• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जानिए, क्या है पुडुचेरी CM नारायणसामी और दिल्ली CM अरविंद केजरीवाल में समानता ?

|

बेंगलुरू। मुख्यमंत्री वी नारायणसामी केंद्रशासित प्रदेश पुड्डचेरी को ट्रांसजेंडर प्रदेश घोषित करने की मांग की है। पुडुचेरी की उपराज्यपाल किरण बेदी से अदावत के लिए मशहूर नारायणसामी इस बार केंद्र की मोदी सरकार पर हमला करते हुए कहा है कि केंद्र सरकार को पुडुचेरी के साथ मनमाना सुलूक करती है।

BEDI

उनका मानना है कि केंद्रशासित प्रदेश होने के कारण जनता की चुनी हुई सरकार को पुडुचेरी को काम नहीं करने दिया जाता है। उप राज्यपाल किरण बेदी पर प्रदेश के कामकाज और फैसलों पर जबरन दखलदांजी का आरोप लगाते हुए नारायणसामी ने कहा कि पुडुचेरी को केंद्र सरकार को ट्रांसजेंडर घोषित कर देना चाहिए, क्योंकि पुडुचेरी की चुनी हुई सरकार कोई भी फैसला करने में अक्षम है।

पुडुचेरी के उपराज्यपाल कामकाज के तरीके के बड़े आलोचक मुख्यमंत्री नारायणसामी किरण बेदी की तुलना कर चुके हैं और उन्हें जर्मन तानाशाह एडोल्फ हिटलर की 'बहन तक बता चुके हैं। नारायणसामी मंत्रिमंडल के फैसलों पर जब एलजी कैंची चलाती हैं, तो नारायणसामी आपे से बाहर हो जाते है।

BEDI

मीडिया को बयान देते हुए नारायणसामी ने एक बार कहा कि जब एलजी किरण बेदी उनके फैसलों को नकारती हैं तो उनका खून 'खौल' जाता है। हालांकि नारायणसामी और किरण बेदी की अदायत तब से हैं जब उन्हें पुडुचेरी का राज्यपाल नियुक्त किया गया था और उनके एलजी बनने के बाद से ही नारायणसामी किरण बेदी के तेज-तर्रार रवैये से नाराज हो गए।

किरण बेदी के कामकाज के तरीकों पर सवाल उठाने वाले नारायणसामी ने आरोप हुए नारायणसामी का कहना है कि एलजी चुनी हुई सरकार के फैसलों को ठुकराकर सरकार के नियमित कामकाज में 'बेवजह' दखल देती है। हालांकि सीएम नारायणसामी की शिकायत हूबहू केंद्रशासित प्रदेश दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की तरह हैं, जो दिल्ली के उप राज्यपाल नजीब जंग से अदावत के लिए मशहूर हैंं।

BEDI

नारायणसामी ने पुडुचेरी की सरकार के साथ केंद्र सरकार द्वारा अनुचित व्यवहार का आरोप लगाते हैं कि पुडुचेरी में जीएसटी लागू करते समय राज्य की तरह व्यवहार किया जाता है, लेकिन जब ऐसी योजनाओं की बात आती है, जिन्हें पुडुचेरी में लागू करने की जरूरत होती है तो उन्हें केंद्रशासित प्रदेश बता दिया जाता है।

उदाहरण देते हुए मुख्यमंत्री नारायणसामी कहते हैं कि केंद्रशासित प्रदेश पुडुचेरी को केंद्र सरकार द्वारा केवल 1570 करोड़ का फंड दिया गया है, जबकि यह लगभग 3500 करोड़ का है। केंद्र पर पुडुचेरी के साथ भेदभाव किए जाने का आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र शासित प्रदेशों के साथ केंद्र अलग-अलग तरह से रवैया करता है।

BEDI

केंद्रशासित प्रदेश के रूप में पुडुचेरी की सीमितता और फैसलों में केंद्रशासित प्रदेश अनिवार्यता पर खीझते हुे नारायणसामी कहते हैं कि चूंकि पुडुचेरी न पूरी तरह से राज्य है और पूरी तरह से केंद्रशासित प्रदेश है इसलिए उन्होंने पुडुचेरी को ट्रांसजेंडर घोषित करने की मांग की है।

उल्लेखनीय है एलजी किरण बेदी और मुख्यमंत्री नारायणसामी के बीच अदावत की शुरूआत जनवरी, 2017 में हुई जब किरण बेदी ने सीएम नारायणसामी के एक आदेश को निरस्त कर दिया है। नारायणसामी ने आर्डर दिया था कि अधिकारी कामकाज के दौरान सोशल मीडिया का इस्तेमाल नहीं करेंगे।

नारायणसामी को एलजी किरण बेदी द्वारा पुडुचेरी सरकार द्वारा फैसले की खिलाफत करने और सोशल नेटवर्किंग साइट ट्विटर के माध्यम से उनके फैसले की आलोचना करना पसंद नहीं आया थाा। एलजी किरण बेदी ने ट्विवटर पर सीएम नारायणसामी के फैसले के खिलाफ लिखा था, यदि प्रगतिशील रहना है तो संचार में पीछे नहीं हो सकते।

BEDI

वहीं, हाल ही में सिंगापुर यात्रा को लेकर भी नारायणसामी और एलजी किरण बेदी के बीच जुबानी जंग छिड़ गई थी। सीएम नारायणसामी का आरोप है कि केंद्र सरकार की मंजूरी के बाद ही उद्योग मंत्री शाहजहां और द्रमुक विधायक शिवा के साथ सिंगापुर गए थे और उन्होंने खुद ही यात्रा का खर्च उठाया था, लेकिन उपराज्यपाल ने जबरन उनकी सिंगापुर यात्रा पर सवाल उठाए।

BEDI

बकौल नारायणसामी, हमें अपनी यात्रा के लिए बेदी की मंजूरी की जरूरत नहीं है, क्योंकि पुडुचेरी सरकार उनकी नौकर या गुलाम नहीं हैं। दरअसल, एलजी किरण बेदी ने मंत्रियों के सिंगापुर यात्रा की समुचित मंजूरी को लेकर सवाल उठाया था।

CM नारायणसामी के बिगड़े बोल, किरण बेदी को कहा 'राक्षस', लगाए गंभीर आरोप

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Chief Minister Narayanasamy, who questioned the ways of functioning of Lt. Governor Kiran Bedi of Puducherry, says that LG 'unnecessarily' interferes with the routine functioning of the government by rejecting the decisions of the elected government. However, CM Narayanasamy's complaint is similar to that of Union Territory of Delhi Chief Minister Arvind Kejriwal, who was once known for his defiance from Delhi's Deputy Governor Najeeb Jung.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more