• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

न्यूनतम वेतन को लेकर मोदी सरकार का बड़ा फैसला, कैबिनेट में पास हुआ वेज कोड बिल

|

नई दिल्ली। मोदी सरकार ने न्यूनतम वेतन को लेकर बड़ा फैसला किया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में वेज कोड विल पास कर दिया गया। मोदी सरकार लेबर लॉ की संख्या को घटाना चाहती है। सरकार लेबर लॉ की संख्या को 44 से घाटकर 4 कर देना चाहती है।

Modi Government Big Dicision: Cabinet approves Code on Wages bill

कैबिनेट द्वारा पास किया गया वेज कोड बिल पहली बार बजट सेशन में पेश किया जाएगा। इसकी मदद से देश के अलग-अलग इलाकों में न्यूनतम वेतन के फर्क को कम किया जा सकेगा। आपको बता दें कि वेज बिल 2017 को पहली बार अगस्त 2017 में संसद में पेश किया गया था, जिसके बाद इसे जांच के लिए संसदीय समिति के पास भेज दिया गया। श्रम मंत्रालय इस बिल को बजट सत्र में पास कराने की कोशिश करेगी। इस बिल में पेमेंट ऑफ वेज एक्ट-1936, मिनिमम वेज एक्ट-1949, पेमेंट ऑफ बोनस एक्ट-1965 और इक्वल रेमुनरेशन एक्ट-1976 को एक कोड में शामिल किए जाने की तैयारी है।

इस बिल का लाभ देश भर के अलग अलग इलाकों में कामगारों को होगा। जिससे अलग-अलग इलाकों के लिए एक समान न्यूनतम वेतन का प्रस्ताव रखा गया। इस बिल के पास होने के बाद कोई भी तय वेतन से कम पैसों पर काम नहीं करा सकता है। बिल के मुताबिक इस वेतन को हर 5 साल के बाद रिवाइज किया जाएगा।

पढ़ें-SBI खाताधारकों के लिए बड़ी खबर, इस नियम में हुआ बदलाव, 42 करोड़ ग्राहकों पर असर

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The Union Cabinet Wednesday approved the Code on Wages Bill which seeks to subsume existing laws related to workers remuneration and enable the Centre to fix minimum wages for the entire country.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more