• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लॉकडाउन: वित्त वर्ष 2020-21 की पहली छमाही में GDP ग्रोथ निगेटिव रहने का अनुमान

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली: कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए पिछले दो महीने से देश में लॉकडाउन जारी है। जिससे भारतीय अर्थव्यवस्था को काफी नुकसान हो रहा है। शुक्रवार को आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए कई बड़े ऐलान किए। आरबीआई गवर्नर के मुताबिक चालू वित्तीय वर्ष की पहली छमाही में जीपीडी ग्रोथ निगेटिव रहने का अनुमान है।

rbi

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि लॉकडाउन की वजह से 6 बड़े प्रदेशों में उद्योग ठप हैं। वहीं बिजली और पेट्रोलियम पदार्थों की खपत में भी काफी कमी है। कोरोना की वजह से देश में निवेश भी घटा है। ऐसे में अर्थव्यवस्था को पटरी पर आने में अभी वक्त लगेगा। इस वजह वित्त वर्ष 2020-21 की पहली छमाही में जीडीपी ग्रोथ निगेटिव रह सकती है। वहीं दूसरी छमाही में इसमें कुछ सुधार होने का अनुमान है।

अमेरिका: कोरोना से मृतकों का आंकड़ा 1 लाख होने को, राष्‍ट्रपति ट्रंप ने दिया राष्‍ट्रीय ध्‍वज आधा झुकाने का आदेशअमेरिका: कोरोना से मृतकों का आंकड़ा 1 लाख होने को, राष्‍ट्रपति ट्रंप ने दिया राष्‍ट्रीय ध्‍वज आधा झुकाने का आदेश

क्रिसिल का भी यही अनुमान
रेटिंग एजेंसी क्रिसिल रिसर्च की रिपोर्ट के मुताबिक लॉकडाउन से जीडीपी में तीन फीसदी का नुकसान हो सकता है। क्रिसिल ने आगाह किया था कि इन हालात में चालू वित्त वर्ष में आर्थिक विकास दर 1.89 फीसदी रह सकती है लेकिन लॉकडाउन बढ़ाया गया तो विकास दर शून्य हो जाएगी। क्रिसिल के मुख्य अर्थशास्त्री डीके जोशी के मुताबिक भारत की हालत 2008 के ग्लोबल फाइनेंशियल क्राइसिस के प्रभाव में जो हुआ था, उससे भी बदतर हो जाएगी।

English summary
GDP growth in 2020-21 is expected to remain in the negative: Shaktikanta Das
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X