• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में अब तक 30 बच्चों का हुआ जन्म, जानिए, 2800 ट्रेनों में कितने प्रवासी पहुंचे घर?

|

नई दिल्ली। कोरोनावायरस प्रेरित राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बीच विभिन्न महानगरों में फंसे प्रवासियों को उनके घरों तक पहुंचाने के लिए गत 1 मई से रेलवे द्वारा चलाई गई श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में सवार गर्भवती महिलाओं ने कुल 30 बच्चों को जन्म दे चुकी हैं। चूंकि श्रमिक स्पेशल ट्रेनों का ऑपरेशन अभी जारी है, तो आकंड़ों की संख्या और भी बढ़ सकती हैं।

migrants

गौरतलब है लॉकडाउन के दौरान रोजाना चलाई जा रही श्रमिक स्पेशल ट्रेनें अब तक कुल 37 लाख प्रवासियों को उनके गंतव्य स्टेशन तक पहुंचा चुकी है। रेलवे के मुताबिक प्रवासियों के लिए एक मई से शुरू हुई विशेष ट्रेन की अब तक 2800 रेड़गाड़ियां देश के विभिन्न राज्यों में फंसे प्रवासियों को लेकर उनके गृह प्रदेशों तक पहुंचा चुकी है और 1 मई से 23 मई के अंतराल में श्रमिक विशेष रेलगाड़ियों में अब तक 30 बच्चों का जन्म हुआ है।

भारत में पिछले 10 दिनों में सामने आए रिकॉर्ड Covid-19 पॉजिटिव केस, जानिए, देश में क्यों बढ़ रहे हैं मामले?

baby

बेंगलुरु से यूपी स्थित अपने घर लौटने के लिए श्रमिक विशेष रेलगाड़ी में सवार हुई 23 वर्षीय संगीता पिछले सोमवार को नौ महीने के गर्भवती थीं। यात्रा के दौरान उन्होंने रेलगाड़ी में ही सह-यात्रियों की मदद से बेटे को जन्म दिया। बेंगलुरु पुलिस ने दंपति द्वारा बच्चे की भेजी गई तस्वीर भी साझा की।

प्रवासियों को मुंबई से लेकर गोरखपुर जाने वाली ट्रेन सुबह ओडिशा पहुंच गई, जानिए रेलवे ने क्या कहा?

migrants

बीते शुक्रवार को 27 वर्षीय मधु कुमारी ने भी उत्तर प्रदेश स्थित घर लौटने के दौरान ही बच्चे को जन्म दिया। जब उन्हें प्रसव पीड़ा हुई तब रेलगाड़ी में सवार रेलवे कर्मचारियों ने तुंरत इमरजेसी की सूचना रेलवे सुरक्षा बल तक पहुंचा दिया, लेकिन रेलगाड़ी के झांसी रेलवे स्टेशन पहुंचने से सह यात्रियों के सहयोग से रेलगाड़ी में ही बच्चे का सफल प्रसव करवा लिया गया। हालांकि झांसी स्टेशन पर मधु को चिकित्सा सुविधा मुहैया कराई गई।

यहां प्रवासियों की वापसी से तेजी से बढ़े Covid-19 के नए मामले, अगला हॉटस्पॉट हो सकता है यह राज्य

baby

रेलवे के प्रवक्ता आरडी बाजपेई ने कहा कि हम इस बात से पूरी तरह से वाकिफ हैं कि कई बार हमारे स्टाफ को स्थिति की मांग के अनुसार काम करने की जरूरत होती है और वे ऐसा करते हैं और हमें यह कहते हुए गर्व हो रहा है कि इन ट्रेनों में जन्म लेने वाले सभी बच्चे स्वस्थ हैं और उनकी माताएं भी स्वस्थ हैं। रेलवे प्रवक्ता ने कहा, हम बहुत खुश हैं कि हम उनकी मदद कर सके।

लॉकडाउन में भारतीय वायरस से कम चिंतित हैं, जानिए उनकी चिंता की बड़ी वजह क्या है?

migrants

बाजपेई ने बताया कि रेलवे के पास चिकित्सा आपात स्थितियों से निपटने के लिए एक अच्छी प्रणाली है और जब भी किसी यात्री को मदद की जरूरत होती है, तो ऑनबोर्ड स्टाफ उस स्टेशन को अलर्ट कर देता है, जहां चिकित्सा सहायता उपलब्ध होती है। रेलवे के प्रवक्ता के अनुसार रेलवे कॉलोनियों में रहने वाले डॉक्टर हमेशा किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए होते हैं।

उच्च अनौपचारिक श्रम वाले इन 7 राज्यों में तेजी से बढ़ी है बेरोजगारी दर, जानिए कौन है ये राज्य ?

migrants

उल्लेखनीय है श्रमिक स्पेशल ट्रेनों में बच्चे के जन्म की पहली घटना गत 8 मई को हुई, जब गुजरात से अकेले बिहार जा रही ममता यादव ने बच्चे को जन्म दिया। यात्रियों में से किसी ने तुरंत बच्ची का नाम कोरोना कुमारी रख दिया। 13 मई को पिंकी यादव ने अहमदाबाद-फैजाबाद श्रमिक विशेष रेलगाड़ी में आरपीएफ कर्मियों की मदद से बेटे को जन्म दिया। इसी तरह रविवार को उत्तर प्रदेश आने वाली श्रमिक ट्रेन में जन्म लेने वाली एक बच्ची का नाम 'लॉकडाउन यादव' रखा गया है।

इस सरकारी योजना के तहत कुल 2000 लाभार्थियों को मिल चुका है Covid-19 का निः शुल्क उपचार

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Workers' special trains run daily during the lockdown so far have brought a total of 37 lakh migrants to their destination station. According to the railways, so far 2800 trains of special train for migrants started from May 1 have reached stranded migrants in different states of the country to their hometowns and in the interval of 1 May to 23 May, 30 special trains have so far been covered. Children are born.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X