• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

तीन तलाक कानून को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती, याचिका दायर कर रद्द करने की मांग

|

नई दिल्ली। मोदी सरकार द्वारा हाल ही तीन तलाक पर बने नए कानून को शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी गई। सुप्रीम कोर्ट में केरल स्थित मुस्लिम संगठन केरल जामियतुल उलेमा ने जबकि दिल्ली हाईकोर्ट में एक वकील ने इस नए कानून के खिलाफ याचिका दायर की है। सर्वोच्च अदालत में इस कानून के खिलाफ दायर याचिका में कहा गया कि यह कानून संविधान के अनुच्छेद 14, 15 और 21 में मिले मौलिक अधिकारों का उल्लंघन करते हैं। लिहाजा इस कानून को असंवैधानिक घोषित किया जाए।

Law on triple talaq was challenged in the Supreme Court and the Delhi High Court on Friday

समस्त केरल जामियतुल उलेमा और दिल्ली के वकील शाहिल अली ने बिल के खिलाफ याचिका दायर की है और उनका दावा है कि बिल संविधान के अनुच्छेद 14, 15 और 21 का उल्लंघन है और इसे खारिज कर देना चाहिए। समस्त केरल जमीयतुल उलेमा' केरल में सुन्नी मुस्लिम स्कॉलर और मौलवियों का एक संगठन है। बता दें कि लोकसभा और राज्यसभा में कानून के पारित होने के बाद राष्ट्रपति ने इसे मंजूरी दे दी है और उसके अगले ही दिन इस नए बने कानून के खिलाफ याचिका दायर की गई है।

संगठन की ओर से दाखिल याचिका में कहा गया है कि, कानून को दंडात्मक बनाया गया है, वह भी धार्मिक पहचान के आधार पर किसी खास वर्ग के लिए। अगर इसपर रोक नहीं लगाई गई तो यह समाज में सौहार्द खत्म करेगा और ध्रुवीकरण पैदा करेगा। धारा 4 के तहत 3 साल की सजा का प्रावधान है, जब मुस्लिम पति तीन तलाक बोलेगा। धारा 7 के तहत यह संज्ञेय और गैर-जमानती अपराध बताया गया है।

वहीं दिल्ली हाईकोर्ट में शाहिद अली द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि यह पति और पत्नी के बीच समझौता करने की सभी गुंजाइशों को खत्म कर देगा। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 31 जुलाई को तीन तलाक बिल को मंजूरी दे दी जिसके साथ ही तीन तलाक कानून अस्तित्व में आ गया है. यह कानून 19 सितंबर 2018 से लागू माना जाएगा. तीन तलाक बिल संसद के दोनों सदनों से पहले ही पास हो चुका है।

महबूबा मुफ्ती बोलीं- पीएम मोदी कश्मीर के लोगों का दिल जीतने की बात करते हैं, फिर इतनी हलचल क्यों?

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Law on triple talaq was challenged in the Supreme Court and the Delhi High Court on Friday
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X