भारत का अब तक का सबसे बड़ा राजनीतिक पोल. क्या आपने भाग लिया?
  • search

करुणानिधि के बाद तमिलनाडु की राजनीति के शून्‍य से निकलकर कौन बनेगा सियासी सितारा?

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
      Karunanidhi, Jayalalitha के गुजर जाने के बाद अब ऐसी होगी Tamil Nadu Politics | वनइंडिया हिंदी

      नई दिल्‍ली। द्रविड़ मुनेत्र कड़गम यानी डीएमके, वही पार्टी जिसकी कमान सन 1969 में एम करुणानिधि ने संभाली थी। डीएमके के संस्थापक थे सीएन अन्नादुरई, जिन्‍होंने कांग्रेस राज खत्‍म कर तमिलनाडु में नए विचार के साथ सत्‍ता स्‍थापित की। अन्‍नादुरई सिर्फ एक साल सीएम रह सके। फरवरी 1969 में उनका निधन हो गया। कुछ महीने बाद करुणानिधि ने पार्टी की कमान संभाली। उस वक्‍त तमिलनाडु के दो सितारे एक ही मंच पर विराजमान थे। पहले खुद करुणानिधि और दूसरे थे मरुदुर गोपालन रामचंद्रन यानी एमजीआर। उस वक्‍त दोनों दोस्‍त थे, लेकिन आगे चलकर एमजीआर करुणानिधि के दुश्‍मन बने और ऑल इंडिया अन्ना द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (एआईएडीएमके) की स्‍थापना की। वही एआईएडीएमके जिसकी कमान एमजीआर के बाद जयललिता ने संभाली। एमजीआर जयललिता के राजनीतिक गुरु थे।

      Vacuum in Tamil Nadu politics could be chance for rajinikanth, kamal hassan BJP was waiting for

      करुणानिधि को एमजीआर से खतरा होने लगा था और पार्टी की कमान संभालने के 3 साल बाद ही उन्‍होंने एमजीआर को बाहर का रास्‍ता दिखा दिया। अपमान का घूंट पीने के बाद एमजीआर ने नई पार्टी बनाई- एआईएडीएमके। तमिलनाडु से कांग्रेस का सफाया तो 1967 के चुनाव में अन्‍नादुरई ने ही कर दिया था। अब राज्‍य में सिर्फ दो पार्टी थीं डीएमके और एआईएडीएमके। दो ही नेता थे करुणानिधि और एमजीआर, एकदम आमने-सामने। यहां से इन दोनों पार्टियों का राजनीतिक खेल ऐसा शुरू हुआ कि तमिलनाडु की सत्‍ता ने कोई और चेहरा देखा ही नहीं। कभी करुणानिधि तो कभी एमजीआर, कभी जयललिता तो कभी करुणानिधि। इन्‍हीं तीन बड़े चेहरों का स्‍टारडम तमिलनाडु की जनता को लुभाता रहा है।

