• search
छत्तीसगढ़ न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

Balod जेल की दीवार फांदकर फरार हुए दो कैदी, पुलिस विभाग में मचा हड़कंप, जांच के लिए बनी टीम

Google Oneindia News

छत्तीसगढ़ के बालोद में जेल ब्रेक का मामला सामने आया है। यहां दो विचाराधीन कैदी जेल की दीवार फांदकर फरार ही गए। जेल से दो कैदी फरार होने की सूचना मिलते ही जिले के पुलिस अधिकारियों में हड़कम्प मच गया। अब पुलिस दोनों कैदियों को तलाश कर रही है। एसपी जितेंद्र यादव ने इसके लिए टीम का गठन किया है।

balod jail

जेल के अंदर चल रहा निर्माण कार्य, सीढ़ी का लिया सहारा
जानकारी के अनुसार जेल के अंदर नए दो बैरक का निर्माण किया जा रहा है। इसी कार्य के लिए निर्माणाधीन बैरक में सीढ़ी का इस्तेमाल किया जा रहा था। लेकिन शातिर कैदियों ने इस सीढ़ी का सहारा लेकर जेल की दीवार फांदकर फ़रार हो गए। इसकी सूचना पुलिस को तब मिली जब शकाम को कैदियों की गिनती की गई और दो कैदी कम पाए गए।

jail balod

अंधेरे का फायदा उठाकर हुए फरार
इन दो विचाराधीन कैदियों में गुंडरदेही का शिव कुमार नेताम और अर्जुन्दा के विकास कुमार यादव ने लगभग 6:00 बजे बैंकर बंद होने के पूर्व अंधेरे का फायदा उठाकर दीवार फांदने की योजना बनाई इसके लिए बैरक में रखी सीढ़ी सहारा लिया। और फिर फरार हो गए ,घटना की जानकारी फैलते ही बालोद जिला जेल सहित विभाग में हड़कंप मच गया। और फरार हुए विचाराधीन कैदियों की पतासाजी करने विभिन्न स्थलों पर पुलिस की टीम रवाना की गई।

Chhattisgarh: आरक्षण संशोधन विधेयक के पक्ष में राज्यपाल अनुसूईया उइके, विशेष सत्र पर बोलीं -मेरा पूरा सहयोग Chhattisgarh: आरक्षण संशोधन विधेयक के पक्ष में राज्यपाल अनुसूईया उइके, विशेष सत्र पर बोलीं -मेरा पूरा सहयोग

एसपी बोले टीम बनाकर पतासाजी की जा रही
वही इस मामले में बालोद जिला पुलिस अधीक्षक जितेंद्र कुमार यादव ने बताया की जांच टीम गठित कर फरार विचाराधीन बंदियों को तलाशने के लिए पुलिस टीम लगाई गई है। इस संबंध में बालोद जिला जेल प्रभारी शोभा रानी ने बताया कि बैरक बन्द करने से पहले करीब 6 बजे सीढ़ी का सहारा लेकर कैदी फरार हुए हैं। सूचना मिलते ही तत्काल कैदियों की पतासाजी के लिए जांच टीम जुट गई है।

दो अतिरिक्त बैरक का हो रहा निर्माण
आपको बता दें कि नया जिला बनने के बाद से बालोद जिला जेल में लगातार विचाराधीन बंदियों की संख्या बढ़ रही है।इसके लिए दो नए बैरक का निर्माण बैरक क्रमांक 5 और 6 के सामने किया जा रहा है, बैरक निर्माण की वजह से निर्माणाधीन स्थल पर सिढिया रखी हुई थी, जिसका विचाराधीन बंदी शिव कुमार नेताम और विकास कुमार यादव ने फायदा उठाया।

Comments
English summary
Two prisoners escaped by scaling the wall of Balod Jail, stir in police department, team formed for investigation
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X