घाटी में एक बार फिर से हो रही है आतंकियों की बंपर भर्ती, सेना ने जारी की हिट लिस्ट

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    नई दिल्ली। जम्मू कश्मीर में आतंकियों की भर्ती में जबरदस्त बढ़ोतरी देखने को मिली है। हिजबुल मुजाहिदीन और जैश-ए-मोहम्मद सोशल मीडिया के माध्यम से बड़ी संख्या में लोगों की भर्ती कर रहे हैं। जानकारी के अनुसार पिछले कुछ दिनों में तकरीबन 75 फीसदी भर्ती दक्षिण कश्मीर से की गई है, जिसमे चार जिले सबसे अहम हैं जहां से युवाओं को इन आतंकी गुट में शामिल किया गया है। गौर करने वाली बात यह है कि सेना के लगातार आतंकियों के अभियान के बावजूद बड़ी संख्या में आतंकियों की भर्ती का सिलसिला थम नहीं रहा है।

    2011 में कम थी भर्ती

    2011 में कम थी भर्ती

    वर्ष 2011 की तुलना में 2017 तक युवाओं की आतंकी गुट में भर्ती की संख्या काफी बढ़ी है। 2011 में कुल 23 आतंकियों की भर्ती की गई थी, जबकि 2017 तक यह बढ़कर 100 तक पहुंच गई है। हिजबुल मुजाहिदीन में सबसे अधिक युवाओं की भर्ती हुई है। आईबी रिपोर्ट की मानें तो तकरीबन 50 युवा हिजबुल में भर्ती हुए हैं, यह मुख्य रूप से कश्मीर के बारामूला में भर्ती हुए हैं। आईबी ने बारामूला और शोपियां की पहचान की है जहां सबसे अधिक आतंकियों की गतिविधी है।

    आतंकियों की धमकी

    आतंकियों की धमकी

    इन दोनों ही जिलों में बड़ी संख्या में आतंकियों की मौजूदगी की बात आईबी रिपोर्ट में कही गई है, ऐसे में सेना का यहां काउंटर ऑपरेशन काफी है। आईबी के अधिकारी ने बताया कि जैश ए मोहम्मद को हिजबुल का समर्थन प्राप्त है और उसने खुले तौर पर कहा है कि वह आतंकियों की मौत का बदला लेंगे। जैश के प्रवक्ता की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि वह हमारे साथियों के एकृ-एक खून का बदला लेंगे और यह जिहाद कश्मीर की आजादी के लिए जारी रहेगा। हिजबुल को अकेला नहीं महसूस करना चाहिए, जैश के फिदायीन उनके साथ हैं, हम एक साथ मिलकर इसका बदला लेंगे।

    बड़ी घटना को दे सकते हैं अंजाम

    बड़ी घटना को दे सकते हैं अंजाम

    एक बड़ी चिंता का विषय यह है कि रमजान करीब आ रहे हैं, साधारण तौर पर आतंकी इस महीने में अपनी गतिविधियों को रोक देते हैं, ऐसे में माना जा रहा है कि इसी वजह से आतंकी इस वक्त अधिक भड़काऊ बयान जारी कर रहे हैं। आईबी के अधिकारी ने वनइंडिया को बताया कि ये ऑपरेशन काफी अहम हैं। एक बार फिर से आतंकियों ने अपने फन घाटी में उठाने शुरू कर दिए हैं। जो आतंकी एनकाउंटर में मारे गए हैं वह स्थानीय लोग हैं और यह लोग एक और बड़ी घटना को अंजाम देने की कोशिश कर रहे हैं।

    सेना की नई हिट लिस्ट

    सेना की नई हिट लिस्ट

    1- रियाज नैइकू उर्फ जुबैर उल इस्लाम, कश्मीर का हिजबुलल मुखिया, जोकि बेगपुर पुलवामा का है।

    2- शौकत तक, उर्फ अबू हुजैफा, लश्करक का कमांडर जोकि पुलवामा का है
    3- -जाकिर रशीद भट उर्फ मूसा, अंसार चीफ जोकि नूरपुरा अवंतिपुरा से है
    4- जीननत उल इश्लाम उर्फ उस्मान हिज्ब, यह शोपिया इलाके का कमांडर है
    5- डॉक्टर सैफुल्ला उर्फ अबू मुसाइब, यह हिजबुल का कमांडर है, श्रीनगर के मालंगपूरा पुलवामा का
    6- सद्दाम पद्देर, उर्फ जैद, यह शोपिया इलाके का हिजबुल कमांडर है
    7- अल्ताफ कटरू उर्फ मोइन उल इस्लाम, यह हिजबुल का कुलगांव का कमांडर है
    8- नानीद जट्ट उर्फ अबू हंजला, यह पाकिस्तान का हिजबुल कमांडर है और नेवा राजपूरा से अपनी आतंकी गतिविधि को अंजाम देता है
    9- समीर अहमद उर्फ समीर टाइगर, यह पुलवामा के दरबगाम का रहने वाला है।

    इसे भी पढ़ें- VIDEO: पाकिस्तान ने किया जमीन और आसमान में अटैक करने वाली बाबर क्रूज मिसाइल का परीक्षण

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    There has been a steep rise in the number of terrorists being recruited in Kashmir. Both the Hizbul Mujahideen and Jaish-e-Mohammad have been pursuing.

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more