• search
उज्जैन न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

Pulwama Attack के बाद कराची-लाहोरी नाम की होटलों पर भी फूटा लोगों का गुस्सा, पर्दे से ढककर किया बचाव

|

Ujjain News, उज्जैन। पुलवामा आतंकी हमले के बाद से ही देशभर के लोगों के दिलों में आतंकवाद और पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा है। जगह-जगह पर प्रदर्शन करके लोग पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगा रहे हैं, मगर लोगों का गुस्सा पाकिस्तान के शहरों के नाम वाली होटलों पर भी फूट पड़ा है। ऐसा मामला मध्यप्रदेश के उज्जैन में सामने आया है।

Ujjain peoples protest against name of karachi Lahori hotel after the Pulwama Attack

उज्जैन की सबसे पुरानी होटलों में से दो का नाम कराची होटल व लाहोरी होटल है। Pulwama Terrorist Attack के बाद शनिवार को बड़ी संख्या में लोगों ने इन होटलों के सामने एकत्रित होकर प्रदर्शन किया और होटल के नाम बदलने की मांग की।

पाकिस्तान के शहरों के नाम वाली इन होटलों का नाम बदलो

पाकिस्तान के शहरों के नाम वाली इन होटलों का नाम बदलो

प्रदर्शन करने वालों का कहना था कि पाकिस्तान अपने नापाक मंसूबों से बाज नहीं आ रहा। पाकिस्तान की वजह से देश के जवान आए दिन शहीद हो रहे हैं। ​हम पाकिस्तान का नामोनिशां मिटाना चाहते हैं। ऐसे में उज्जैन में पाकिस्तान के शहरों के नाम वाली इन होटलों का भी नाम बदला जाना चाहिए। लोगों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए होटल मालिकों ने उनके नाम को कपड़ा डालकर ढक दिया। बाद में सूचना पाकर माध्यनगर थाने के एएसआई अरविन्द चौकसे मय जाब्ता मौके पर पहुंचे और मामला शांत करवाया।

मध्यप्रदेश ने खोया लाल अश्वनी कुमार काछी

मध्यप्रदेश ने खोया लाल अश्वनी कुमार काछी

पुलवामा हमले में मध्यप्रदेश ने भी अपना बहादुर बेटा अश्वनी कुमार काछी खोया है। Shaheed Ashwani Kumar Kachhi जबलपुर के खुड़ावल गांव के रहने वाले थे। 30 वर्षीय अश्वनी कुमार अविवाहित थे। परिवार में पांच भाई-बहनों में सबसे छोटे अश्वनी कुमार की शादी की बात चल रही थी, मगर यह बेटा तिरंगे में लिपटकर शनिवार सुबह घर पहुंचा तो कोहराम मच गया। हर आंख नम हो गई और शदादत पर सीना गर्व से चौड़ा हो गया।

क्या है पुलवामा हमला (Pulwama Attack 2019)

क्या है पुलवामा हमला (Pulwama Attack 2019)

पुलवामा जम्मू कश्मीर का जिला है। आतंकवाद से प्रभावित पुलवामा में भारतीय सेना पर अक्सर हमले हुए हैं, मगर 14 फरवरी 2019 को हुआ हमला अब तक का सबसे बड़ा हमला था। अपराहृन लगभग साढ़े तीन बजे सीआरपीएफ के करीब 25 सौ जवानों को काफिला 78 वाहनों में सवार होकर पुलवामा से गुजर रहा था। काफिला पुलवामा के अवंतीपोरा में पहुंचा ही था कि विस्फोटकर से भरी एक कार सीआरपीएफ जवानों के काफिले में घुस गई। सबसे आगे चल रही दो बस निकल जाने के बाद कार में जबरदस्त धमाका हुआ, जिसकी चपेट में तीसरी बस आई। बस में सवार सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए।

परिजन तलाश रहे थे उसके लिए दुल्हन और वो पुलवामा अटैक में वतन पर मर मिटा, 30 की उम्र में हुआ शहीद

पुलवामा आतंकी हमले की जिम्मेदारी पाकिस्तान के आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने ली थी। इसके कमाण्डर आदिल अहमद डार ने इस आत्मघाती हमले को अंजाम दिया। मूलरूप से पुलवामा जिले का ही रहने वाला आदिल अहमद डार सालभर पहले ही जैश ए मोहम्मद के सम्पर्क में आया था। सीआरपीएफ के काफिले में घुसकर धमाका करने वाली कार में आदिल अहमद डार सवार था। हमले के बाद मैसेजिंग प्लेटफॉर्म पर आदिल का वीडियो भी सामने आया था, जिसमें वह जिहाद के नाम पर हमले की बात कह रहा था।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Ujjain people's protest against name of karachi Lahori hotel after the Pulwama Attack
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X