• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

NCB ने रिया की बेल का किया विरोध, बताया ड्रग सिंडीकेट का हिस्सा, कहा- हत्या से भी बदतर अपराध

|

मुंबई। सुशांत सिंह केस की जांच के दौरान ड्रग मामले में फंसी रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शौविक चक्रवर्ती समेत तीन अन्य की जमानत याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई जारी है। इस दौरान नॉरकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने बेल का विरोध करते हुए रिया और शौविक समेत आरोपियों पर गंभीर आरोप लगाए हैं। एनसीबी ने हाईकोर्ट को बताया कि ऐसे अपराध के मामले में जमानत नहीं दी जानी चाहिए। इन्होंने जो काम किया है वह हत्या या गैर इरादतन हत्या से भी ज्यादा खतरनाक है।

    Sushant Case: Rhea Chakraborty को लेकर Bombay High Court में NCB ने दी ये दलीलें | वनइंडिया हिंदी
    रिया को बताया ड्रग सिंडीकेट का हिस्सा

    रिया को बताया ड्रग सिंडीकेट का हिस्सा

    एनसीबी के अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह ने कोर्ट में रिया और शौविक को ड्रग सिंडीकेट से जुड़ा बताया। सिंह ने कहा कि मैं कोर्ट को बताना चाहता हूं कि ये एक ड्रग सिंडीकेट है। सभी लोग जो अभी तक गिरफ्तार किए गए हैं एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। ये एक ड्रग सिंडीकेट ही है। ये रेगुलर खरीदारी करते थे और इनके संबंध थे।

    सिंह ने कहा कि पूरी सुनवाई के दौरान आरोपी इसे सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़ा केस बता रहे हैं लेकिन इस जांच का इससे (सुशांत की मौत) से कोई लेना-देना नहीं है। अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि इस केस सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच से कोई संबंध नहीं है। वह (सुशांत) एक उपभोक्ताओं में से हो सकता है लेकिन ये सारा (ड्रग का) लेनदेन और सौदा सुशांत से जुड़ा नहीं है।

    हत्या से भी बढ़कर है ड्रग ट्रैफिकिंग

    हत्या से भी बढ़कर है ड्रग ट्रैफिकिंग

    अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल ने जमानत का विरोध करते हुए कहा कि NDPS एक्ट की उस भूमिका को याद रखना चाहिए जिस सामाजिक स्थिति और विधायी मंशा को ध्यान में रखते हुए ये एक्ट बनाया गया है।

    अनिल सिंह ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने इसकी व्याख्या ऐसे अपराध की तरह की है जो हत्या या गैर इरादतन हत्या से भी बढ़कर है। हत्या एक व्यक्ति या परिवार को प्रभावित करती है जबकि ड्रग का मामला पूरे समाज को प्रभावित करता है। हम देश के कॉलेजों में युवाओं में इसका तेजी से बढ़ता चलन देख रहे हैं। यह एक ऐसा अपराध है जिसे गैर जमानती बनाया जाना चाहिए।

    22 दिनों से जेल में बंद हैं रिया

    22 दिनों से जेल में बंद हैं रिया

    रिया चक्रवर्ती, शौविक चक्रवर्ती और तीन अन्य आरोपियों ने बॉम्बे हाईकोर्ट में जमानत के लिए याचिका दायर की है जिस पर मंगलवार को जस्टिस सारंग वी कोटवाल की एक सदस्यीय पीठ में सुनवाई हो रही है। NCB ने आरोपियों को जमानत दिए जाने का जोरदार विरोध किया है।

    बता दें कि एनसीबी की जांच में रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शौविक चक्रवर्ती, सैमुअल मिरांडा और दीपेश सावंत जेल में बंद हैं। रिया चक्रवर्ती पिछले 22 दिनों से जेल में बंद हैं। बार-बार उनकी जमानत अर्जी खारिज की जा चुकी है।

    सुशांत की मौत मामले में आरोपी हैं रिया

    सुशांत की मौत मामले में आरोपी हैं रिया

    रिया चक्रवर्ती सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले में मुख्य आरोपी भी हैं। उसी मामले की जांच के दौरान रिया के जब्त मोबाइल से ड्रग खरीदने की बात सामने आई जिसके बाद मामले में एनसीबी ने जांच शुरू की। रिया और उनके भाई की व्हाट्सएप चैट में उनके ड्रग पैडर्स के साथ रिश्ते सामने आए थे। सीबीआई और ईडी की जांच में तो रिया को कोई मुश्किल नहीं हुई लेकिन एनसीबी ने ड्रग के मामले में रिया को शिकंजे में ले लिया। तब से रिया अभी तक जेल में ही हैं।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    ncb oppose bail plea of rhea chakraborty in bombay high court
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X