• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

'लेडी सिंघम' के नाम से मशहूर महिला SHO ने गायब किए 70 लाख रुपए, CCTV से खुला 'बड़ा राज'

|

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली से सटे गाजियाबाद में एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसने पुलिस विभाग पर एक बार फिर सवालिया निशान लगा दिए हैं। यहां एक महिला एसएचओ ने गबन के आरोपियों से बरामद किए गए 1 करोड़, 15 लाख रुपयों में से 70 लाख रुपए गायब कर दिए। मामले का खुलासा हुआ तो पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों में हड़कंप मच गया। मामले में एसएसपी ने आरोपी महिला एसएचओ समेत सात पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करते हुए सभी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के आदेश दिए हैं। इस मामले की जांच सीओ को सौंपी गई थी, जिनकी तहकीकात में चौंकाने वाली हकीकत सामने आई।

क्या है पूरा मामला

क्या है पूरा मामला

दरअसल, गाजियाबाद के साहिबाबाद इंडस्ट्रियल इलाके में गबन का एक मामला सामने आया था, जिसमें एटीएम में रुपए डालने वाली एक कंपनी के कर्मचारियों पर ही गबन का आरोप था। इस मामले की जांच लिंक रोड थाने की इंचार्ज लक्ष्मी सिंह चौहान को सौंपी गई थी। रुपए डालने वाली कंपनी 'सीएमएस इन्फो सिस्टम' का क्षेत्रीय कार्यालय साहिबाबाद के साइट-4 इंडस्ट्रियल इलाके में स्थित है। कंपनी को जब रुपयों में हेराफेरी का पता चला तो बीते 22 अप्रैल को कैश कस्टोडियन राजीव सचान के ऊपर केस दर्ज कराया गया था। लिंक रोड थाना पुलिस ने बीते मंगलवार की रात को मुख्य आरोपी राजीव सचान को उसके साथी आमिर के साथ गिरफ्तार कर लिया। यहां से एसएसओ लक्ष्मी सिंह चौहान ने रुपए गायब करने का खेल शुरू किया।

बरामद हुए 1.15 करोड़, दिखाए 45 लाख

बरामद हुए 1.15 करोड़, दिखाए 45 लाख

पुलिस ने मंगलवार को जब आरोपियों को गिरफ्तार किया, तो उनके पास से 1.15 करोड़ रुपए बरामद किए गए। लिंक रोड थाना पुलिस ने इसमें 70 लाख रुपए गायब करते हुए केवल 45 लाख, 81 हजार रुपए की बरामदगी दिखाई और फर्द तैयार कर दी। इसके बाद जब मामले में सीओ राकेश कुमार मिश्र ने गिरफ्तार आरोपियों से पूछताछ की तो पता चला कि राजीव सचान से करीब 55 लाख रुपए और आमिर से 60 लाख रुपये बरामद किए गए थे। बरामद की गई रकम में हेरफेर की खबर सुनकर वरिष्ठ अधिकारियों में हड़कंप मच गया और सीओ राकेश कुमार मिश्र को पूरे मामले की तहकीकात करने के लिए कहा गया।

सीसीटीवी से पकड़ में आया बड़ा खेल

सीसीटीवी से पकड़ में आया बड़ा खेल

सीओ राकेश कुमार ने मामले की जांच के लिए महाराजपुर चौकी की सीसीटीवी फुटेज चेक की तो लिंक रोड़ थाना पुलिस बेनकाब हो गई। दरअसल सीसीटीवी फुटेज में नजर आया कि आरोपियों के पास से रुपयों से भरे दो बैग बरामद किए गए, जिनमें से एक बैग पुलिसकर्मियों ने एक प्राइवेट गाड़ी में रख दिया। फुटेज को गौर से देखा गया तो यह बैग कोई और नहीं, बल्कि खुद एसएचओ लक्ष्मी सिंह चौहान गाड़ी में रखती हुई दिखाई दी। इस पूरे खेल में एसएचओ लक्ष्मी सिंह चौहान के अलावा, सब इंस्पेक्टर नवीन कुमार पचौरी, कांस्टेबल बच्चू सिंह, फराज, धीरज भारद्वाज, सौरभ कुमार और सचिन कुमार शामिल थे। सीओ की रिपोर्ट के आधार पर एसएसपी ने इन सभी पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करते हुए इनके खिलाफ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए हैं।

लोग पुकारते थे 'लेडी सिंघम'

लोग पुकारते थे 'लेडी सिंघम'

आपको बता दें कि एसएचओ लक्ष्मी सिंह चौहान सोशल मीडिया पर भी काफी एक्टिव रहती थीं। लक्ष्मी सिंह चौहान छोटी-छोटी घटनाओं का खुलासा करने के बाद उन्हें अपने फेसबुक पेज पर शेयर करती थीं और लोग उन्हें लेडी सिंघम के नाम से पुकारते थे। आरोपी पुलिसकर्मियों को सस्पेंड करने के बाद एसएसपी सुधीर कुमार सिंह ने कहा, 'फर्द में बरामदगी के रुपयों में से 70 लाख रुपए कम दिखाने से पुलिस विभाग की छवि खराब हुई है। आरोप साबित होने पर लिंक रोड एसएचओ सहित सात पुलिसकर्मियों को सस्पेंड कर दिया गया है। इन सभी आरोपियों के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज की जाएगी।'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Ghaziabad: Link Road Police Station Incharge Laxmi Singh Chauhan Suspended.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X