेजकर बचाया

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
ashes await salvation in sikar Due to Lockdown effect
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X