• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

'मन करता था मैं दौड़कर जाऊं और बालकनी से कूद जाऊं', जब परेशान होकर रॉबिन उथप्पा करना चाहते थे आत्‍महत्‍या

बड़े-बड़े फिल्मी सितारे, क्रिकेटर्स भी कई बार मानसिक स्वास्थ्य की परेशानियों के शिकार हो जाते हैं। आम इंसान ही नहीं, बल्कि कई बड़े-बड़े सेलिब्रेटीज भी अपने जीवन में डिप्रेशन से गुजर चुके हैं।
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 15 सितंबर। बड़े-बड़े फिल्मी सितारे, क्रिकेटर्स भी कई बार मानसिक स्वास्थ्य की परेशानियों के शिकार हो जाते हैं। आम इंसान ही नहीं, बल्कि कई बड़े-बड़े सेलिब्रेटीज भी अपने जीवन में डिप्रेशन से गुजर चुके हैं। कई बार तो लोग इसके बारे में बताने या बात करने से भी कतराते हैं, लेकिन बहुत कम ऐसे लोग हैं जिन्होंने डिप्रेशन को लेकर खुलकर अपनी बात बताई है।

'बाबर आजम को दी थी कप्तान नहीं बनने की सलाह, लेकिन उसने...', पाकिस्तानी खिलाड़ी का बड़ा खुलासा'बाबर आजम को दी थी कप्तान नहीं बनने की सलाह, लेकिन उसने...', पाकिस्तानी खिलाड़ी का बड़ा खुलासा

रॉबिन उथप्पा ने लड़ी थी डिप्रेशन से लड़ाई

रॉबिन उथप्पा ने लड़ी थी डिप्रेशन से लड़ाई

टीम इंडिया के पूर्व धुरंधर बल्लेबाज रॉबिन उथप्पा का जीवन कई कठिनाइयों और संघर्षों से भरा रहा है। अपने क्रिकेट करियर के दौरान उन्हें कई बार टीम से अंदर-बाहर होना पड़ा है। साल 2007 वर्ल्ड कप विजेता टीम का हिस्सा रहे रॉबिन उथप्पा डिप्रेशन का शिकार रह चुके हैं। वो लंबे समय तक मानसिक स्वास्थ्य से जूझते रहे थे। इस दौरान कई बार उनका मन सुसाइड करने को भी किया था।

मन करता था मैं दौड़कर जाऊं और बालकनी से कूद जाऊं

मन करता था मैं दौड़कर जाऊं और बालकनी से कूद जाऊं

साल 2020 के दौरान न्यूज एजेंसी पीटीआई ने रॉबिन उथप्पा को लेकर एक स्टोरी पब्लिश की थी। इसमें उथप्पा के बीते दिनों की कई सारी बातों का जिक्र किया गया था। रॉबिन उथप्पा ने बताया था कि अपने करियर में वह दो साल तक डिप्रेशन से लड़ाई लड़ते रहे थे। इस दौरान कई बार उन्हें सुसाइड करने का ख्याल भी आया था। उन्होंने बताया कि मैं उन दिनों में इधर-उधर बैठकर यही सोचता रहता था कि मैं दौड़कर जाऊं और बालकनी से कूद जाऊं। लेकिन क्रिकेट ही एक मात्र ऐसी चीज थी जिसने मुझे ऐसा करने से रोक लिया था।

2009 से 2011 के बीच कठिन रहा था समय

2009 से 2011 के बीच कठिन रहा था समय

रॉबिन उथप्पा के लिए साल 2009 से 2011 बहुत कठिन रहा था। उन्होंने अपने इंटरव्यू में बताया था कि इस दौरान उनकी सारी कोशिशें नाकाम हो रही थी। वह चाहकर भी कुछ अच्छा नहीं कर पा रहे थे। ऐसा लगने लगा था कि जैसे सब खत्म हो गया हो और ऐसी स्थिति में बस उनके दिमाग के अंदर सुसाइड करने का ख्याल ही आता रहता था। हालांकि, उन्होंने किसी तरह से इन बुरे वक्त में अपने आपको संभालने का काम किया।

ऐसा रहा है रॉबिन उथप्पा का करियर

ऐसा रहा है रॉबिन उथप्पा का करियर

रॉबिन उथप्पा के करियर की बात करें तो वह भारत के अलावा रणजी और आईपीएल में कई फ्रेंचाइजियों के लिए खेल चुके हैं। भारत के लिए उन्होंने 46 वनडे और 13 टी20 अंतरराष्ट्रीय में क्रमश: 934 और 249 रन बनाए है। साल 2014 में रॉबिन उथप्पा ने केकेआर की तरफ से खेलते हुए टीम को चैंपियन बनाने में बड़ा रोल निभाया था। वहीं पिछले साल वह चेन्नई सुपर किंग्स का हिस्सा थे, जिसने धोनी की कप्तानी में आईपीएल खिताब जीता था।

Comments
English summary
Robin Uthappa opens up on depression Had suicidal thoughts felt like jumping off balcony
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X