• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

कितनी बदल गई शिवसेना? हिंदू ह्रदय ही नहीं, सियासी रंग और ढंग भी बदला!

|

बेंगलुरू। हिंदू ह्रदय सम्राट बालासाहेब ठाकरे द्वारा वर्ष 1966 में स्थापित शिवसेना करीब 53 वर्षों का लंबा सफ़र तय कर चुकी है, लेकिन कभी पार्टी ने अपनी मूल विचारधाराओं से समझौता नहीं किया, लेकिन कभी महाराष्ट्र में किंगमेकर की भूमिका में रही शिवसेना जब से किंग की भूमिका में महाराष्ट्र की सत्ता पर सवार हुई है, उसके रंग-ढंग, चाल और चरित्र में तेजी से बदलाव महसूस किया जा रहा है।

Shiv sena

कट्टर हिंदूवादी विचारधारा का पोषण और उसको प्रश्रय देनी वाली शिवसेना अब सियासी शतरंज की बिसात पर मूल विचारधाराओं को ऐसे छोड़कर आगे बढ़ रही है जैसे सर्प अपने केंचुल बदलकर आगे बढ़ जाते हैं। इसकी बानगी शिवसेना के मुखपत्र सामना के बदले हुए मास्टरहेड के रंग और कलेवर और हिंदू शब्द से उसकी एहतियातन दूरी में बखूबी दिख रही है।

Shiv sena

शिवसेना गठबंधन राजनीतिक मजबूरी को आधार बनाकर खुद को पाक-साफ घोषित करने की कोशिश जरूर कर सकती है, लेकिन परस्पर विरोधी दलों के साथ गठबंधन करके मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठने को आतुर शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे ने मूल विचारों से समझौता करके शिवसेना को पतन की ओर अग्रसारित कर दिया है। महाराष्ट्र में परस्पर विरोधी दलों के साथ गठबंधन की राजनीति में उतरी शिवसेना अब तक पार्टी के मूल सिद्धांतों और विचारों से ही समझौता करके वैचारिक शून्यता की ओर बढ़ती हुई दिख रही है।

Shiv sena

इसकी बानगी सोशल मीडिया मे वायरल हो रहे तस्वीरें हैं, जिन्होंने शिवसेना की वैचारिक शून्यता की चीख-चीखकर गवाही दे रहे हैं। महाराष्ट्र में तीन दलों की साझा सरकार के शपथ ग्रहण समारोह के बाद सोशल मीडिया में एक तस्वीर तेजी से वायरल हो रही है, जिसमें शिवसेना के संस्थापक बालासाहेब के तस्वीर के ऊपर हमेशा अंकित रहने वाला हिंदू ह्रदय सम्राट में हिंदू नदारद है। वायरल हो रही तस्वीर शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे के महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनने की खुशी में शिवसैनिकों द्वारा मुंबई के विभिन्न चौराहों पर लगाए गए होर्डिंग और पोस्टरों के स्नैपशॉट है।

Shiv sena

मुंबई के विभिन्न चौराहों पर लगाए गए उन पोस्टरों में शिवसेना संस्थापक बालासाहेब ठाकरे हमेशा की तरह दोनों हाथ जोड़कर जरूर खड़े हैं, लेकिन पोस्टर पर छपी उनकी तस्वीर के ऊपर लिखे जाने वाले 'हिंदू ह्रदय सम्राट' से इस बार हिंदू शब्द नदारद है, जिसे संभवत तीनों पार्टियों की साझा सरकार की सेक्युलर छवि के लिए हटाया गया है।

यह नजारा अद्भुत है, जिलमें शिवसेना संस्थापक बालासाहेब ठाकरे सेक्युलर अवतार में नजर आए। इसे शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे गठबंधन की मजबूरी से जोड़कर देखा जा सकता है, लेकिन वैचारिक और सैद्धांतिक मूल्यों को ताख पर रखकर उद्धव ठाकरे क्या हासिल करने निकले हैं यह बड़ा सवाल उठ खड़ा हुआ है।

Shiv sena

हालांकि इसके संकेत तभी मिल गए थे, जब पिता बालासाहेब ठाकरे का सपना पूरे करने के लिए उद्धव ठाकरे मुंबई के शिवाजी पार्क में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह मंच पर चढ़े थे। यह वही ऐतिहासिक शिवाजी पार्क था, जहां 53 वर्ष पहले बालासाहेब ठाकरे ने शिवसेना की स्थापना की थी, लेकिन जब उनका बेटा मुख्यमंत्री पद की शपथ ले रहा था तब उनकी तस्वीर भी वहां मौजूद नहीं थी। शायद एनसीपी-कांग्रेस की इसमें सहमति नहीं थी।

दूसरी तस्वीर और भी भयानक है। यह तस्वीर शिवसेना के मुखपत्र सामना है। सोशल मीडिया में वायरल हो रहे एक तस्वीर में शिवसेना के मुखपत्र सामना के मास्टरहेड के निकट लिखे गए पंचलाइन की ओर इशारा किया गया है, जिसमें से हिंदू शब्द नदारद दिख रहा है।

Shiv sena

वायरल तस्वीर में साफ-साफ दिख रहा है कि सामना के मास्टरहेड की पंचलाइन में बदलाव किया गया है, जो महाराष्ट्र में कांग्रेस और एनसीपी जैसे सेक्युलर दलों को खुश करने की कोशिश के रूप देखा जा रहा है। 28 नवंबर को प्रकाशित सामना न्यूजपेपर के मास्टरहेड पर लिखे पंचलाइन पर गौर करने पता चलता है कि शिवसेना यहां भी सेक्युलर अवतार ले चुकी है।

