• search
मध्य प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

जिंदा समाधि लेने वाली थी महिला, देवदूतों से पहले पहुंच गई पुलिस

Google Oneindia News

Madhya Pradesh के सागर में एक महिला जिंदा समाधि लेने की तैयारी कर रही थी। समाज और परिवार के लोग भी उसके दावे के आधार पर उसका साथ देने की तैयारी कर रहे थे। मामला पुलिस के पास पहुंचा तो हड़कंप मच गया। पुलिस ने आनन-फानन में महिला को समझाने के लिए महिला पुलिस की टीम को मौके पर भेजा। महिला एवं विशेष किशोर इकाई की प्रभारी ज्योति तिवारी ने महिला को काफी समझाने का प्रयास किया। महिला का दवा था कि उसके गुरुदेव की सवारी आती है, उन्हीं ने उसकी मृत्यु का दिन तय कर रखा है। मुझे समाधि लेने का आदेश मिला है। फिलहाल महिला को वन-स्टॉप सेंटर में रखा गया है।

जिंदा समाधि लेने वाली थी महिला, देवदूतो से पहले पहुंची पुलिस

Police से मिली जानकारी अनुसार मोतीनगर थाना अंतर्गत संत रविदास वार्ड निवासी वृद्ध महिला रामवती अहिरवार जिनके तीन पुत्र और नाती-पोते भी हैं। सोमवार को वह आज जिंदा समाधि लेने के लिए अड़ गई। उसने बकायदा इसकी संबंधित पुलिस थाने को सूचना दी तो पुलिस कर्मियों के होश उड़ गए। महिला का इस मामले में कहना था कि उसके गुरुदेव का आदेश हुआ था और एक वर्ष पहले ही उनके आदेश पर रामवती द्वारा आज जिंदा समाधि लेने की घोषणा कर दी गई थी।

जिंदा समाधि लेने वाली थी महिला, देवदूतो से पहले पहुंची पुलिस

महिला के साथ उसकी बहुंए भी साथ पहुंची थी
जिंदा समाधि लेने की तैयारी करने वाली महिला रामवती के साथ उसकी दो बहुएं व अन्य परिजन भी मोतीनगर थाने पहुंचे थे। मामला गंभीर होने के चलते थाना पुलिस द्वारा वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना दी। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की जानकारी में मामला आने के बाद उसे एसडीएम कार्यालय ले जाया गया। महिला को पहले घरोंदा आश्रम फिर वन स्टॉप सेंटर ले जाया गया।

मुकेश तिवारी ने 'जगीरा डाकू’ का किरदार निभाने 45 दिन नहाया नहीं था, दो साल कोई काम नहीं मिलामुकेश तिवारी ने 'जगीरा डाकू’ का किरदार निभाने 45 दिन नहाया नहीं था, दो साल कोई काम नहीं मिला

रामवती का दावा, 3 बजे समाधि लेती तो मोक्ष मिल जाता
जिंदा समाधि की लेने की तैयारी करने वाली महिला रामवती अहिरवार का दावा है कि उसके कई साल पहले से सदगुरु महाराज की सवारी आती है। उन्होंने पूर्व में सवारी के दौरान उसे आज्ञा दी थी कि पंचमी के दिन 28 नवंबर 2022 को दोपहर 3 बजे जिंदा समाधि लेंगी तो उन्हें मोक्ष प्राप्त होगा। उसके प्राण निकलने के बाद देवदूत रथ लेकर उसे लेने आएंगें। आश्चर्य की बात तो यह है कि रामवती के परिजन और समाज के दर्जनों लोग उसका साथ दे रहे थे, उसे खुरई मार्ग पर ठाकुर दादा मंदिर के पास जमीन में गड्ढा खोदकर समाधि की तैयारी की जा रही थी।

Comments
English summary
A woman in Sagar was claiming to have come for Sadhguru's ride. On Monday, she was about to take samadhi alive. According to her claim, the family and the people of the society had also made preparations to give the tomb, before that the police reached and took the woman to the police station.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X