• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

हरियाणा में 10 हजार एकड़ में बनेगी जंगल सफारी, हर जानवर के लिए होगा अलग जोन

चंडीगढ़,6 अक्टूबरः हरियाणा में 10 हजार एकड़ जमीन पर जंगल सफारी की स्थापना की जाएगी। यह जानकारी सीएम मनोहर लाल ने दी। उन्होंने कहा कि जंगल सफारी का 6000 एकड़ गुरुग्राम से और 4000 एकड़ नूंह जिले से होगा। यह एशिया की अब तक की सबसे बड़ी सफारी होगी। जंगल में सभी जानवरों के लिए अलग जोन होंगे।

Google Oneindia News

चंडीगढ़,6 अक्टूबरः हरियाणा में 10 हजार एकड़ जमीन पर जंगल सफारी की स्थापना की जाएगी। यह जानकारी सीएम मनोहर लाल ने दी। उन्होंने कहा कि जंगल सफारी का 6000 एकड़ गुरुग्राम से और 4000 एकड़ नूंह जिले से होगा। यह एशिया की अब तक की सबसे बड़ी सफारी होगी। जंगल में सभी जानवरों के लिए अलग जोन होंगे।

manohar laal

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि राज्य में 10 हजार एकड़ जमीन पर जंगल सफारी की स्थापना की जाएगी। इसकी 6000 एकड़ भूमि गुरुग्राम व 4000 एकड़ नूंह जिले में होगी। यह एशिया की अब तक की सबसे बड़ी सफारी होगी। जंगल में सभी जानवरों के लिए अलग जोन होंगे।

सीएम मनोहर लाल ने कहा कि गत सप्ताह दो बार दुबई जाना हुआ। इसका उद्देश्य जंगल सफारी बनाना था। उन्होंने शारजाह में 2000 एकड़ की सफारी देखी। हरियाणा की जंगल सफारी में 10 अलग-अलग जोन होंगे। रैपटाइल, शेर, पक्षियों के जोन से लेकर इतिहास से जोड़ने वाला आडिटोरियम होगा।

सीएम ने कहा कि वर्तमान में अफ्रीका के बाहर सबसे बड़ा क्यूरेटेड सफारी पार्क शारजाह में है, जिसका क्षेत्रफल करीब दो हजार एकड़ है। इस जंगल सफारी पार्क में 10 जोन होंगे, जिसमें एक बड़ा हर्पेटेरियम, एवियरी/बर्ड पार्क, बिग कैट्स के चार जोन, शाकाहारी जानवरों के लिए एक बड़ा क्षेत्र, विदेशी पशु पक्षियों के लिए एक क्षेत्र, एक अंडरवाटर वर्ल्ड, नेचर ट्रेल्स/विजिटर/टूरिज्म जोन, बॉटनिकल गार्डन/बायोमेस, इक्वाटोरियल/ट्रापिकल/कोस्टल/डेजर्ट इत्यादि होंगे।

सीएम ने कहा कि इस संबंध में केंद्रीय वन, पर्यावरण और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव व वह एक प्रतिनिधिमंडल के साथ शारजाह जंगल सफारी का दौरा करने गए थे। इस जंगल सफारी योजना के विकसित होने से न केवल राज्य में पर्यटन को एक बड़ा बढ़ावा मिलेगा, बल्कि इससे स्थानीय लोगों को रोजगार के पर्याप्त अवसर भी प्रदान होंगे।

उन्होंने कहा कि इस सफारी पार्क में सुविधाओं के डिजाइन व संचालन में अंतरराष्ट्रीय अनुभव वाली कंपनियों को शार्टलिस्ट किया गया है। वहीं एक अरावली फाउंडेशन की स्थापना की जाएगी जो परियोजना का प्रबंधन करेगा।उन्होंने कहा कि केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण ने इसके लिए क्षेत्र का मूल्यांकन अध्ययन किया और इस तरह के पार्क की स्थापना की तकनीकी व्यवहार्यता पर सहमति व्यक्त की है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अरावली पर्वत श्रृंखला एक सांस्कृतिक धरोहर है जहां पर पक्षियों, वन्य प्राणियों , तितलियों आदि की कई प्रजातियां पाई जाती हैं। कुछ वर्षों पहले करवाए गए सर्वे के अनुसार अरावली पर्वत श्रृंखला में पक्षियों की 180 प्रजातियां, मैमल्स अर्थात स्तनधारी वन्य जीवों की 15 प्रजातियां, रेप्टाइल्स अर्थात जमीन पर रेंगने वाले और पानी में रहने वाले प्राणियों की 29 प्रजातियां तथा तितलियों की 57 प्रजातियां विद्यमान हैं।
मनोहर लाल ने कहा कि उनकी कोशिश होगी कि चीते भी इस सफारी में ला सकें। यह सफारी दिल्ली के पास होने से यहां पर्यटन बढ़ेगा और आसपास के लोगों को होम स्टे पालिसी का लाभ मिलेगा। केंद्र सरकार से भी हमें फारेस्ट एरिया स्थापित करने के लिए सहायता मिलेगी। अरावली फाउंडेशन बनाकर उसके तहत ये सभी कार्य किए जाएंगे।

हरियाणा के सीएम ने कहा कि दौरे का दूसरा उद्देश्य गुरुग्राम में 1080 एकड़ में बनने वाली ग्लोबल सिटी को लेकर था। लगभग 1 लाख करोड़ का इसमें निवेश होगा। 13 कंपनियों के साथ हमारी बैठक हुई। कई इन्वेस्टर्स से निवेश पर चर्चा हुई। लक्ष्य रखा गया है कि एक लाख युवाओं की वहां प्लेसमेंट मिले।
सीएम मनोहर लाल ने कहा कि चर्चा के दौरान एक कंपनी ने केवल 14 घंटों में ही कुछ युवा मांगे हैं। पीपीपी के जरिये 180000 से कम वार्षिक आय वाले बच्चों को सबसे पहले भेजेंगे। नवंबर में ग्लोबल सिटी के पहले चरण का आक्शन करने का लक्ष्य है।

Comments
English summary
Jungle safari will be made in 10 thousand acres in Haryana, there will be a separate zone for every animal
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X