28 नवंबर को प्रकाशित सामना दैनिक न्यूजपेपर के मास्टरहेड की पंचलाइन से हिंदू शब्द को हटाकर उसकी जगह पर समभावाचा को जोड़ दिया गया है। मराठी में समभावचा का अर्थ सेक्युलर यानी सभी धर्मों का सम्मान होता है। इतिहास गवाह है जब से सामना का प्रकाशन शुरू हुआ है तब से सामना के मास्टर हेड पर , 'ज्वलंत हिंदुत्वाचा पुरस्कार करणारे एकमेव मराठी दैनिक' (ज्वलंत हिंदुत्व को पुरस्कृत करने वाला एकमात्र मराठी दैनिक) लिखा जाता रहा है।

Shiv sena

शिवसेना के इतिहास में शायद यह पहली बार हुआ है जब शिवसेना ने मास्टरहेड से हिंदू निकालकर उसकी जगह पर अब 'सर्वधर्म समभावचा पुरस्कार करणारे एकमेव मराठी दैनिक' (सभी धर्मों के धर्म को पुरस्कृत करने वाला एकमात्र मराठी दैनिक) लिख दिया है। शिवसेना महाराष्ट्र की सत्ता के लिए आगे क्या-क्या करने वाली है, यह उसकी महज बानगी भर कही जा सकती है।

सोशल मीडिया में वायरल हो रहे दोनों तस्वीरें शिवसेना के बदले हुए चाल-चरित्र और उसके रंग-ढंग की कहानी बताने के लिए काफी है। महाराष्ट्र की सत्ता के लिए परस्पर विरोधी दलों के साथ गठबंधन करके में अपने अस्तित्व के साथ समझौता कर चुकी शिवसेना सत्ता में बने रहने के लिए आगे और क्या-क्या समझौते कर सकती है इसका अंदाजा वायरल हो रहे दोनों तस्वीरों से आसानी से लगाया जा सकता है।

Shiv sena

यह वही सामना है, जो कभी अपने संपादकीय में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देश बतला चुकी है और अब इतनी बदल चुकी है कि अपने मूल सिद्धांतों से मुंह मोड़ लिया है। हालांकि शिवसेना चीफ और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे अभी भी शिवसेना को हिंदूवादी पार्टी बताने से नहीं कतरा रहे हैं।

Shiv sena

वजह साफ है, क्योंकि शिवसेना को डर है कि उसके हिंदू बहुसंख्यक वोटर उससे छिटक जाएंगे। यह एहसास शिवसेना चीफ को तब हुआ मीडिया में शिवसेना के ह्रदय परिवर्तन की खबरें सुर्खियां बनने लगी थीं, लेकिन शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे भूल गए कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बनने के बाद अपने पहले प्रेस कांफ्रेंस में खुद हिंदूवादी विचार धाराओं को भुला चुके थे।

Shiv sena

महाराष्ट्र की जनता ने महाराष्ट्र में सरकार बनाने के लिए हिंदूवादी पार्टी बीजेपी और शिवसेनाको दोबारा जनादेश दिया था, लेकिन सियासी मकसद के लिए शिवसेना जनादेश का अपमान किया। कहते हैं जनता सब जानती है और वह यह भी देख रही है कि उसके जनादेश के साथ क्या हुआ है। शायद इसी बात से डरे-सहमे उद्धव मीडिया से यह कहते हुए नजर आए कि शिवसेना अभी भी हिंदूवादी पार्टी है।

निः संदेह शिवसेना महाराष्ट्र की सत्ता के लिए पार्टी के सिद्धांतों और विचाराधारा को ताख पर रखकर आगे बढ़ रही है। विचारों से यह समझौता शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे ने शायद इस मकसद किया है ताकि महाराष्ट्र में गठित साझा सरकार अगले पांच वर्ष का अपना कार्यकाल पूरा कर सके।

Shiv sena

लेकिन वह भूल गई हैं परस्पर विरोधी लोग जब साथ नहीं चल सकते हैं तो पूरी की पूरी पार्टी को साथ लेकर चल पाना कितना मुश्किल होगी और वह भी तब जब सभी स्वहितों को ध्यान में रखकर आगे बढ़ना चाह रहीं हों। यह कांग्रेस और एनसीपी का दवाब ही था कि शिवसेना को अपने मूल विचारधारा और सिद्धांतों को उठाकर किनारे रखना पड़ा है।

Shiv sena

शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे को सरकार चलाने का अनुभव बिल्कुल नहीं है और माना जा रहा है कि वो एनसीपी चीफ शरद पवार के इशारों पर काम कर रहे हैं। महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पर बैठने के बाद उद्धव ठाकरे द्वारा लिए गए फैसलों में इसकी झलक स्पष्ट देखी जा सकती है।

Shiv sena

मुंबई मेट्रो के कार शेड निर्माण प्रोजेक्ट पर रोक के आदेश और महत्वाकांक्षी बुलेट ट्रेन प्रोजेक्ट पर रोड़ा अटकाने को कोशिश बतलाती है कि शिवसेना के हाथों से कांग्रेस और एनसीपी रानजीतिक खेल रह हैं, जिसका सीधा नुकसान महाराष्ट्र की जनता को है और महाराष्ट्र का होगा।

क्या महाराष्ट्र में बाकी है कुछ सियासी ड्रामा, फ्लोर टेस्ट से पहले शिवसेना में दिखा डर?

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Both photos, which have gone viral on social media, are enough to tell the story of Shiv Sena's changed character and color. The Shiv Sena, which has compromised with its existence in alliance with conflicting parties for the power of Maharashtra, and what agreements can be made to stay in power, can be easily guessed from both the viral photos.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more