• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Covid 19: अस्पताल से छुट्टी मिलने की खुशी में 65 साल की महिला ने किया डांस, वीडियो हुआ वायरल

|

पुणे। महाराष्ट्र के पुणे में एक 65 साल की महिला कोरोना के खिलाफ जंग जीतकर जब 16 दिनों बाद अस्पताल से बाहर निकली तो वह खुशी के मारे डांस करने लगी। गठिया के कारण उनके घुटनों में दर्द होने के बावजूद महिला अपनी छड़ी के सहारे नाचती हुई दिखी। महिला का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। डॉक्टरों के मुताबिक, कोरोना वायरस से सबसे अधिक खतरा 60 साल से अधिक के लोगों और बच्चों को है।

डांस करते हुए अस्‍पताल से घर रवाना हुईं महिला

डांस करते हुए अस्‍पताल से घर रवाना हुईं महिला

पुणे के औंध सिविल अस्पताल में मंगलावर को पेठ की निवासी एक बुजुर्ग महिला की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। जब महिला घर के लिए रवाना हुई तो वह छड़ी से सहारे नाचने लगी। महिला के इस जोश को देखते हुए अस्पताल का स्टाफ भी उनके साथ जश्न में शामिल हो गया। महिला को दो सप्ताह पहले गंभीर हालत में भर्ती कराया गया था। जहां उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट पर रखा गया था।

छड़ी के सहारे महिला ने किया डांस

छड़ी के सहारे महिला ने किया डांस

महिला की जांच करने वाली डॉक्टर शर्मिला गायकवाड़ ने कहा, महिला डायबिटीज और गठिया से पीड़ित है। कोरोना वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद उन्हें कुछ दिन पहले अस्पताल में भर्ती कराया गया था। सांस लेने में तकलीफ और खांसी के चलते उसकी हालत गंभीर हो गई। जिसके बाद उन्हें आईसीयू में शिफ्ट करना पड़ा था। उन्होंने कहा कि 12 दिनों तकआईसीयू में रहने के बाद बुजुर्ग महिला की हालत में सुधार हुआ तो उन्हें जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया। इसके बाद उसकी दोबारा जांच की गई, तो वे कोरोना निगेटिव निकली।

'मुझे लगा कि मैं मर जाऊंगी लेकिन आप लोगों ने मेरी जान बचाई'

'मुझे लगा कि मैं मर जाऊंगी लेकिन आप लोगों ने मेरी जान बचाई'

डॉक्‍टर ने बताया कि, जब हमने बुजुर्ग महिला को बताया कि वे घर जा सकती हैं तो वह खुशी से झूम उठीं और नाचने लगीं। हमारे सहकर्मियों ने भी उनके साथ जश्न मनाया। अस्पताल की एक नर्स ने बताया, 'जब उन्हें भर्ती कराया गया तो वे इस बात को लेकर चिंतित थीं कि वह अपने घर वापस जा पाएंगी जा नहीं। घर जाते समय महिला ने डॉक्टरों और नर्सों को धन्यवाद दिया और कहा कि, वह उनकी वजह से बची है। मुझे लगा कि मैं मर जाऊंगी लेकिन आप लोगों ने मेरी जान बचाई। मैं आप सभी को कभी नहीं भूलूंगी। वहीं जिला कलेक्टर नवल किशोर राम ने कहा, मैंने कोरोना मुक्त रोगी का घर में स्वागत करते हुए लोगों के वीडियो देखे हैं। लेकिन यह पहली बार है जब मैंने किसी मरीज को अस्पताल के बाहर नाचते हुए सुना है। यह पहला मामला हो सकता है। हमें कोरोना वायरस से डरना नहीं चाहिए, बल्कि आत्मविश्वास के साथ सामना करना चाहिए।

दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर लोगों ने पुलिस पर किया पथराव, तीन गिरफ्तार

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
65 Year Old woman dance after beating Covid 19 at Pune hospital
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X