सुप्रीम कोर्ट ने सहारा से पूछा निवेशकों को बांटे गए 18,000 करोड़ रुपए कहां से आए?

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने सहारा समूह से पूछा है कि वो बताएं कि निवेशकों को जो 18000 करोड़ रुपए लौटाने का दावा किया जा रहा है। आखिर वो पैसा आया कहां से है।

subrata roy

इसके स्रोत की जानकारी सुप्रीम कोर्ट ने सहारा समूह से मांगी है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस​ बात पर विश्वास करना क​ठिन है कि इतने कम समय में इतना ज्यादा पैसा आया कहां से। इस मामले की अगली सुनवाई अब 16 सितंबर को होगी।

भारत बंद: कैसे तय होता है न्यूनतम वेतन, जानिए जरूरी बातें

सुप्रीम कोर्ट ने सहारा समूह से कहा है कि अगर निवेशकों को लौटाए गए पैसों का स्रोत अगर आप हमें बता दें तो हम इस पूरे पेंडोरा बॉक्‍स को ही बंद कर देंगे।

500 करोड़ सुप्रीम कोर्ट में जमा करने के बाद पेरोल पर

आपको बताते चलें कि निवेशकों का पैसा न लौटाने को लेकर सहारा समूह पर कार्रवाई की गई थी। इसके चलते सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय कई महीने तक जेल में ही समय गुजाराा था। सुब्रत रॉय इस समय 500 करोड़ सुप्रीम कोर्ट में जमा करने के बाद पेरोल पर हैं। सुप्रीम कोर्ट ने पहले भी समूह के बैंक अकाउंट फ्रीज करने और संपत्तियों की खरीद-फरोख्‍त पर रोक लगा दी थी। पर बाद में विदेशों की संपत्ति को बेचने के लिए सुब्रत रॉय को कुछ मोहलत दी थी।

JIO के विज्ञापन में मोदी की तस्वीर पर केजरीवाल ने घेरा

सेबी कोर्ट के सामने सही तथ्‍य नहीं रख रहा

सहारा समूह अभी तक सेबी को 18,000 करोड़ रुपये से ज्यादा रकम दे चुका है। सुप्रीम कोर्ट ने एक आदेश में बताया था कि सहारा समूह की देनदारी 36,000 करोड़ रुपये की है। सहारा समूह ने सेबी पर आरोप लगाते हुए कहा कि सेबी कोर्ट के सामने सही तथ्‍य नहीं रख रहा है। सहारा समूह ने कहा था कि लंदन और न्यूयॉर्क में स्थित होटलों की अपनी हिस्सेदारी को कतर इन्वेस्टमेंट अथॉरटी को बेचने में लगा हुआ है।

भारत बंद के दौरान पश्चिम बंगाल में हिंसक झड़प, पब्लिक ट्रांसपोर्ट पर लगा ब्रेक

सहारा प्रमुख बैंक गारंटी के तौर पर 300 करोड़ देने को तैयार

सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय की ओर से सुप्रीम कोर्ट में कहा गया है कि वह 300 करोड़ रुपये सेबी के पास जमा करने के लिए तैयार हैं।

सुब्रत रॉय की ओर से कहा कि सेक्युरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड (सेबी) में जमा की जाने वाली इस रकम को बैंक गारंटी के तौर पर समायोजित किया जाए। सहारा प्रमुख की ओर से 300 करोड़ रुपये देने के मामले में कोर्ट अगले हफ्ते सुनवाई करेगा।

इससे पहले 3 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय के पैरोल की अवधि 16 सितंबर तक के लिए बढ़ा दी थी। कोर्ट ने उन्हें जेल से बाहर रहने के लिए 300 करोड़ रुपये और जमा करने के लिए कहा था।

केंद्र के फैसले के खिलाफ एकजुट हुए ट्रेड यूनियन, जानिए आखिर आज भारत बंद क्यों है?

इससे पहले 3 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने सहारा प्रमुख सुब्रत रॉय के पैरोल की अवधि 16 सितंबर तक के लिए बढ़ा दी थी। कोर्ट ने उन्हें जेल से बाहर रहने के लिए 300 करोड़ रुपये और जमा करने के लिए कहा था।

इससे पहले उच्चतम न्यायालय ने बैंक गारंटी के तौर पर पांच हजार करोड़ रुपये की रकम जुटाने के लिए सहारा समूह को संपत्ति बेचने की इजाजत दी थी। वहीं जमानत के लिए पांच हजार करोड़ रुपये और जमा करने के लिए कहा गया था।आपको बता दें कि मां की मृत्यु की बाद सुब्रत रॉय और समूह के दो निदेशकों को सुप्रीम कोर्ट ने पैरोल दी थी। 11 मई को उनकी पैरोल की अवधि और दो महीने के लिए बढ़ा दी गई थी।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
SC asks Sahara to tell source of money which it claims to have refunded to investors.
Please Wait while comments are loading...