• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

National Technology Day: 11 मई को ही क्यों मनाया जाता है नेशनल टैक्नोलॉजी डे? अटल बिहारी वाजपेयी से खास रिश्ता

|

नई दिल्ली। आज देश में राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी दिवस यानी नेशनल टेक्‍नोलॉजी डे मनाया जा रहा है। 11 मई 1998 से इस दिन की शुरुआत हुई थी और यह दिन भारत के इतिहास में एक अलग स्‍थान रखता है। 22 साल पहले 11 मई को राजस्‍थान के पोखरण में भारत ने सफल परमाणु परीक्षण किया था। परमाणु परीक्षणों ने भारत को दुनिया के नक्‍शे में एक अलग जगह दिलाई थी। जब-जब 11 मई का जिक्र होगा, पोखरण परमाणु परीक्षण का जिक्र हमेशा होगा और उसके साथ पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को भी याद किया जाएगा।

यह भी पढ़ें-गाजी हैदर उर्फ 'डॉक्‍टर' सैफ कश्‍मीर में हिजबुल का नया आका

    National Technology Day: Nuclear test कर जब India बना था दुनिया का ताकतवर मुल्क | वनइंडिया हिंदी
    भारत ने किए पांच सफल न्‍यूक्लियर टेस्‍ट्स

    भारत ने किए पांच सफल न्‍यूक्लियर टेस्‍ट्स

    11 मई 1998 को पोखरण न्‍यूक्लियर टेस्‍ट रेंज में सेना ने पांच परमाणु बमों का सफल टेस्‍ट किया था। जोधपुर में आने वाले पोखरण में भारतीय सेना ने ऑपरेशन शक्ति-1 परमाणु मिसाइल को सफलतापूर्वक फायर किया था और यह पोखरण में पांच परमाणु टेस्‍ट्स में पहला था। भारत ने पोखरण में हुए परमाणु परीक्षणों को ऑपरेशन शक्ति कोडनेम दिया था। शक्ति मिसाइल के सफल टेस्‍ट की वजह से भी 11 मई को टेक्‍नोलॉजी डे के तौर पर याद किया जाता है। पोखरण परमाणु परीक्षण को 'मिसाइलमैन' कहे जाने वाले पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने लीड किया था।

    भारत बन गया एक Nuclear powered देश

    भारत बन गया एक Nuclear powered देश

    इन परीक्षणों के बाद तत्‍कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने भारत को एक परमाणु शक्ति संपन्न देश घोषित किया था। इन सफल परीक्षणों के बाद भारत दुनिया के परमाणु क्लब देशों में शामिल होने वाला छठा देश बना गया था। यह भारत का दूसरा भारतीय परमाणु परीक्षण था। पहला परीक्षण मई 1974 में किया गया था। 11 और 13 मई 1998 को राजस्थान के पोरखरण परमाणु स्थल पर पांच परमाणु परीक्षण किए थे। इन परमाणु परीक्षण के बाद जापान और अमेरिका समेत प्रमुख देशों ने भारत के खिलाफ विभिन्न प्रकार के प्रतिबंधों लगाए गए थे।

    अमेरिका के साथ पूरा विश्‍व था हैरान

    अमेरिका के साथ पूरा विश्‍व था हैरान

    भारत ने पूरी दुनिया को अपनी शक्ति का परिचय दिया। इन परीक्षणों के बाद अमेरिका जैसे देश भी हैरान थे कि आखिर भारत ने उनकी खुफिया एजेंसी सीआईए के सैटलाइट्स को कैसे चकमा दे दिया। ललित मान सिंह उस समय विदेश मंत्रालय के सचिव थे। 11 मई 1998 को दोपहर 15.45 बजे भारत ने पोखरण रेंज में तीन अंडरग्राउड न्यूक्लियर टेस्ट्स किए। इसके बाद 13 मई को भी भारत ने दो न्‍यूक्लियर टेस्‍ट्स किए।

    इसी दिन हंस और त्रिशूल मिसाइल का टेस्‍ट

    इसी दिन हंस और त्रिशूल मिसाइल का टेस्‍ट

    पोखरण परीक्षण रेंज पर पांच टेस्‍ट्स के साथ भारत पहला ऐसा परमाणु शक्ति संपन्न देश भी बना, जिसने परमाणु अप्रसार संधि (सीटीबीटी) पर साइन नहीं किए थ। 11 मई को ही भारत के स्वदेशी एयरक्राफ्ट हंस ने पहली उड़ान भरी थी। हंस-1 को नेशनल एयरोस्‍पेस लैबोरेट्रीज की तरफ से डेवलप किया था। 11 मई 1998 को ही डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) ने ही त्रिशूल मिसाइल का आखिरी परीक्षण किया था।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    National Technology Day: Know why the day is celebrated every year on 11th May only.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X