• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

अगले 6 माह तक यहां कर्मचारियों को 20% कम वेतन मिलेगा, जानिए क्या है पूरा माजरा?

|

नई दिल्लीः कोरोनावायरस प्रेरित लॉकडाउन में सबसे अधिक अर्थव्यवस्था प्रभावित हुई, जिसमें पहले ही आर्थिक मंदी का संकट झेल रही ऑटो सेक्टर और बुरा असर पड़ा है। यही कारण है कि दिग्गज ऑटो कंपनी टीवीएस मोटर्स ने चौपट हुए कारोबार को बचाने के लिए अधिकारी स्तर के सभी कर्मचारियों के वेतन में अगले छह महीने के लिए 20 फीसदी की कटौती करने का ऐलान किया है।

salary

कंपनी के मुताबिक मई से अक्टूबर के बीच कर्मचारियों के वेतन में 20 फीसदी की कटौती अस्थायी है। हालांकि दोपहिया वाहन बनाने वाली टीवीएस कंपनी ने एंट्री लेवल के कर्मचारियों की सैलरी में किसी कटौती से इनकार किया है, लेकिन जूनियर एग्जिक्यूटिव लेवल वाले कर्मचारियों के वेतन में 5 फीसदी कटौती का प्रस्ताव हैं जबकि सीनियर मैनेजमेंट लेवल के कर्मचारियों के वेतन में 15-20 फीसदी कटौती की जाएगी।

salary

Fact Check: केंद्रीय कर्मचारियों के सैलरी में 30 प्रतिशत की कटौती वाली खबर निकली फर्जी

गौरतलब है टीवीएस मोटर्स ही पहली कंपनी नहीं है, जिसने कोरोनावायरस प्रेरित लॉकडाउन से बर्बाद हुए व्यवसाय को संभालने के लिए कर्मचारियों की सैलरी में कटौती की घोषणा की है। इस फेहरिस्त में कई कंपनियां शामिल हैं, जिन्होंने न केवल सैलरी बल्कि कर्मचारियों की छंटनी को घोषणा की है।

salary

लॉकडाउन का असर: Zomato के बाद Swiggy करेगा 1100 कर्मचारियों की छंटनी

रिपोर्ट के मुताबिक बेंगलुरू की स्टार्टअप कंपनी लिवस्पेस और ऑटो कंपनी रिको ऑटो कंपनी प्रमुख हैं। स्टार्टअप कंपनी लिवस्पेन अपने कुल कर्मचारियों में से 15 फीसदी कर्मचारियों की छंटनी को घोषणा कर चुकी है, जिससे कंपनी के कुल 450 लोगों की छंटनी की जा चुकी है। वहीं, रिको ऑटो ने 119 स्थायी कर्मचारियों की छंटनी कर दी है।

Covid19 इम्पैक्टः ऑनलाइन फूड डिलीवरी कंपनी जोमैटो 520 कर्मचारियों की छंटनी करेगी

दोपहिया वाहन बनाने वाली भारत की तीसरी सबसे बड़ी कंपनी टीवीएस

दोपहिया वाहन बनाने वाली भारत की तीसरी सबसे बड़ी कंपनी टीवीएस

दोपहिया वाहन बनाने वाली भारत की तीसरी सबसे बड़ी कंपनी टीवीएस मोटर ने गत 6 मई से देश में अपने तमाम मैन्युफैक्चरिंग संयंत्रों में कामकाज शुरू कर दिया था। कंपनी के पास चार मैन्युफैक्चरिंग प्लांट हैं, जिनमें से तीन भारत (तमिलनाडु के होसुर, कर्नाटक के मैसूर और हिमाचल प्रदेश के नालागढ़) में हैं, जबकि एक इंडोनेशिया के कारावांग में है। घरेलू बाजार में वाहन बेचने के अलावा कंपनी दुनिया के 60 देशों में अपनी गाड़ियों का निर्यात करती है।

अप्रत्याशित संकट को देखते हुए वेतन में अस्थायी कटौती की जा रही हैः TVS

अप्रत्याशित संकट को देखते हुए वेतन में अस्थायी कटौती की जा रही हैः TVS

कर्मचारियों की सैलरी में कटौती को लेकर दिए एक बयान टीवीएस मोटर कंपनी के प्रवक्ता ने कहा कि अप्रत्याशित संकट को देखते हुए कंपनी छह महीनों (मई से अक्टूबर, 2020) के लिए विभिन्न स्तर के कर्मचारियों के वेतन में अस्थायी कटौती करने जा रही है।' प्रवक्ता ने यह भी कहा कि निचले दर्जे के कर्मचारियों के वेतन में कोई कटौती नहीं की जाएगी।

रिको ऑटो ने संयंत्र के 119 स्थायी कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

रिको ऑटो ने संयंत्र के 119 स्थायी कर्मचारियों को नौकरी से निकाला

वाहनों के कल पुर्जे बनाने वाली रिको ऑटो इंडस्ट्रीज ने हरियाणा के धारूहेड़ा संयंत्र के 119 स्थायी कर्मचारियों को 22 मई को नौकरी से निकाल दिया। हालांकि कंपनी ने शेयर बाजार को दी जानकारी में कहा था कि व्यावसायिक मांग के अनुसार कार्यबल को युक्ति संगत बनाने के लिए धारूहेड़ा संयंत्र में स्थायी कर्मचारियों के लिए अक्टूबर 2019 में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना (वीआरएस) पेश की थी, लेकिन 208 में से केवल 42 कर्मियों ने स्वीकार किया।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
According to the company, a 20 per cent reduction in employee salaries between May and October is temporary. Although the TVS company, which manufactures two-wheelers, has denied any deduction in the salary of entry-level employees, it is proposed to cut the salary of the employees of junior executive level by 5 per cent while the salary of senior management level employees by 15-20 per cent. will be deducted.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X