'पहले रोहिंग्या शरणार्थी परिवार की म्यांमार वापसी'

Posted By: BBC Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi

म्यांमार का कहना है कि बांग्लादेश से पहला रोहिंग्या शरणार्थी परिवार वापस आ गया है. ऐसा तब हुआ है जब संयुक्त राष्ट्र चेतावनी दे चुका है कि रोहिंग्या शरणार्थियों की म्यांमार वापसी ख़तरे से खाली नहीं है.

म्यांमार से पिछले साल अगस्त में लगभग सात लाख रोहिंग्याओं ने बर्बर सैन्य अभियान से बचने के लिए सीमा पार करके बांग्लादेश में शरण ली थी.

संयुक्त राष्ट्र का आरोप है कि म्यांमार रोहिंग्याओं का 'जातीय सफाया' करना चाहता था, लेकिन म्यांमार इस आरोप से इंकार करता है.

वतन वापसी

रोहिंग्या शरणार्थी
Getty Images
रोहिंग्या शरणार्थी

म्यांमार का कहना है कि शनिवार को बांग्लादेश से पांच सदस्यों वाला एक रोहिंग्या परिवार वापस आया है जिसे पहचान पत्र दिए गए हैं.

म्यांमार ने पुष्टि की है कि संकट शुरू होने के बाद रोहिंग्याओं का ये पहला समूह है जिसकी वतन वापसी हुई है.

'मुझे नहीं पता था कि मेरा रेप करेंगे'

रोहिंग्या मुसलमान संकट की आख़िर जड़ क्या है?

'रोहिंग्या मुसलमानों के लिए फ़ेसबुक बना जानवर'

रोहिंग्या शरणार्थी
Getty Images
रोहिंग्या शरणार्थी

म्यांमार की सरकार का कहना है कि वो रखाइन प्रांत में रोहिंग्या उग्रवादियों के ख़िलाफ़ न्यायसंगत अभियान चला रही है.

म्यामांर की एक अदालत ने 10 रोहिंग्याओं की हत्या में शामिल सात सैनिकों को जेल की सज़ा भी सुनाई है.

रोहिंग्याओं का ये कहना रहा है कि म्यांमार में उनके साथ बलात्कार और हिंसा होती रही है, उनके गांवों को जला दिया जाता है.

म्यांमार में अधिकतर रोहिंग्या अल्पसंख्यक मुसलमान हैं जिन्हें नागरिक नहीं बल्कि बांग्लादेश से आए अवैध प्रवासी के तौर पर देखा जाता है.

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Rohingya refugee family first return to Myanmar

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.