      एक बार फिर पुराने मोड़ पर आकर खड़ी हो गई तमिलनाडु की राजनीति

      एक बार फिर पुराने मोड़ पर आकर खड़ी हो गई तमिलनाडु की राजनीति

      करुणानिधि, एमजीआर और जयललिता में से सबसे पहले दुनिया को एमजीआर ने अलविदा कहा। दिसंबर 1987 में किडनी फेल होने के कारण एमजीआर का निधन हो गया। उनके बाद 2016 में एमजीआर की विरासत संभालने वाली जयललिता भी चल बसीं। करुणानिधि अकेले बचे थे, 7 अगस्‍त 2018 को वह भी चल बसे। इस समय तमिलनाडु की सत्‍ता पर एआईडीएमके काबिज है, लेकिन पार्टी के अंदरूनी हालात ठीक नहीं हैं। दूसरी ओर डीएमके की कमान करुणानिधि के बेटे स्‍टालिन के हाथों में हैं। करुणानिधि और जयललिता के जाने के बाद डीएमके और एआईएडीएमके दोनों की कमजोर पड़ती दिख रही हैं। तमिलनाडु की राजनीति एक बार फिर पुराने मोड़ पर आकर खड़ हो गई है। राजनीति के उस मोड़ पर कांग्रेस का सफाया हुआ था और पहले करुणानिधि, उनके बाद एमजीआर का उदय हुआ। ठीक उसी प्रकार से आज तमिलनाडु में दो और सितारे आमने-सामने हैं। एक नाम है रजनीकांत और दूसरे हैं कमल हासन। तब कांग्रेस ने तमिलनाडु में राजनीतिक वजूद खोया था और आज बीजेपी के पास तमिलनाडु की सियासत में जगह बनाने का एक मौका है।

       करुणानिधि-एमजीआर के बाद होगी रजनीकांत-कमल हासन के स्‍टारडम की टक्‍कर

      करुणानिधि-एमजीआर के बाद होगी रजनीकांत-कमल हासन के स्‍टारडम की टक्‍कर

      तमिलनाडु की राजनीति में फिल्‍मी हस्तियां दशकों से जादू बिखेरती आ रही हैं। करुणानिधि स्क्रिप्‍टराइटर थे, एमजीआर सुपरस्‍टार, जयललिता भी फिल्‍मों से आईं और अब कमल हासन और रजनीकांत। स्‍टारडम और फैन फॉलोइंग के मामले में रजनीकांत निश्चित तौर पर से कमल हासन से आगे हैं। दूसरी ओर कमल हासन बेहद संजीदा हैं, वह सोच-विचाकर कार्य करते हैं। उनकी समझ काफी बेहतर है। अब बची कांग्रेस, जो कि दशकों से तमिलनाडु की राजनीति में बेअसर हो चुकी है, लेकिन बीजेपी के पास एक मौका है। चुनौती बीजेपी के लिए भी कम नहीं है, क्‍योंकि तमिलनाडु में इस समय ऐसा कोई नेता नहीं है जो रजनीकांत के सामने खड़ा होकर ताल ठोक सके। तमिलनाडु में स्‍टारडम ही राजनीतिक सफलता की पहली शर्त है, जो कि रजनीकांत के पास है। कांग्रेस की तरह बीजेपी के पास भी ज्‍यादा विकल्‍प नहीं हैं। हां, इतना जरूर है कि बीजेपी करुणानिधि, जयललिता के जाने के बाद पैदा हुए खालीपन के इस दौर में तमिलनाडु में थोड़ा-बहुत आधार जरूर बना सकती है। साथ ही 2019 के लिए एनडीए के लिए एक बेहतर साथी भी तलाश सकती है।

       बीजेपी के पास तमिलनाडु में कई विकल्‍प

      बीजेपी के पास तमिलनाडु में कई विकल्‍प

      तमिलनाडु की राजनीति को अगर गठबंधन के लिहाज से देखें तो सभी विकल्‍प खुले हैं। डीएमके, एआईएडीएमके, रजनीकांत और कमल हासन सभी ने अभी तक पत्‍ते नहीं खोले हैं। चूंकि, एआईएडीमके सत्‍ता में है, उसे केंद्र सरकार से काफी मदद की जरूरत है। ऐसे में उसका झुकाव निश्चित रूप से एनडीए की ओर बना हुआ है। हालांकि, रजनीकांत भी नरेंद्र मोदी के बड़े प्रशंसक माने जाते हैं। उनकी और बीजेपी की विचारधारा भी काफी हद तक मिलती है। यह समीकरणों की संभावनाएं तलाशने का दौर है और इस समय तमिलनाडु की सियासत में सब यही कर रहे हैं।

      जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

      देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
      English summary
      Vacuum in Tamil Nadu politics could be chance for rajinikanth, kamal hassan BJP was waiting for.

      Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
      पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

      X
      We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more