• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

1962 में आज ही के दिन शुरू हुआ था भारत-चीन के बीच युद्ध, असम के तेजपुर तक आ गई थी चीनी सेना

|

नई दिल्‍ली। भारत और चीन के बीच तीन साल बाद रिश्‍ते फिर से तनावपूर्ण हो गए हैं। साल 1962 में आज ही के दिन यानी 20 अक्‍टूबर को दोनों देशों के बीच जंग की शुरुआत हुई थी। पांच मई से शुरू टकराव को अब छह माह होने वाले हैं। इतने दिनों दोनों देशों के बीच सात बार कोर कमांडर वार्ता हो चुकी है लेकिन नतीजा जीरो रहा है। इस बार भी भारत और चीन के बीच जो हालात हैं उन्‍होंने मिलिट्री एक्‍सपर्ट्स को 58 साल पहले हुए युद्ध की याद दिला दी है। भारत और चीन सन् 1962 में पहली बार जंग के मैदान में आमने-सामने थे और 20 अक्‍टूबर 1962 को चीन ने तड़के हमला बोला था। जानिए आखिर क्‍यों वह जंग हुई और कैसे लद्दाख से लेकर अरुणाचल तक चीन की सेना ने हाहाकार मचाया था।

यह भी पढ़ें-62 की जंग देख चुके सैनिक ने कहा-अबकी मुश्किल में है चीन

    National Solidarity Day: जब China ने India की दोस्ती पर घोंपा था विश्वासघात का खंजर | वनइंडिया हिंदी
    भारत के अंदर दाखिल चीनी सेना

    भारत के अंदर दाखिल चीनी सेना

    वरिष्‍ठ पत्रकार कुलदीप नैयर ने अपनी किताब 'बियांड द लाइन्‍स' में लिखा है कि 1961 के मध्‍य में चीनी बॉर्डर सेना ने सिंकियांग-तिब्‍बत के 70 मील दूर पश्‍चिम में एक सड़क बना ली थी। यह वह पोजीशन थी जिसे उन्‍होंने सन् 1958 में हासिल किया था। चीनी सेना भारतीय सीमा के 12,000 स्‍क्‍वायर मील तक अंदर दाखिल हो गई थी। नैयर ने अपनी किताब में दावा किया है कि भारत में किसी ने भी इस बात की सराहना नहीं की थी कि भारत ने 4,000 स्‍क्‍वायर मीटर उस सीमा पर अतिक्रमण कर लिया है जो चीन की है। चीन इस बात से ही बौखलाया हुआ था। युद्ध शुरू हुआ तो चीन की सेना असम के तेजपुर तक आ गई थी जो कि गुवाहाटी से 181 किलोमीटर ही दूर है।

    62 की पहली लड़ाई गलवान घाटी में

    62 की पहली लड़ाई गलवान घाटी में

    भारत और चीन के बीच 3500 किलोमीटर लंबी लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल यानी एलएसी है। इसके एक छोर पर कश्‍मीर तो एक छोर पर म्‍यांमार आता है। पिछले दो हफ्तों से सिक्किम और लद्दाख में सब-कुछ ठीक नहीं है। जब आप इतिहास पर नजर दौड़ाएंगे तो आपको पता चल जाएगा कि गलवान घाटी का भारत और चीन से क्‍या रिश्‍ता है। भारत और चीन सन् 1962 में पहली बार जंग के मैदान में आमने-सामने थे। गलवान घाटी वही जगह है जहां पर 20 अक्‍टूबर 1962 को जंग की पहली लड़ाई हुई थी। एतिहासिक दस्‍तावेजों के मुताबिक 62 में लद्दाख सेक्‍टर की गलवान घाटी में ही भारत और चीन के सैनिकों के बीच पहली झड़प हुई थी। गलवान घाटी को चीन शिनजियांग उइगर स्‍वायत्‍त क्षेत्र का हिस्‍सा मानता है।

