• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

3.5 लाख में खरीदे केजरीवाल के मकान की कीमत हो गई 1.40 करोड़, बताया कितने दर्ज हैं उनपर केस

|

नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को 6 घंटे के लंबे इंतजार के बाद नई दिल्ली विधानसभा सीट पर अपना नामांकन दाखिल कर दिया। अरविंद केजरीवाल अपने परिवार और समर्थकों के साथ दोपहर करीब 12:30 बजे ही जामनगर हाउस स्थित रिटर्निंग ऑफिसर के कार्यालय पहुंच गए थे, लेकिन बहुत बड़ी संख्या में नामांकन के लिए पहुंचे लोगों के कारण उन्हें इंतजार करना पड़ा और वो शाम को 6:30 बजे अपना नामांकन दाखिल कर पाए। नामांकन के दौरान अरविंद केजरीवाल ने अपनी संपत्ति और उनके ऊपर चल रहे मुकदमों की जानकारी दी।

    Delhi Elections 2020: Arvind Kejriwal की Total Assets जानकर हो जाएंगे हैरान | Oneindia Hindi
    8 लाख रुपए बढ़ी केजरीवाल की चल संपत्ति

    8 लाख रुपए बढ़ी केजरीवाल की चल संपत्ति

    चुनाव आयोग को दिए गए हलफनामे के मुताबिक, 2015 से 2020 के बीच यानी पिछले पांच साल में अरविंद केजरीवाल की चल संपत्ति में करीब 8 लाख रुपए का इजाफा हुआ है। 2015 के विधानसभा चुनाव में अरविंद केजरीवाल ने बताया था कि उनकी चल संपत्ति की कुल कीमत 2.26 लाख रुपए है। 2020 में यह 769736 रुपए बढ़कर 9.95 लाख रुपए हो गई है। हालांकि पिछले पांच साल में अरविंद केजरीवाल और उनकी पत्नी की अचल संपत्ति में कोई बदलाव नहीं हुआ है। अरविंद केजरीवाल ने चुनाव आयोग को दिए गए अपने शपथ पत्र में मंगलवार को बताया कि उनकी स्व-अर्जित अचल संपत्ति, जिसकी कीमत साल 2015 में 92 लाख रुपए थी, अब उसकी कीमत 1.77 करोड़ रुपए हो गई है।

    ये भी पढ़ें-कौन हैं भाजपा के सुनील यादव, जो अरविंद केजरीवाल के खिलाफ लड़ेगे चुनावये भी पढ़ें-कौन हैं भाजपा के सुनील यादव, जो अरविंद केजरीवाल के खिलाफ लड़ेगे चुनाव

    1998 में खरीदी थी 3.5 लाख रुपए की प्रॉपर्टी

    1998 में खरीदी थी 3.5 लाख रुपए की प्रॉपर्टी

    शपथ पत्र के मुताबिक, अरविंद केजरीवाल ने साल 1998 में इंदिरापुरम और गाजियाबाद में जो अचल संपत्ति 3.5 लाख रुपए में खरीदी थी, उसकी मौजूदा कीमत अब 1.4 करोड़ रुपए है। अरविंद केजरीवाल के पिछले शपथ पत्र के मुताबिक 2015 में इसी अचल संपत्ति की कीमत 55 लाख रुपए थी। वहीं, हरियाणा में अरविंद केजरीवाल की पैतृक संपत्ति की कीमत 37 लाख रुपए है। अरविंद केजरीवाल के शपथ पत्र में की गई घोषणा के मुताबिक 2015 में उनके ऊपर 10 केस चल रहे थे, जबकि 2020 में उनके खिलाफ 13 मामले लंबित हैं।

    केजरीवाल की पत्नी की संपत्ति कितनी बढ़ी

    केजरीवाल की पत्नी की संपत्ति कितनी बढ़ी

    साल 2010 में अरविंद केजरीवाल और उनकी पत्नी सुनीता ने गुरुग्राम में 61 लाख रुपए में एक प्रॉपर्टी खरीदी थी। 2015 में इस प्रॉपर्टी की कीमत बढ़कर 1 करोड़ रुपए हो गई। केजरीवाल के शपथ पत्र के मुताबिक 2020 में इस प्रॉपर्टी की कीमत में कोई बदलाव नहीं हुआ। वहीं अरविंद केजरीवाल की पत्नी सुनीता की चल संपत्ति 2015 में 15.28 लाख रुपए से बढ़कर 2020 में 57.07 लाख रुपए हो गई। अरविंद केजरीवाल के ऊपर किसी तरह का कोई लोन नहीं है। हालांकि उनकी पत्नी सुनीता के नाम पर 2015 में 41 लाख रुपए का एक लोन था, जो अब नहीं है। केजरीवाल की पत्नी के पास 320 ग्राम सोना है।

    6 घंटे इंतजार के बाद हुआ केजरीवाल का नामांकन

    6 घंटे इंतजार के बाद हुआ केजरीवाल का नामांकन

    इससे पहले मंगलवार को दिल्ली विधानसभा चुनाव में हाई वोल्टेज ड्रामा देखने को मिला। नई दिल्ली सीट पर अपना नामांकन दाखिल करने पहुंचे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को नामांकन के लिए टोकन नंबर 45 दिया गया। हालांकि वहां मौजूद पुलिस ने वीआईपी प्रोटोकॉल के तहत केजरीवाल को कार्यालय में प्रवेश कराने की कोशिश की, जिसपर अन्य प्रत्याशियों ने हंगामा खड़ा कर दिया। इसके बाद आखिरकार शाम को 6:30 बजे केजरीवाल अपना नामांकन दाखिल कर पाए। चुनाव आयोग की वेबसाइट के मुताबिक नई दिल्ली विधानसभा सीट पर नामांकन की आखिरी तारीख तक कुल 81 उम्मीदवारों ने अपने पर्चे दाखिल किए हैं।

    11 फरवरी को घोषित होंगे दिल्ली के नतीजे

    11 फरवरी को घोषित होंगे दिल्ली के नतीजे

    आपको बता दें कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में मंगलवार को नामांकन करने का आखिरी दिन था। नई दिल्ली विधानसभा सीट पर भारतीय जनता पार्टी ने युवा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष सुनील यादव और कांग्रेस ने पार्टी नेता रोमेश सभरवाल को टिकट दिया है। 2015 के विधानसभा चुनाव में भी अरविंद केजरीवाल नई दिल्ली विधानसभा सीट से ही चुनाव जीते थे। दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए आने वाली 8 फरवरी को मतदान होगा। विधानसभा चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को घोषित किए जाएंगे। दिल्ली में फिलहाल आम आदमी पार्टी की सरकार है, जिसने 2015 के विधानसभा चुनाव में 67 सीटों पर ऐतिहासिक जीत हासिल की थी। 2015 में जहां भाजपा के खाते में महज 3 सीटें ही गईं, वहीं कांग्रेस का खाता भी नहीं खुला था।

    ये भी पढ़ें-दिल्ली चुनाव के बीच नीतीश ने दिया प्रशांत किशोर को बड़ा झटका, इस लिस्ट से किया बाहरये भी पढ़ें-दिल्ली चुनाव के बीच नीतीश ने दिया प्रशांत किशोर को बड़ा झटका, इस लिस्ट से किया बाहर

    English summary
    Delhi Assembly Elections 2020: How Many Cases Pending Against CM Arvind Kejriwal.
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X