• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

आप भी खुद से तो नहीं खा लेते लाल पट्टी वाली दवा, ऐसा करना हो सकता है खतरनाक

|

नई दिल्ली। भारतीयों में अक्सर हर घर में एक ऐसा इंसान जरूर होता है जो अपने आप को डॉक्टर समझता है। ज्यादातर लोग ऐसे होते हैं जो बीमार होने पर बिना डॉक्टर की सलाह पर मेडिकल स्टोर से दवाई लेकर खा लेते हैं। यह आदत आपके लिए काफी खरनाक साबित हो सकती है क्योंकि लक्षणों के आधार पर और बिना डॉक्टर की सलाह पर दवाई खाना आपकी जान भी ले सकता है। इसलिए दवाइयां हमेशा डॉक्टर के परामर्श के बाद ही खाने की सलाह दी जाती है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने किया आगाह

स्वास्थ्य मंत्रालय ने किया आगाह

हाल ही में इस सिलसिलें में स्वास्थ्य मंत्रालय ने आगाह करते हुए एक ट्वीट किया है। स्वास्थ्य मंत्रालय की पोस्ट में बताया गया है कि दवाई हमेशा डॉक्टर की सलाह पर ही लें। स्वास्थ्य मंत्रालय के ट्वीट में यह भी बताया गया है कि किन दवाइयों को डॉक्टर की सलाह पर लेना चाहिए। स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों को जागरूक करते हुए अपील की है कि जिम्मेदार बनें और बिना डॉक्टर की सलाह के लाल लकीर वाली दवाई की पत्ती से दवाइयां न खायें। आप जिम्मेदार, तो दवाई असरदार।

लाल पट्टी मतलब खतरा!

लाल पट्टी मतलब खतरा!

स्वास्थ्य मंत्रालय के ट्वीट में लाल पट्टी की दवाइयों के प्रति ज्यादा सावधानी बरतने को कहा गया है। लेकिन क्या आप जानते हैं दवाई के रैपर पर लाल पट्टी का मतलब क्या होता है? अगर नहीं तो हम आपको बताते हैं। सबसे पहले तो अगर आप लाल पट्टी वाली कोई दवाई देखते हैं तो उसे बच्चों से दूर कहीं सुरक्षित स्थान पर रखें। ऐसे दवाइयों को डॉक्टरों की सलाह के बिना कभी नहीं लेना चाहिए।

मेडिकल स्टोर से जरूर ले लें पर्ची

मेडिकल स्टोर से जरूर ले लें पर्ची

अक्सर एंटीबायोटिक्स की दवाइयों की पत्ति पर ऐसी लाल पट्टी देखाई देती है। लाल का मतलब होता है खतरा, इसलिए इन दवाइयों पर लाल पट्टी दी जाती है। सिर्फ वही दावाइयां खाएं जिसे डॉक्टर द्वारा सत्यापित किया गया हो, साथ ही दवाइयां तभी अपना असर दिखाएंगी जब आप उसका कोर्स पूरा करेंगे। इसके साथ ही अगर कभी मेडिकल स्टोर पर दवाई खरीदने जाएं तो लाल दवाइयों की रसीद जरूर ले लें।

ऐसी दवाइयों के लिए बनाए गए हैं नियम

लाल पट्टी वाली दवाइयों के लिए स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा कुछ नियम बनाए गए हैं जिसका पालन करना मेडिकल स्टोर के लिए भी अनिवार्य होता है। ऐसी दवाइयों को मेडिकल स्टोर वाले भी बिना रसीद के नहीं बेच सकते। इसलिए जब भी ऐसी दवाई लें उससे पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लें और मेडिकल स्टोर से रसीद भी लें। इसके अलावा आपको इसबात की जानकारी अपने आसपास के लोगों को भी देनी चाहिए ताकी वह भी सुरक्षित जीवन जी सकें।

यह भी पढ़ें: Jio का दबदबा, Reliance Jio बनी देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी,जानिए TOP 3 में कौन-कौन

English summary
What is the meaning of red streak on the medicine wrapper definitely take the doctor's advice before eating
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X