    उस साल भी गर्मियों में शुरू हुई थी टेंशन

    उस साल भी गर्मियों में शुरू हुई थी टेंशन

    62 की जंग से पहले उस साल गर्मियों के मौसम में भारत और चीन की सेनाओं के बीच इस इलाके से गुजरने पर झड़प हो गई थी। उस समय भी नई दिल्‍ली और बीजिंग के बीच विदेश मंत्रियों ने दूतावास के जरिए कई चिट्ठियां भेजकर संपर्क किया था। भारत और चीन मामलों के जानकारों की मानें तो जिस तरह से आज दोनों देशों के बीच राजनयिक स्‍तर पर आधिकारिक संपर्क जारी है, उस समय भी कई हफ्तों तक ऐसा ही दौर चला था। 23 जुलाई 1962 को चीन के विदेश मंत्रालय ने एक चिट्ठी बीजिंग स्थित भारतीय दूतावास को सौंपी थी। उस समय इंडियन आर्मी पर आरोप लगाया गया था कि वह बॉर्डर की सुरक्षा में तैनात चीनी फ्रंटियर गार्ड्स को चीन की सीमा में दाखिल होकर फायरिंग कर उन्‍हें भड़का रहे हैं।

    चीन ने लगाए थे भारत पर कई आरोप

    चीन ने लगाए थे भारत पर कई आरोप

    इस चिट्ठी में आगे लिखा था, 'कई भारतीय जवानों ने हाल ही में गलवान नदी के दक्षिण में चीन की सीमा में घुसपैठ की है और स्‍थायी तौर पर यही पर रुक गए हैं।' चिट्ठी में कहा गया 19 जुलाई को पांच बजकर 35 मिनट पर भारत की सेना ने जान-बूझकर चीन के गश्‍ती दल पर फायरिंग की थी। इसके बाद चीन के सैनिकों को एक्‍शन लेना पड़ा था। चीनी सरकार के इन आरोपों का भारत की सरकार ने शांति और धैर्य के साथ जवाब दिया था। तीन अगस्‍त 1962 को चीन के दूतावास को विदेश मंत्रालय की तरफ से चिट्ठी लिखकर आरोपों का जवाब दिया गया। जो चिट्ठी भारत की तरफ से लिखी गई वह कुछ इस तरह से थी, 'भारत सरकार ने सावधानी से तीनों आरोपों की जांच की और इन्‍हें आधारहीन माना है।' भारत ने कहा था कि जो आरोप भारत की सेना पर लग रहे हैं, वह गलती दरअसल चीन के सैनिकों ने की है।

    भारत सरकार ने खारिज किए चीन के आरोप

    भारत सरकार ने खारिज किए चीन के आरोप

    भारत ने चीन की चिट्ठी को खारिज कर दिया और चीन की सरकार से कहा कि वह तुरंत उन चीनी सैनिकों को निर्देश दे कि वो किसी भी प्रकार की भड़काऊ कार्रवाई में न शामिल हों ले और जो भारत की सीमा में दाखिल हो गए हैं उन्‍हें तुरंत जगह छोड़ने का आदेश दिया जाए। इसके अगले दिन चार अगस्‍त 1962 को चीन ने एक और चिट्ठी भारत को लिखी। इस चिट्ठी में फिर से कहा गया कि चीन की सरकार के विरोध के बाद भी भारतीय पक्ष अपने उन सैनिकों को वापस न बुलाने पर अड़ा है जिन्‍होंने सिंकियांग, चीन में स्थित गलवान नदी के इलाके में घुसपैठ कर ली है। इसके बाद आठ अगस्‍त को भारत की तरफ से चीनी दूतावास को आरोपों का खंडन करने वाली एक और चिट्ठी लिखी गई।

    एक माह एक दिन तक चला था युद्ध

    एक माह एक दिन तक चला था युद्ध

    भारत ने चीन को जवाब दिया था, 'इन आरोपों में कोई सच्‍चाई नहीं है। इससे विपरीत अगर घटना इस तरह से सामने आई है तो उसकी वजह चीनी सेना का भारत की सीमा में घुसपैठ करना और भारत के सीमा बल पर फायरिंग करना है। भारत की सरकार इस तरह की दोनों घटनाओं का विरोध करती है। दोनों ही बार भारतीय सेना की तरफ से आत्‍म संयम बरकरार रखा गया और चीन के जवानों पर फायरिंग नहीं की गई थी।' युद्ध शुरू होने से पहले कई हफ्तों तक इसी तरह से चिट्ठियों के जरिए भारत और चीन के बीच वार्ता होती रही थी। भारत और चीन के बीच हुई 62 की जंग एक माह एक दिन तक चली थी। इस युद्ध में भारत के एक हजार से ज्‍यादा सैनिक शहीद हो गए थे।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    in the year of 1962 on this date first Indo-Sino war broket out.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X