कौन हैं जस्टिस चेलमेश्वर, जिन्होंने चीफ जस्टिस पर उठाए हैं गंभीर सवाल

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi
Supreme Court Judges Historic Press confrence, Must Watch | वनइंडिया हिन्दी

नई दिल्ली। भारतीय इतिहास में पहली बार शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट के चार जजों ने मीडिया से बात की है। चीफ जस्टिस के बाद सुप्रीम कोर्ट के सबसे सीनियर जस्टिस जे चेलमेश्वर ने कई सवाल न्यायपालिका और चीफ जस्टिस के बर्ताव पर खड़े किए हैं। जस्टिस चेलमेश्वर के साथ तीन और जज इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में थे। हालांकि प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ज्यादा जस्टिस चेलमेश्वर ने ही बोला। जस्टिस चेलमेश्वर के घर पर ही ये प्रेस कॉन्फ्रेंस हुई है। ये कोई पहला मौका नहीं है जब जस्टिस चेलमेश्वर चर्चा में है। वो पहले भी कई मामलों पर कड़ा रुख अपनाते रहे हैं। आइए जानते हैं कौन हैं जस्टिस चेलमेश्वर।

केरल और गुवाहाटी हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस रह चुके हैं जस्टिस चेलमेश्वर

केरल और गुवाहाटी हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस रह चुके हैं जस्टिस चेलमेश्वर

64 साल के जस्टिस चेलमेश्वर सुप्रीम कोर्ट के दूसरे वरिष्ठ जज हैं। जब जस्टिस दीपक मिश्रा चीफ जस्टिस बने उस वक्त उनका नाम भी इसके लिए आया था। आन्ध्र प्रदेश से आने वाले जस्टिस चेलमेश्वर का बतौर जज काफी लंबा करियर रहा है। वो सुप्रीम कोर्ट से पहले गुवाहाटी और केरल हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस रह चुके हैं। जज के तौर पर उन्होंने अपना करियर आन्ध्र प्रदेश हाईकोर्ट से शुरू किया, जहां वो 1997 में एडिशनल जज बने। 2007 में वो गुवाहाटी के चीफ जस्टिस बने और 2010 में केरल हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने। अक्टूबर 2011 में वो सुप्रीम कोर्ट के जज बने।

आधार कार्ड पर दिया था कड़ा फैसला

आधार कार्ड पर दिया था कड़ा फैसला

भारतीय सर्वोच्च न्यायालय की तीन न्यायाधीशों की पीठ, जिसमें जस्टिस चेलेमेश्वर भी शामिल थे, ने एक अहम फैसला बीते साल दिया था। इसमें कहा गया था कि आधार कार्ड के ना होने की स्थिति में किसी भारतीय नागरिक को बुनियादी सेवाओं और सरकारी सब्सिडी से वंचित नहीं किया जा सकता है। इसके अलावा कोलेजियम और कई दूसरे मामलों पर भी वो जस्टिस चेलमेश्वर कड़ाई से बात रखते रहे हैं। चीफ जस्टिस के साथ भी कई मुद्दों पर उनके मतभेद की खबरें पहले आ चुकी हैं।

 ये बोले हैं न्यायाधीश चेलमेश्वर

ये बोले हैं न्यायाधीश चेलमेश्वर

न्यायाधीश चेलमेश्वर ने कहा कि चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ने भ्रष्टाचार की शिकायत नहीं सुनी, हम नहीं चाहते हैं कि 20 साल बाद हम पर कोई आरोप लगे। न्यायाधीश चेलमेश्वर ने कहा कि जजों के बारे में CJI को शिकायत की थी लेकिन चीफ जस्टिस ने हमारी बात नहीं सुनी। न्यायाधीश चेलमेश्वर ने कहा कि हम देश का कर्ज अदा कर रहे हैं। मजबूर हो कर मीडिया के सामने आना पड़ा, अब चीफ जस्टिस पर देश फैसला करे।

हम नहीं बोले तो देश में लोकतंत्र खत्म हो जाएगा: जस्टि‍स चेलमेश्वर

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
know about supreme court Justice j Chelameswar

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.