VIDEO: 4 दिनों के बाद जेल से छूटे 8 गधे अब BJP नेता की महरबानी से फिर करेंगे साथ में सैर

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

जालौन। यूपी की एक जेल में पेड़-पौधों को नुकसान पहुंचाने पर सुपरिंटेंडेंट ने 8 गधों को सलाखों के पीछे पहुंचा दिया था। मालिक 4 दिन तक गधों को छोड़ने की गुहार लगाता रहा, लेकिन जेल अफसरों ने उसकी एक ना सुनी। इसके बाद सोमवार को सुपरिंटेंडेंट ने गधों को जेल से रिहा किया है। मामला उरई की डिस्ट्रिक्ट जेल का है। यहां प्लांटेशन के लिए करीब लाखों की कीमत के पौधे खरीदे गए थे, जिन्हें गधे खा गए। इसके बाद 24 नवंबर को पुलिसवालों ने गधों को जेल में बंद कर दिया था।

गधों को क्यों मिली 4 दिन जेल की सजा?

कुछ दिन पहले सुपरिंटेंडेंट सीताराम शर्मा ने करीब 5 लाख रुपए कीमत के पौधे मंगाए थे। जिन्हें जेल के अंदर लगाया जाना था, लेकिन बाहर घूमने वाले गधों ने सब नुकसान कर दिया। अफसरों को इसकी जानकारी मिली तो गधों के मालिक से उन्हें हटाने के लिए कहा गया लेकिन उसने ऐसा नहीं किया। पुलिस का कहना है की आखिर में उन्हें गधों को जेल में बंद करने की सजा देनी पड़ी।

8 donkeys escaped from jail will be work again in jalaun

जानवरों के मालिक कमलेश ने बताया की मेरे गधे 24 तारिख से लापता थे, जिनको मैं तलाश रहा था, मालूम करने पर पता चला की उनको जेलर साहब ने बंद कर लिया है। वहीं बाद में मैं स्थानीय बीजेपी नेताओं के साथ जेल गया तब उन्होंने सशर्त मेरे जानवरों को रिहा किया। हालांकि इस मामले में जेल अधीक्षक सीतारा शर्मा का कहना है की आवारा पशु जेल क्या पूरे शहर में नुकसान कर रहे हैं। मेरे जेल कैंपस के बाहर लगाए हुए पौधे को खा गए जिसकी वजह से मैंने उनको अपने कैंपस में बांध लिया और मालिक के आने का इंतजार करता रहा। जब मालिक आया तो उनको हिदायत देकर उसके जानवर छोड़ दिए।

Read more: VIDEO: फिल्मी स्टाइल में दरोगा ने बचा ली मां, बेटा हुआ फैन

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
8 donkeys escaped from jail will be work again in jalaun
Please Wait while comments are loading...

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.