भारत का अब तक का सबसे बड़ा राजनीतिक पोल. क्या आपने भाग लिया?
  • search

ईरान के लिए ये आख़िरी मौका है: डोनल्ड ट्रंप

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने कहा है कि वे ईरान पर प्रतिबंधों में ढिलाई को आख़िरी बार बढ़ा रहे हैं ताकि यूरोप और अमरीका परमाणु समझौते की 'ख़तरनाक ख़ामियों' को दुरुस्त कर सकें.

    राष्ट्रपति ट्रंप जिस छूट पर दस्तख़त करेंगे, उससे ईरान पर लगे प्रतिबंध और 120 दिन के लिए स्थगित रहेंगे.

    अमरीका-ईरान के ध्वज
    Getty Images
    अमरीका-ईरान के ध्वज

    व्हाइट हाउस चाहता है कि यूरोपीय संघ के दस्तख़त करने वाले सदस्य ईरान के परमाणु संवर्धन कार्यक्रम पर स्थाई प्रतिबंधों के लिए राज़ी हो जाएं.

    'बेताब कोशिश'

    ईरान के सर्वोच्च नेता का पोस्टर मिसाइल के साथ
    AFP
    ईरान के सर्वोच्च नेता का पोस्टर मिसाइल के साथ

    शुक्रवार को अमरीकी राष्ट्रपति ने एक बयान में कहा, ''ये आख़िरी मौका है. ऐसे किसी समझौते की ग़ैर-मौजूदगी में अमरीका, ईरान के साथ परमाणु समझौते पर कायम रहने के लिए प्रतिबंधों में दोबारा ढील नहीं देगा.''

    इस पर ईरान के विदेश मंत्री मोहम्मद जावेद ज़रीफ़ का कहना है कि ये एक 'ठोस' समझौते को कमज़ोर करने की 'बेताब कोशिश' है.

    ईरान के परमाणु समझौते की 5 बड़ी बातें

    ईरान का परमाणु संयंत्र
    AFP
    ईरान का परमाणु संयंत्र

    वहीं जर्मनी का कहना है कि वो इस समझौते को पूरी तरह लागू करने के लिए कहता रहेगा और 'आगे बढ़ने के साझा रास्ते' के लिए ब्रिटेन तथा फ्रांस से चर्चा करेगा.

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    This is the last chance for Iran Donald Trump

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X