• search
गांधीनगर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

हार्दिक पटेल और अल्पेश ठाकुर गुजरात में हुए आमने-सामने, मगर भाजपा से अब भी दोनों की दूरी

|

Gujarat News In Hindi, गांधीनगर। एक समय था जब पाटीदार आरक्षण आंदोलन के लिए हार्दिक पटेल और अल्पेश ठाकोर ने गुजरात में भाजपा सरकार के खिलाफ डटकर मोर्चा खोला था। कांग्रेस दोनों को सपोर्ट करते हुए प्रा​थमिकता देने लगी, मगर अब हार्दिक और अल्पेश के बीच कांग्रेस की वजह से ही तकरार हो गई है। दरअसल, अल्पेश और उसके सहयोगियों को कांग्रेस ने चुनाव में टिकट नहीं दिया इससे वह नाराज हो गए। दूसरी ओर, कांग्रेस ने हार्दिक को हाथों-हाथ लिया और वे गुजरात में कांग्रेस के तीसरे बड़े प्रचारक बनकर उभरे। अब अल्पेश ने कांग्रेस प्रत्याशियों के सामने अपने सहयोगी मैदान में उतारे हैं तो हार्दिक को यह बात जंच नहीं रही। दरअसल, हार्दिक कांग्रेस का जमकर प्रचार कर रहे हैं, उधर भाजपा अल्पेश को मनाने की कोशिश कर रही है। बहरहाल, दोनों भाजपा के खिलाफ हैं, लेकिन आपस में भी नहीं बन रही है।

आनंदीबेन पटेल के शासन में शुरू किए थे आंदोलन, अब जुदा हुए

आनंदीबेन पटेल के शासन में शुरू किए थे आंदोलन, अब जुदा हुए

पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल का शासन था तब पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नाम पर युवा पाटीदारों औऱ ठाकोर सेना के इन युवा नेताओं ने आंदोलन शुरू किये थे। उस समय दोनों समुदायों के युवा नेता भाजपा सरकार के खिलाफ थे। अब लोकसभा चुनाव में भी हिस्सा ले रहे हैं, मगर अब दोनों समुदायों में परस्पर आरोप प्रत्यारोप लग रहे हैं। हार्दिक पटेल का कहना है कि अल्पेश ने कांग्रेस छोडकर पार्टी को धोखा दिया है। अल्पेश को कांग्रेस ने बहुत कुछ दिया है। उनको पार्टी में पद और सम्मान दिए हैं, लेकिन वे पार्टी के साथ नहीं रहे हैं। अपने निजी स्वार्थ के लिये अल्पेश ने पार्टी छोड दी है, जो अच्छा नहीं किया है।'

अक्टूबर 2017 में भाजपा से जुड़ी थीं रेशमा पटेल, मार्च 2019 में हो गईं अलग; पहली बार में ही एक साथ लड़ रहीं दो तरह के चुनाव

ऐसे हुई दोनों में जुबानी जंग

ऐसे हुई दोनों में जुबानी जंग

दूसरी ओर, अल्पेश ठाकोर ने यह ​कहते हुए तंज कसा कि हार्दिक पटेल ने पाटीदार आरक्षण आंदोलन शुरू करने के बाद 14 युवा पाटीदारों को मरवा दिया दिया। जो पाटीदार युवा आंदोलन के दौरान मरे, उसकी वजह हार्दिक पटेल हैं।' इसके अलावा, सुरेंद्रनगर में चुनावी मंच पर हार्दिक पटेल को थप्पड मारने वाले तरुण गज्जर से जुड़ी घटना के बाद अल्पेश ठाकोर ने हार्दिक को नसीहत दे डाली कि वह संयम रखें।'

पढ़ें: मंत्री बोले- मोदीजी नहीं आए तो गुजरात में भाजपा को 10 सीटों से ज्यादा नहीं मिलेंगी, PM ने मान ली बात

हार्दिक भाजपा पर बरस रहे

हार्दिक भाजपा पर बरस रहे

वहीं, कांग्रेस का प्रचार करते हुए हार्दिक पटेल भाजपा के खिलाफ जमकर भाषण दे रहे हैं। आज एक रैली में उन्होंने कहा कि भाजपा के नेता हार नहीं देख सकते हैं। चुनावों में कांग्रेस को ज्यादा सीटें मिलने के आसार है, इसलिये भाजपा के कार्यकर्ता मारपीट पर उतर आये हैं। भाजपा के नेता मुझे गोली से मारना चाहते हैं।'

हार्दिक पटेल ने तरुण के खिलाफ वढवाण पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है। दूसरी ओर, चुनाव प्रचार करने निकलीं रेश्मा पटेल पर भी हमला किया गया। उसे अस्पताल ले जाया गया था। रेश्मा ने भी भाजपा पर भी आरोप लगाए। इस तरह लोकसभा चुनावों में, हर युवा नेता अपना स्कोर निर्धारित करने में लग गया है। ठाकोर सेना के अध्यक्ष और कांग्रेस के पूर्व नेता अल्पेश ठाकोर के पास अब ठाकोर सेना नहीं है, क्योंकि कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद, ठाकोर सेना के 25 सदस्यों ने इस्तीफा दे दिया, जिसमें कांग्रेस विधायक भरत ठाकोर भी शामिल हैं।

गुजरात: लोकसभा चुनाव 2019 से जुड़ी सभी जानकारी यहां पढ़ें

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Gujarat Lok sabha Elections 2019: fight between Hardik Patel and Alpesh Thakor
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X