• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Good News: अर्थव्यवस्था में सुधार के संकेत, लेकिन तकनीकी मंदी की चपेट में है देश

|

नई दिल्ली। कोरोना महामारी प्रेरित राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन में ठप हुए उद्योग-धंधों के बीच शुक्रवार को भारतीय अर्थव्यवस्था में पहली बार सुधार के संकेत मिले हैं, लेकिन दूसरी तिमाही में सुधार के संकेत के बावजूद भारतीय अर्थव्यवस्था तकनीकी मंदी की चपेट में जाता दिख रहा है। वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही महामारी की चपेट में रही, लेकिन दूसरी तिमाही में जीडीपी में -7.5 फीसदी की गिरावट रही। हालांकि पहली तिमाही में जीडीपी में यह गिरावट -23.9 फीसदी रही थी।

jdp

पत्नी के झगड़ों से परेशान शख्स MNC की नौकरी छोड़कर बन गया टैक्सी ड्राइवर

गौरतलब है करीब दो महीने के राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के बाद मई के अंत में भारत में आर्थिक गतिविधियां शुरू हुईं, जिसके बाद से भारतीय अर्थव्यवस्था पटरी पर आनी शुरू हो गई थी, लेकिन 1996 के बाद एक बार फिर देश में तकनीकी मंदी की आहट के संकेत मिले हैं आर्थिक विश्लेषकों का मानना है कि जुलाई-सितंबर की इस तिमाही के आंकड़े आशंकाओं की तुलना में बेहतर परिणाम दिए हैं। विश्लेषकों ने जीडीपी में -8.8 फीसदी की गिरावट का अनुमान था, लेकिन अर्थव्यवस्था में सुधार के चलते पूरे वित्तीय वर्ष में आर्थिक विकास दर अब -8.7 रहने की उम्मीद है।

jdp

केंद्रीय कृषि कानून: हंगामा क्यों है बरपा, आखिर हरियाणा और पंजाब के किसान ही क्यों भड़के हैं?

हालांकि अगर महामारी को अलग कर दिया जाए, तो यह पिछले चार दशकों से सबसे बुरा आर्थिक प्रदर्शन होगा। अर्थशास्त्रियों का कहना है कि वित्त वर्ष 2021-2022 यानी अप्रैल 2021 के बाद उपभोक्ताओं की मांग में दोबारा तेजी के साथ अर्थव्यवस्था फिर रफ्तार पकड़ सकती है, जिससे वाहन बिक्री, माल ढुलाईऔर गैर टिकाऊ वस्तुओं के क्षेत्र में उपभोक्ताओं की मांग में तेजी आने का अनुमान है। इसके अलावा त्योहारी सीजन का अच्छा असर भी तीसरी तिमाही के नतीजों पर दिख सकता है। वहीं, सरकार ने आत्मनिर्भर भारत योजना के तहत तीसरे पैकेज की घोषणा भी तीसरी तिमाही पर सकारात्मक प्रभाव डालेगा।

फैन्स को इंतजार है आखिर 40 की उम्र लांघ चुके ये बॉलीवुड सितारे कब करेंगे शादी?

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
On Friday, the Indian economy showed signs of recovery for the first time amid industry stagnation in the Corona pandemic-induced nationwide lockdown, but despite signs of improvement in the second quarter, the Indian economy appears to be in the grip of a technical slowdown. The first quarter of FY 2020-21 was in the grip of the epidemic, but in the second quarter GDP fell by -7.5 per cent. However, the decline in GDP in the first quarter was -23.9 per cent.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X