जब इन देश की सेनाओं ने वर्ल्ड वॉर II में 2 लाख से ज्यादा महिलाओं को वेश्या बना दिया

Posted By: Amit J
Subscribe to Oneindia Hindi

टोक्यो। वर्ल्ड वॉर II के दौरान कई पश्चिमी देशों ने एशियाई महिलाओं को वेश्यावृत्ति के लिए उपयोग किया था। इस बात का खुलासा जापान के एक मेयर और राजनेता ने किया है। जापान नेशनलिस्ट पार्टी के नेता टोरू हाशिमोटो ने दावा किया है कि जिस वक्त दुनिया में दूसरा विश्व युद्ध चल रहा था, उस वक्त सेनाओं के अनुशासन को बनाए रखने और उन्हें आराम प्रदान करने के लिए लाखों एशियाई महिलाओं को मजबूरन वेश्यावृत्ति में धकेल दिया गया। 1939 से 1945 के बीच चले दूसरे विश्व युद्ध के दौरान ज्यादातर कोरियाई महिलाओं को पर अत्याचार हुआ।

US और UK की आर्मी ने सबसे ज्यादा एशियाई महिलाओं का प्रयोग किया

US और UK की आर्मी ने सबसे ज्यादा एशियाई महिलाओं का प्रयोग किया

हाशिमोटो ने कहा कि दूसरे विश्व युद्ध के दौरान अमेरिकी और ब्रिटिश आर्मी ने सबसे ज्यादा एशियाई महिलाओं को जबरदस्ती वेश्याओं के रूप में प्रयोग किया था। उन्होंने कई बार एक ही तर्क देते हुए कहा कि मिल्ट्री में अनुशासन को बनाए रखने के लिए युद्ध के दौरान महिलाओं को सेक्स रूप में प्रयोग करना जरूरी हो गया था। हाशिमोटो साथ में यह भी कहते हैं कि इसमें जापान को बाहर रखना गलत होगा। उन्होंने आरोप लगाया कि अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी और पूर्व सोवियत संघ के सशस्त्र बलों ने महिलाओं को सेक्स के लिए सबसे ज्यादा उपयोग किया।

2 लाख से ज्यादा महिलाओं को वैश्यावृत्ति में धखेल दिया गया

2 लाख से ज्यादा महिलाओं को वैश्यावृत्ति में धखेल दिया गया

हाशिमोटो दावा करते हैं कि दूसरे विश्व युद्ध के दौरान 2 लाख से ज्यादा महिलाओं को वेश्यावृत्ति में धखेल दिया था। इस दौरान ब्रिटिश, अमेरिकी और जापान की सेनाओं ने कोरियाई प्रायद्वीप और चीन की महिलाओं को जबरदस्ती सेक्स के लिए यूज किया। उनके अनुसार, युद्ध के दौरान जब सेनाएं अलग-अलग देशों पर कब्जा कर रही थी, उस वक्त लाखों महिलाओं के खिलाफ यौन हिंसा को बढ़ावा भी मिला।

खतरनाक परिस्थितियों में जरूरत बन गई थी महिलाएं

खतरनाक परिस्थितियों में जरूरत बन गई थी महिलाएं

हाशिमोटो के अनुसार, वर्ल्ड वॉर II जब अपने चरम पर था और दुनिया भर की सेनाएं लड़ रही थी, तब उन्हें अपनी थकान को मिटाने के लिए महिलाओं को जरूरत पड़ती थी। ऐसे सॉल्जर जो खतरनाक परिस्थितियों में गोलीबारी के बीच डटे हुए थे, और तेज ठंडी हवाओं और बारिश में लड़ने के बाद उन्हें आराम के लिए महिलाओं की जरूरत पड़ती थी। उनके अनुसार, इसमें कोई दो राय नहीं है कि सेक्स के बाद नई एनर्जी के साथ अगले दिन फिर से लड़ने के लिए बाहर आना होता था।

Read Also: फिर वायरल हुआ द्वितीय विश्व युद्ध का हिस्‍टोरिकल किसिंग, जानें वजह

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Over 2 lakn women became sex slave during World War II
Please Wait while comments are loading...

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.