• search
जम्मू-कश्मीर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

J&K: जो कभी नहीं हुआ वो अब होगा, श्रीनगर के ऐतिहासिक हरि पर्वत पर लहराएगा 100 फीट ऊंचा तिरंगा

|
Google Oneindia News

श्रीनगर, 4 अगस्त: अगर फ्लैग फाउंडेशन ऑफ इंडिया की पहल और जम्मू-कश्मीर प्रशासन की इच्छा के मुताबिक सबकुछ सही रहा तो श्रीनगर के ऐतिहासिक हरि पर्वत पर जल्द ही 100 फीट की ऊंचाई पर तिरंगा लहराता नजर आएगा। इस किले पर राष्ट्रध्वज फहराने का मतलब ये होगा कि चाहे डल झील में हों या शहर में कहीं और, दूर-दूर से तिरंगा शान के साथ लहराता नजर आएगा। फिलहाल प्रशासन ने संबंधित विभागों से जरूरी अनुमति की औपचारिकाताएं शुरू कर दी हैं और मंजूरी मिलते ही इस प्रस्ताव को अमलीजामा पहना दिया जाएगा

श्रीनगर के ऐतिहासिक किले पर लगराएगा 100 फीट ऊंचा तिरंगा

श्रीनगर के ऐतिहासिक किले पर लगराएगा 100 फीट ऊंचा तिरंगा

जम्मू और कश्मीर प्रशासन श्रीनगर के ऐतिहासिक हरि पर्वत किले पर 100 फीट की ऊंचाई पर राष्ट्र ध्वज स्थापित करेगा। 18वीं सदी में बना यह किला सुरक्षा बलों के पहरे में है और इसके पास ही एक दरगाह, एक प्रसिद्ध मंदिर और एक गुरद्वारा है। लेकिन, किले पर तिरंगा फहराने के लिए प्रशासन को कई विभागों से मंजूरी लेनी पड़ रही है, जिसमें सबसे महत्वपूर्ण आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया है, जो अभी किले की रखरखाव करता है। कश्मीर के डिविजनल कमिश्नर पांडुरंग के पोले ने हाल ही में एक उच्चस्तरीय बैठक की अध्यक्षता की है, जिसमें किले पर राष्ट्रध्वज लगाने की सहमति दी गई है।

संबंधित विभागों से औपचारिक मंजूरी का इंतजार

संबंधित विभागों से औपचारिक मंजूरी का इंतजार

हरि पर्वत किले पर राष्ट्रध्वज स्थापित करने की सहमति के बारे में डिप्टी डायरेक्टर आशिक हुसैन मलिक की ओर से जो आदेश जारी किया गया है, उसमें कहा गया है, 'चेयर ने इसपर काफी खुशी जाहिर की कि फ्लैग फाउंडेशन ऑफ इंडिया ने हरि पर्वत किले पर 100 फीट की ऊंचाई पर एक बड़े आकार का झंडा फहराने का प्रस्ताव दिया है, जो 24 फीट x36 फीट का होगा और संभागीय प्रशासन समेत सभी स्टेकहोल्डर्स, जैसे कि आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया, केंद्र शासित प्रदेश जम्मू और कश्मीर, फॉरेस्ट डिपार्टमेंट, एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया, टूरिज्म डिपार्टमेंट से जरूरी लॉजिस्टिक सहायता मांगी गई है। '

क्या है हरि पर्वत किले का इतिहास ?

क्या है हरि पर्वत किले का इतिहास ?

यह किला श्रीनगर शहर के सामने कोह-ए-मारन पहाड़ी पर स्थित है। इस समय वहां पर सीआरपीएफ की तैनाती है और वहां जाने के लिए लोगों को इजाजत लेनी पड़ती है। पहले पर्यटन विभाग की ओर से यहां पर कई म्यूजिकल शो भी आयोजित किए जा चुके हैं। यह किला डल झील के पश्चिम की ओर मौजूद है और इसका निर्माण अफगानी गवर्नर अता मोहम्मद खान ने 18वीं सदी में करवाया था। अकबर ने भी यहां एक लंबी दीवार का निर्माण करवाया था।

हरि पर्वत किले से नजर आता है पूरा श्रीनगर

हरि पर्वत किले से नजर आता है पूरा श्रीनगर

डल झील से यह किला और किले से डल झील का नजारा बहुत ही अद्भुत दिखता है। इसी तरह ऊंची पहाड़ी पर होने की वजह से पूरे श्रीनगर से यह किला नजर आता है और किले से पूरा शहर दिखाई पड़ता है। इस पर्वत के पश्चिम की ओर माता पारवती का मंदिर है, तो किले से मखदूम साहब की दरगाह भी नजर आती है। इसी पर्वत पर एक गुरुद्वारा भी मौजूद है। (किले की तस्वीरें फाइल)

इसे भी पढ़ें-दिसंबर 2023 तक खुल जाएगा भक्तों के लिए अयोध्या का राम मंदिर: सूत्रइसे भी पढ़ें-दिसंबर 2023 तक खुल जाएगा भक्तों के लिए अयोध्या का राम मंदिर: सूत्र

अटारी बॉर्डर पर लहराएगा एशिया का सबसे ऊंचा तिरंगा

अटारी बॉर्डर पर लहराएगा एशिया का सबसे ऊंचा तिरंगा

बता दें कि हाल ही में अटारी बॉर्डर पर एशिया का सबसे ऊंचा तिरंगा फहराने का फैसला किया गया है। इसकी ऊंचाई 460 फीट होगी। अभी वहां पर जो तिरंगा है उसकी ऊंचाई 360 फीट है। सीमा के उसपार जो पाकिस्तानी झंडा इस समय मौजूद है वह 400 फीट ऊंचा है। इसी के चलते वहां पहुंचने वाले दर्शकों की इच्छा के मद्देनजर झंडे के पोल की ऊंचाई बढ़ाने की पहल की जा रही है।

English summary
Decision to hoist the tricolor 100 feet high on the historic Hari Parbat in Srinagar
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X