• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

71वें गणतंत्र दिवस पर PM मोदी ने तोड़ी 48 साल पुरानी परंपरा, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर दी श्रद्धांजलि

|

नई दिल्ली। पूरे देश में आज (26 जनवरी) बड़ी धूमधाम के साथ गणतंत्र दिवस मनाया जा रहा है। इस मौके पर देश के विभिन्न हिस्सों में झंडा फहराया गया। राजपथ पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राष्ट्रीय झंडा फहराकर देश को गणतंत्र दिवस की बधाई दी। बता दें कि इस बार के गणतंत्र दिवस पर ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर मेसियस बोलसोनारो मुख्य अतिथि के रूप में भारत पधारे हैं।

भारत मना रहा है 71वां गणतंत्र दिवस

भारत मना रहा है 71वां गणतंत्र दिवस

मालूम हो कि वर्ष 2020 में भारत अपना 71वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। इस मौके पर राजपथ पर परेड देखने हजारों की संख्या में लोग पहुंचे हैं। ब्राजील के राष्ट्रपति जेयर मेसियस बोलसोनारो ने भी राजपथ पर भारत की मेहमान नवाजी देखी जब देश के राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने खुद उनकी अगवानी की। 71वां गणतंत्र दिवस एक और मौके की वजह से खास बन गया है, यहां पीएम मोदी ने एक नई परंपरा की शुरुआत की है।

पीएम मोदी ने की नई परंपरा की शुरुआत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गणतंत्र दिवस पर चली आ रही 48 साल की परंपरा को तोड़कर एक नए रिवाज की शुरुआत की। रविवार को राजपथ पर परेड से पहले पीएम मोदी इंडिया गेट के पास नवनिर्मित राष्ट्रीय युद्ध स्मारक जाकर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। पीएम मोदी के इस कदम से हर कोई हैरान था क्योंकि इससे पहले खुद पीएम मोदी और भारत के पूर्व प्रधानमंत्री युद्धवीरों की शहादत को सलाम करने इंडिया गेट स्थित अमर जवान ज्योति पर जाते थे।

पीएम मोदी के साथ मौजूद रहे ये दिग्गज

राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में पीएम मोदी के अलावा सीडीएस जनरल बिपिन रावत, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह आर्मी चीफ एमएम नरवणे, नेवी चीफ एडमिरल करमबीर सिंह और एयरफोर्स चीफ आरकेएस भदौरिया मौजूद रहे और उन्होंने भी शहीदों को श्रद्धांजलि दी। पीएम मोदी ने 71वें गणतंत्र दिवस पर एक नई परंपरा की शुरुआत करते हुए अमर जवान ज्योति पर श्रद्धांजलि देने के बजाए राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में शहीदों को श्रद्धांजलि दी।

भारत के पहले सीडीएस ने समारोह में लिया हिस्सा

मालूम हो कि इंडिया गेट स्थित अमर जवान ज्योति को 1971 में भारत-पाकिस्तान के युद्ध में शहीद हुए जवानों की याद में बनवाया गया था। 1972 में अमर जवान ज्योति के तैयार होने के बाद से भारती सेना के तीनों प्रमुख स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस और अन्य मौकों पर यहीं श्रद्धांजलि दिया करते थे। इस साल का गणतंत्र दिवस समारोह एक और मौके के लिए याद किया जाएगा। वह यह कि भारत के पहले सीडीएस बिपिन रावत भी गणतंत्र दिवस समारोह में हिस्सा ले रहे हैं।

गणतंत्र दिवस: राजपथ पर ब्राजील के राष्ट्रपति ने देखी भारत की मेहमान नवाजी, राष्ट्रपति कोविंद के साथ पहुंचे

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
PM Modi broke 48 years old tradition on 71st Republic Day
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X