अमरीका पर गिरा सकते हैं हाइड्रोजन बमः उत्तर कोरिया

Posted By: BBC Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
उत्तर कोरिया का दावा है कि उसकी न्यूक्लियर मिसाइलें 4000 किलोमीटर तक मार कर सकती हैं
Getty Images
उत्तर कोरिया का दावा है कि उसकी न्यूक्लियर मिसाइलें 4000 किलोमीटर तक मार कर सकती हैं

ताज़ा मिसाइल परीक्षण के बाद यूरोप में उत्तर कोरिया के सांस्कृतिक संबंधों के विशेष प्रतिनिधि एलेग्जेंड्रो काओ डि बेनो ने कहा कि किसी भी हमले की सूरत में उनका देश अमरीका पर हाइड्रोजन बम गिराने को तैयार है.

इतना ही नहीं उन्होंने यह भी चेतावनी दे डाली कि उत्तर कोरिया आज की तारीख़ में अमरीका के किसी भी शहर को निशाना बनाने में सक्षम है.

सुनें: बीबीसी से एलेग्जेंड्रो काओ डि बेनो की बातचीत

एलेग्जेंड्रो काओ डि बेनो
Getty Images
एलेग्जेंड्रो काओ डि बेनो

एलेग्जेंड्रो काओ डि बेनो किम जोंग के सबसे करीबी लोगों में से माने जाते हैं.

परमाणु परीक्षण के बाद दो हफ़्ते से भी कम समय में उत्तर कोरिया ने जापान की ओर एक और मिसाइल दागी है, जिसके बाद इस क्षेत्र में चल रहा तनाव और बढ़ गया है.

उ. कोरिया ने जापान की ओर फिर दागी मिसाइल

69 साल का उत्तर कोरिया और 85 साल की सेना?

मिसाइल
Getty Images
मिसाइल

"दुनिया को अपनी क्षमता दिखा दी"

एलेग्जेंड्रो काओ डि बेनो ने बीबीसी रेडियो फ़ाइव से कहा, "अमरीका के सभी वैज्ञानिकों को यह पता चल गया होगा कि हमने जो मिसाइल चलाई है वो कम ऊंचाई के बावजूद लंबी दूरी तय कर सकती है. इसे हम चार हज़ार किलोमीटर तक भेज कर सकते हैं. यानी अब हम अमरीका के लगभग किसी भी शहर तक पहुंच सकते हैं."

उन्होंने कहा, "इसके अलावा हमने कई परमाणु परीक्षण भी किए हैं. यह हमारी परमाणु क्षमताएं दिखाती हैं. दुनिया को अब हमारी तकनीकी और वैज्ञानिक क्षमताओं का पता चल गया है."

उत्तर कोरिया की मिसाइल से डरना ज़रूरी क्यों?

डोनल्ड ट्रंप और किम-जोंग-उन
Getty Images
डोनल्ड ट्रंप और किम-जोंग-उन

"डोनल्ड ट्रंप का खेल ख़त्म"

उत्तर कोरिया की सेना ने कहा, "मिसाइल ने 770 किलोमीटर की ऊंचाई हासिल की और होकाइडो के समंदर की ओर करीब 3,700 किलोमीटर की दूरी तय की."

काउ डि बेनो ने कहा, "डोनल्ड ट्रंप यह जानते हैं कि खेल ख़त्म हो चुका है, लेकिन दुनिया के सामने टीवी पर अपनी मज़बूती जताते हुए यह ढोंग करते हैं कि वो अमरीका को फ़िर से महान बनाने का प्रयास कर रहे हैं, दूसरी तरफ़ किसी भी गंभीर स्थिति से बचने और शुरुआती सहमति बनाने को लेकर हमारी पहले से बातचीत चल रही है."

उत्तर कोरिया के हमलों से बच सकेगा अमरीका?

अमरीकी सैनिक
Getty Images
अमरीकी सैनिक

अमरीका अपने रुख़ पर क़ायम

उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम को लेकर अमरीका लगातार चेतावनी दे रहा है. हालांकि उत्तर कोरिया पर इसका ख़ास असर नहीं दिख रहा है.

इस बीच, संयुक्त राष्ट्र में अमरीकी राजदूत निकी हेली ने कहा कि अगर कड़ी आर्थिक पाबंदियां कारगर नहीं होती हैं तो वॉशिंगटन के पास सैन्य कार्रवाई के और विकल्प भी मौजूद हैं.

उत्तर कोरिया ने आख़िर परमाणु बम कैसे बनाया?

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक
Getty Images
संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक

सुरक्षा परिषद की आपात बैठक

गुरुवार को उत्तर कोरिया के जापान की ओर अपनी अब तक की सबसे लंबी दूरी की मिसाइल का परीक्षण करने के बाद संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने आपात बैठक बुलाई और प्योंगयांग से इस तरह की कार्रवाई को तत्काल रोकने को कहा.

मिसाइल परीक्षण के तुरंत बाद तीखे बयानों के बाद, अमरीका, चीन और रूस इस मुद्दे पर साथ नज़र आए. बयान में सदस्य देशों से प्रतिबंधों को कड़ाई से लागू करने को कहा गया है.

कैसा है उत्तर कोरिया का परमाणु संयंत्र?

रूस चाहता है कूटनीतिक उपाय

बैठक से पहले अमरीका, चीन और रूस के बीच इस मुद्दे पर तब विवाद पैदा हो गया था जब अमरीका ने इसकी सारी ज़िम्मेदारी रूस और चीन पर डाल दी थी.

हालांकि इस मिसाइल परीक्षण के बाद संयुक्त राष्ट्र में रूसी राजदूत वैसिली नेबेंज़िया ने कहा कि कूटनीति ही इस संकट का एकमात्र रास्ता है.

उत्तर कोरिया के शुरुआती मिसाइल परीक्षणों के बाद सुरक्षा परिषद ने उस पर लगे प्रतिबंधों को और कड़ा करने का फैसला किया था. लेकिन इस परीक्षण के बाद आए ताज़ा बयान में पाबंदियों को बढ़ाने का कोई ज़िक्र नहीं किया गया है.

अगर उत्तर कोरिया से जंग छिड़ी तो क्या हैं विकल्प

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
North Korea said that it could destroy any city in the America .
Please Wait while comments are loading...