• search
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS  
For Daily Alerts

    1 रुपए का सिक्का बनाने पर सरकार खर्च करती है 1.11 रु, RTI से खुलासा

    |

    नई दिल्ली। देश में लगातार बढ़ती महंगाई के बाद सिक्कों के मूल्य में लगातार गिरावट आ गई है। सिक्के की लागत के बारे में जानकर आपको हैरानी होगी कि सिक्के की लागत उसके मूल्य से ज्यादा है। इंडिया टुडे ने सूचना के अधिकार के तहत सिक्के के मूल्यों को लेकर जानकारी मांगी। सिक्के निर्माण की लागत को लेकर RTI के जबाव में RBI से जो जानकारी दी वो जानकर आप हैरान हो जाएंगे।

     Govt spends Rs 1.11 to mint a Re 1 coin

    इस सवाल का जवाब भारतीय सरकारी टकसाल, मुंबई ने देने से इंकार कर दिया। मुंबई टकसाल में 10 रु, 5 रु, 2 रु और 1 रु के सिक्कों को ढाला जाता है। टकसाल ने गोपनीयता का हवाला देते हुए इस आरटीआई का जवाब देने से इंकार कर दिया। टकसाल ने जवाब में कहा कि ये जानकारी आरटीआई एक्ट, 2005 के सेक्शन 8 (1) (d) के तहत उपलब्ध नहीं कराई जा सकती क्योंकि ये ट्रेड सीक्रेट है।

    वहीं एक आरटीआई हैदराबाद स्थित टकसाल को भी भेजा गया। वहां भी 10 रु, 5 रु, 2 रु और 1 रु ढाला जाता है। हैदराबाद टकसाल ने के मुताबिक 1 रुपए के सिक्के को बनाने में औसत लागत 1 रुपए 11 पैसे की लागत आती है। रुपए की लागत उसके मूल्य से ज्यादा है। वहीं 2 रुपए के सिक्के को ढालने में 1.28 रुपए, 5 रुपए को तैयार करने में 3.69 रुपए और 10 रुपए के सिक्के को बनाने में 5.54 रुपए की लागत आती है।

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    The monetary value of one rupee coins have gone down substantially over the past two decades and can hardly be used to purchase anything. Yet, the cost of manufacturing a single one rupee coin is more than its own value, shows an RTI filed by India Today.
    For Daily Alerts

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more