चीनी मीडिया: सिक्किम पर समझौते की गुंजाइश नहीं, भारत पीछे नहीं हटा, तो उठानी पड़ेगी शर्मिंदगी

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। सिक्किम सीमा पर चल रहे गतिरोध के संबंध में भारत पर ताजा दबाव डालने के बाद शनिवार को चीन ने कहा कि डोकलाम विवाद पर बातचीत के लिए कोई जगह नहीं है। बता दें कि नई दिल्ली की ओर से कहा गया है कि 'शांतिपूर्ण ढंग से' बीजिंग के मुद्दे को हल करने के लिए राजनयिक चैनलों का उपयोग कर रहा है। इसके कुछ दिनों बाद ही चीनी की सरकारी मीडिया द्वारायह टिप्पणी की गई।

डोकलाम पर ड्रैगन ने दी धमकी, कहा- बातचीत की कोई जगह नहीं, भारत होगा शर्मिंदा

सरकारी समाचार एजेंसी सिन्हुआ ने एक टिप्पणी में भारत को चेतावनी दी है कि अगर इसके सैनिक डॉकलाम के इलाके से वापस नहीं गए तो उसके बड़े नतीजे होंगे। टिप्पणी में लिखा गया है कि 'अगर भारत के अतिक्रमी बिना शर्त तरीके से बैकआउट नहीं करते हैं, तो हालात बदतर हो जाएंगे।'

टिप्पणी में कहा गया है कि 'भारत बार-बार चीन की सीमा को पार करने वाले सैनिकों को अपने क्षेत्र में डोकलाम इलाके से वापस लेने के लिए बार-बार अनदेखी कर रहा है। हालांकि, चीन की बात को ना सुनने के कारण महीनों बाद गतिरोध बिगड़ जाएंगे और भारत को खुद शर्मिंदा होना पड़ेगा।

विशेषज्ञों ने कहा...

विशेषज्ञों का कहना है कि सिन्हुआ के माध्यम से जारी किये गये बयान को बीजिंग की आधिकारिक नीति के रूप में माना जाना चाहिए, क्योंकि प्रकाशन को चीन की शक्तिशाली कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) द्वारा नियंत्रित किया जाता है। टिप्पणी में भारत को चेतावनी देने के अलावा नई दिल्ली पर चीन के खिलाफ झूठे प्रचार फैलाने का आरोप लगाया। सिन्हुआ ने कहा कि नई दिल्ली थिंपू की संप्रभुता को कमजोर करने का प्रयास कर रही है।

यह आरोप लगाया गया कि भूटान ने डोकलाम पर चीन के साथ क्षेत्रीय विवाद में 'कभी भारत के हस्तक्षेप की मांग नहीं की', जिसे बीजिंग डोंगल कहता है। भारत पर दुनिया के समक्ष 'झूठ बोलने' का आरोप लगाते हुए, चीनी सरकार के मुखपत्र ने लिखा, 'नई दिल्ली ने अपने पूर्ववर्ती भूटान, एक संप्रभु राज्य की रक्षा करने के लिए सेना को भेजा जाने से पहले चीन द्वारा अपने क्षेत्र के अतिक्रमण का दावा किया था, जो अब तक स्पष्ट रूप से है उस सीमा क्षेत्र के लिए ऐसा कोई निमंत्रण नहीं दिया।'

तब पैदा हुआ विवाद

भारतीय सेना ने चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) की सड़क निर्माण दल को डोकलाम में प्रवेश करने से रोकने के बाद जून के मध्य में सिक्किम में कड़ा विरोध शुरू हुआ। चूंकि विवाद को चार हफ्ते हो गए चीन भारत के खिलाफ अभी भी बड़बड़ा रहा है, इसके साथ ही सरकारी प्रकाशनों ने 1962 में भारत के साथ युद्ध को कई मौकों पर याद किया। हालांकि, नई दिल्ली ने संयम का प्रयोग किया है। केंद्र सरकार द्वारा शुक्रवार को आयोजित सर्वदलीय बैठक में विदेश सचिव एस जयशंकर ने विपक्षी नेताओं का आश्वासन दिया कि भारत चीन के विवाद को हल करने के लिए द्विपक्षीय ढांचे के तहत सभी राजनयिक चैनलों का इस्तेमाल करेगा।

ये भी पढ़ें: JK सीएम महबूबा ने कहा- अमरनाथ यात्रा पर हमले पर चीन को करनी चाहिए थी निंदा

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
No Room For Negotiations on Doklam- china
Please Wait while comments are loading...