• search
अहमदाबाद न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

नित्यानंद केस की जांच कर रहे पुलिस अफसरों पर ही कर दिया गया मुकदमा, लगाए ये आरोप

|

अहमदाबाद. 'भगोड़े' नित्यानंद के खिलाफ दर्ज आपराधिक मामले की जांच कर रहे पुलिस अधिकारियों पर ही अब मुकदमा कर दिया गया है। पुलिस अधिकारियों के खिलाफ यह मुकदमा विशेष पॉक्सो कोर्ट के आदेश पर पॉक्सो ऐक्ट के तहत दर्ज किया गया है। जिसमें पुलिस अधिकारियों पर आरोप लगाए गए हैं कि, उन्होंने नित्यानंद मामले की जांच के दौरान आश्रम के बच्चों को कथित तौर पर अश्लील सामग्री दिखाई थी। इस मामले में पुलिस के 14 लोगों पर मुकदमा हुआ है, जो कि अहमदाबाद के विवेकानंदनगर थाने में दर्ज हुआ है।

नित्यानंद के अनुयायी गिरीश तुरलापती ने किया केस

नित्यानंद के अनुयायी गिरीश तुरलापती ने किया केस

जानकारी के अनुसार, अदालत के आदेश पर 6 मार्च को एफआईआर दर्ज की गई उनमें बाल कल्याण कमेटी (सीडब्ल्यूसी) के सदस्य भी शामिल हैं। अदालत ने मामला दर्ज करने का आदेश नित्यानंद के अनुयायी गिरीश तुरलापती की ओर से दायर एक शिकायत अर्जी पर सुनवाई करते हुए दिया। तुरलापती अहमदाबाद के बाहरी इलाके में स्थित हीरापुर गांव स्थित आश्रम सह गुरुकुल में रहते हैं।

पुलिस पर लगा बच्चों को ब्लैकमेल करने का आरोप

पुलिस पर लगा बच्चों को ब्लैकमेल करने का आरोप

बता दें कि, विवेकानंदनगर वही पुलिस थाना है जहां नित्यानंद के खिलाफ नवंबर 2019 में तीन बच्चों के अपहरण एवं गलत तरीके से कैद करने का एक मामला दर्ज किया गया था। तुरलापती ने अपनी अर्जी में आरोप लगाया कि विवेकानंदनगर पुलिस थाने के निरीक्षक आर बी राणा सहित पुलिस अधिकारियों और सीडब्ल्यूसी के सदस्यों ने आश्रम के नाबालिगों से आपत्तिजनक प्रश्न किए। उन्होंने यह भी कहा कि, बच्चों को अश्लील कंटेंट दिखाया गया।

इन धाराओं में पुलिस पर ही ठोका मुकदमा

इन धाराओं में पुलिस पर ही ठोका मुकदमा

शिकायतकर्ता तुरलापती ने बच्चों को मानसिक रूप से प्रताड़ित करने के आरोप लगाए। तुरलापती ने कहा कि पुलिस के जांचकर्ताओं ने बच्चों को मानसिक रूप से प्रताड़ित किया। तुरलापती ने यह भी दावा किया कि संबंधित पुलिस अधिकारियों और सीडब्ल्यूसी के सदस्यों ने बच्चों से अनुकूल बयान निकालने के लिए उन्हें मानसिक रूप से ब्लैकमेल करने का प्रयास किया। तुरलापती की शिकायत के आधार पर विशेष पॉक्सो कानून अदालत ने पॉक्सो कानून, भारतीय दंड संहिता और आईटी ऐक्ट के तहत एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है।

इन पुलिस अधिकारियों पर हुआ मुकदमा

इन पुलिस अधिकारियों पर हुआ मुकदमा

आरोपियों की पहचान पुलिस निरीक्षक राणा, उपाधीक्षक के टी कमारिया, उपाधीक्षक रियाज सरवैया, उपाधीक्षक एस एच शारदा, जिला बाल सुरक्षा अधिकारी दिलीप मेर और सीडब्ल्यूसी अध्यक्ष भावेश पटेल सहित सीडब्ल्यूसी के सदस्यों के तौर पर हुई है।

'भगोड़ा' नित्यानंद मामला: 2 बहनों ने UN में ऐफिडेविट बनवाया, बोलीं- हम आजाद, भारत नहीं लौटेंगी..

देश छोड़कर भागा नित्यानंद कैरिबियाई देश में रह रहा

देश छोड़कर भागा नित्यानंद कैरिबियाई देश में रह रहा

विवादास्पद गुरू नित्यानंद किसी कैरिबियाई देश में रह रहा है। उस पर अपने ही पूर्व अनु​यायी ​के बेटियों को अपहृत करने एवं अहमदाबाद स्थित आश्रम में बालश्रम कराने जैसे आरोप हैं। उसके पूर्व अनुयायी की 2 बेटियां भारत में नहीं हैं। पुलिस के अनुसार, वे लड़कियां इन दिनों कैरिबियाई देश वेस्ट इंडीज के आईलैंड बारबाडोस में हैं। उनके पिता ने बीते दिनों हाईकोर्ट में याचिका दायर कर बेटियां की वापसी की गुहार लगाई थी। किंतु बेटियों ने अपने ही घरवालों पर गंभीर आरोप लगाए। साथ ही उन लड़कियों ने नित्यानंद को बेकसूर बताते हुए भारत लौटने पर असहमति जताई।

लड़कियों ने अज्ञात स्थान से वीडियो रिलीज किया

लड़कियों ने अज्ञात स्थान से वीडियो रिलीज किया

कोर्ट की ओर से जब कहा गया कि नित्यानंद और उन लड़कियों को पेश किया जाए तो लड़कियों ने किसी अज्ञात स्थान से अपना वीडियो रिलीज किया। उन्होंने कहा कि उन्हें डर है कि भारत लौटने पर उनके पिता उन्हें नित्यानंद के खिलाफ रेप के झूठे केस दर्ज करने के लिए मजबूर करेंगे। यह भी कहा कि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ही कोर्ट सुनवाई करे। वे भारत नहीं लौटेंगी।'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
FIR Against Police Officers whom Making Investigation In Case Of Abduction By Swami Nityanand
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X