• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

अमेरिका-चीन के बीच बढ़ा तनाव, चेंगदू में कोंसुलेट को छोड़ेगा US

Google Oneindia News

बीजिंग। अमेरिका और चीन के बीच तनाव लगातार बढ़ता ही जा रहा है। अमेरिका चीन पर लगातार जुबानी हमले कर रहा है। हाल ही में अमेरिका ने टेक्सस स्थित ह्यूस्टन में चीन के कोंसुलेट को बंद कर दिया था, जिसके जवाब में चीन ने चेंगदू में अमेरिका के दूतावास को बंद करने का फैसला लिया है। रिपोर्ट के अनुसार अमेरिका आज अपने मिशन को यहां खत्म करके वापस स्वदेश लौटेगा। चेंगदू में अमेरिकी मिशन के दफ्तर के बाहर अमेरिका का झंडा आधा झुका है।

 china

अमेरिका लगातार चीन पर हमलावर

अमेरिकी मिशन के सामने स्थानीय लोगों की काफी भीड़ है, लोगों के हाथ में चीन का झंडा है और लोग अमेरिकी मिशन के सामने खड़े होकर सेल्फी ले रहे हैं। अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने कहा था कि अमेरिका ने चीन के कोंसुलेट को इसलिए बंद करने का फैसला लिया क्योंकि बीजिंग बौद्धिक संपत्ति की चोरी कर रहा था। वहीं चीन के विदेश मंत्री वैंग बेनबिन ने इसके जवाब में कहा था कि अमेरिका का यह कदम चीन विरोधी झूठ के प्रचार पर आधारित है।

चेंगदू में बिगड़े हालात
चेंगदू की बात करें तो चीन की मीडिया के अनुसार कई यूएस कोंसुलेट से कई गाड़ियां, अमेरिकी डिप्लोमैट को जाते हुए दिखाया जा रहा है। दर्जनों चीनी पुलिसकर्मियों को यहां तैनात किया गया है। यहां लोगों की भीड़ से अपील की जा रही है कि वह यहां इकट्ठा ना हो और किसी भी तरह से भड़काने का काम मनहीं करें। लेकिन इस दौरान भीड़ की ओर से नारेबाजी को सुना जा सकता है। बता दें कि चेंदगू कोंसुलेट की स्थापना 1985 में हुई थी। यहां तकरीबन 200 कर्मचारी तैनात थे।

Recommended Video

    China को Russia ने दिया बड़ा झटका, S-400 Missiles की डिलीवरी को किया रद्द | वनइंडिया हिंदी

    क्यों बिगड़े अमेरिका-चीन के रिश्ते
    बता दें कि पिछले कुछ समय से चीन और अमेरिका के बीच आपसी संबंध बिगड़ते जा रहे हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप कई बार चीन के खिलाफ बयान दे चुके हैं। वह कोरोना वायरस के संक्रमण के लिए चीन को जिम्मेदार ठहरा चुके हैं। इसके अलावा ट्रेड डील को लेकर भी दोनों देशों के बीच काफी तकरार देखने को मिली है। इसके अलावा अमेरिका ने हॉन्गकॉन्ग में नए कानून का भी खुला विरोध किया था। पिछले हफ्ते की बात करें तो सिंगापुर के एक व्यक्ति ने यूएस की कोर्ट में कबूल किया है कि वह चीन के एजेंट के तौर पर काम कर रहा था। यही नहीं चीनी व्यक्ति को अमेरिका के वीजा के फर्जीवाड़े का भी दोषी करार दिया गया था और कहा गया था कि इस व्यक्ति ने कथित तौर पर यह झूठ कहा था कि उसने चीन की सेना में काम नहीं किया था। इन तमाम मुद्दों के चलते पिछले कुछ समय में अमेरिका और चीन के बीच रिश्ते काफी ज्यादा बिगड़े हैं।

    इसे भी पढ़ें- एयर इंडिया ने बनाया पैनल, बिना सैलरी छुट्टी पर भेजने के लिए देगा कर्मचारियों के नामइसे भी पढ़ें- एयर इंडिया ने बनाया पैनल, बिना सैलरी छुट्टी पर भेजने के लिए देगा कर्मचारियों के नाम

    Comments
    English summary
    AMid tension US diplomat to leave Chengdu consulate American flag lowered.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X