• search

एफ़बीआई पर आरोप, ट्रंप के ख़िलाफ़ किया ताकत का दुरूपयोग

By Bbc Hindi
Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    डोनल्ड ट्रंप
    ANDREW CABALLERO-REYNOLDS/AFP/Getty Images
    डोनल्ड ट्रंप

    अमरीकी कांग्रेस ने एक विवादित ज्ञापन को सार्वजनिक कर दिया है जिसमें अमरीकी ख़ुफ़िया विभाग एफ़बीआई पर अपनी ताकत का दुरूपयोग करने का आरोप लगाया गया है.

    ये मामला बीते साल हुए अमरीकी राष्ट्रपति चुनावों में रूस के कथित दख़ल के संबंध में मौजूदा अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप की जांच से जुड़ा है.

    इस ज्ञापन को रिपब्लिकन पार्टी के सांसदों ने तैयार किया है और इसमें कथित तौर पर 2016 में ट्रंप के राष्ट्रपति चुनाव अभियान के दौरान ख़ुफ़िया निगरानी से संबंधित जानकारी शामिल होने की बात कही गई है.

    ट्रंप का दावा 'ग़लत', ओबामा और बुश को ज़्यादा लोगों ने सुना

    डेमोक्रेटिक पार्टी इस ज्ञापन के सार्वजनिक किए जाने के सख़्त ख़िलाफ़ है. पार्टी का कहना है कि खुफ़िया जानकारी पर आधारित इस ज्ञापन को सार्वजनिक कर ट्रंप के ख़िलाफ़ चल रही जांच को भटकाने की कोशिश की जा रही है.

    डेमोक्रेट्स के विरोध के बीच सदन के स्पीकर रिपब्लिकन पार्टी के पॉल रायन के कहा है कि स्पेशल काऊंसेलर रॉबर्ट मूलर के नेतृत्व में हो रही जांच पर इस ज्ञापन के सार्वजनिक किए जाने का कोई असर नहीं पड़ेगा.

    उनका कहना है कि कांग्रेस का कर्तव्य है वो इस बात सुनिश्चत करे कि किसी पर निगरानी करने संबंधी ताकतों का दुरूपयोग ना किया जाए.

    एफ़बीआई का कहना है इसमें कई तथ्यात्मक जानकारियों के बारे में नहीं बताया गया है जो इसकी सटीकता प्रभावित करते हैं.

    यातना सेंटर ग्वांतानामो बे फिर से खोलेंगे ट्रंप

    अमरीका ने जारी की 210 नामों की 'पुतिन लिस्ट'

    ज्ञापन का एक हिस्सा
    BBC
    ज्ञापन का एक हिस्सा

    रिपब्लिकन कांग्रेस कर्मचारियों द्वारा लिखे गए विवादित ज्ञापन पर पिछले कुछ दिनों से विवाद जारी है. एफ़बीआई समेत न्याय विभाग, विपक्षी डेमोक्रेट्स और कुछ रिपब्लिकन नेताओं ने इसके सार्वजनिक करने को लेकर विरोध जताया था.

    हालांकि अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने आला अधिकारियों पर आरोप लगाया था कि वो एफ़बीआई और न्याय विभाग के द्वारा की जा रही जांच का राजनीतिकरण कर रहे हैं और इसके ज़रिए रिपब्लिकन पार्टी की छवि को खराब करने की कोशिश कर रहे हैं.

    शुक्रवार को डोनल्ड ट्रंप ने इस विवादित दस्तावेज़ को सार्वजनिक करने की अनुमति दी और इसे "शर्मनाक़" कहा.

    दस्तावेज़ में दी गई जानकारी के बारे में पूछे जाने पर ट्रंप ने कहा कि "कई लोगों को खुद पर अर्म आनी चाहिए."

    रूस का वो जहाज़ जिसने अमरीका की नींद उड़ाई

    ये गुप्त दस्तावेज़ आखिर है क्या?

    एफ़बीआई
    Mark Wilson/Getty Images
    एफ़बीआई

    सोमवार को हाउस ऑफ़ इंटेंलिजेंस कमिटी ने इस दस्तावेज़ को मंज़ूर किया था, बाद में शुक्रवार को ट्रंप ने इसको सार्वजनिक करने की इजाज़त दी.

    रिपब्लिकन पार्टी के तैयार किए गए इस दस्तावेज़ में न्याय विभाग और एफ़बीआई की तरफ से ट्रंप के निकट सहयोगी कार्टर पेज के खिलाफ़ निगरानी करने के लिए वारंट की मांग की "वैधता" पर सवाल खड़े किए गए हैं.

    इसमें "अमरीकी नागरिकों को बचाने के लिए बनाई गई कानूनी प्रक्रियाओं का दुरूपयोग किए जाने का ब्योरा है, जो चिंतित करने वाला है."

    इस ज्ञापन में कहा गया है कि एफ़बीआई और न्याय विभाग ने जज को यह नहीं बताया कि वॉरंट के अनुरोध के लिए दी गई दलील एक विवादित दस्तावेज़ पर आधारित था.

    इस विवादित दस्तावेज़ का संकलन पूर्व ब्रितानी ख़ुफ़िया एजेंट क्रिस्टोफर स्टील ने किया था और इसके लिए ज़रूरी धन का कुछ हिस्सा राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार रही डेमोक्रेटिक नेता हिलेरी क्लिंटन के अभियान के माध्यम से आया था. इसका उद्देश्य ट्रंप के चुनावी अभियान और रूस के बीच कथित संबंधों के बारे में आंकड़े खंगालना था.

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    FBI charges misuse of power against Trump

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X