• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

शिवपाल यादव का बड़ा हमला, कहा-मुलायम के ही कहने पर नई पार्टी बनाई थी लेकिन अब वो बेटे के साथ...

|

लखनऊ। एक बार फिर से शिवपाल यादव ने अपने एक बयान से लोगों को चौंका दिया है, रविवार को बलिया में समाजवादी पार्टी से अलग होकर प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) पार्टी बनाने वाले पूर्व मंत्री शिवपाल सिंह यादव ने कहा है कि सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव के कहने पर ही उन्होंने अलग पार्टी बनाई थी, वो केवल उन्हें अपना बड़ा भाई ही नहीं मानते हैं बल्कि अपना गुरु भी मानते हैं लेकिन अब अगर वो सपा प्रमुख अखिलेश यादव के साथ हैं तो वो भी अब पीछे मुड़कर नहीं देखेंगे।

 शिवपाल यादव का मुलायम सिंह यादव पर बड़ा हमला

शिवपाल यादव का मुलायम सिंह यादव पर बड़ा हमला

शिवपाल ने कहा कि उन्होंने मुलायम के ही कहने पर प्रसपा बनाई थी. मुलायम आज अखिलेश के साथ क्यों खड़े हैं, इसका जवाब वह ही दे सकते हैं, लेकिन इतना तय है कि अब वह पीछे मुड़कर नहीं देखेंगे, उनकी पूरी कोशिश डॉक्टर राम मनोहर लोहिया, चौधरी चरण सिंह और गांधीवादी लोगों को एकजुट करके पार्टी को मजबूत करने की है।

यह पढ़ें: CAA: अदनान सामी ने रजा मुराद को दिया करारा जवाब, कहा-मैंने सोचा था कि ये केवल पर्दे पर ही विलेन...यह पढ़ें: CAA: अदनान सामी ने रजा मुराद को दिया करारा जवाब, कहा-मैंने सोचा था कि ये केवल पर्दे पर ही विलेन...

'मुलायम की बात को तवज्जो नहीं देने के कारण ही सपा टूटी'

'मुलायम की बात को तवज्जो नहीं देने के कारण ही सपा टूटी'

शिवपाल यादव से जब पूछा गया कि क्या मुलायम इन दिनों उन्हें छोड़कर अखिलेश के कार्यक्रमों में शिरकत करने लगे हैं, तब उन्होंने कहा कि अब क्या कहें, जो है वो सामने ही है,मुलायम की बात को तवज्जो नहीं देने के कारण ही सपा में विघटन हुआ, इसी कारण सपा की दोबारा सरकार नहीं बनी, नहीं तो अखिलेश फिर मुख्यमंत्री बनते, विघटन तकी वजह से ही सपा की हार हुई वरना ये होता नहीं।

पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा)

पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा)

गौरतलब है कि शिवपाल ने सपा से अलग होकर अक्टूबर 2018 में नई पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) बना ली थी, शिवपाल ने भविष्य में भाजपा से गठबंधन से इंकार करते हुए दावा किया कि भाजपा की तरफ से तालमेल को लेकर कई बार बातचीत की गई, लेकिन उन्होंने उससे किसी भी तरह के गठबंधन से इंकार कर दिया था।

यह पढ़ें: Pariksha Pe Charcha 2020: पीएम मोदी करेंगे 'परीक्षा पर चर्चा', जानेंगे छात्रों के मन की बातयह पढ़ें: Pariksha Pe Charcha 2020: पीएम मोदी करेंगे 'परीक्षा पर चर्चा', जानेंगे छात्रों के मन की बात

English summary
Shivpal Yadav, who has never been openly critical of his brother before, said he had formed his party "only with the consent" of Mulayam Singh.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X