India
  • search
मध्य प्रदेश न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

MP: भारत-ओमान र‍िफाइनरीज के न‍िजीकरण का रास्‍ता साफ, बीपीसीएल ने क‍िया अधि‍ग्रहण, पढ़ि‍ये पूरी खबर

|
Google Oneindia News

सागर, 02 जुलाई। मप्र के बीना में स्‍थाप‍ित भारत-ओमान ऑयल र‍िफाइनरीज ल‍िम‍िटेड (BORL) के न‍िजीकरण का रास्‍ता साफ हो गया है। बीते द‍िनों भारत पेट्रोल‍ियम कंपनी ल‍िम‍िटेड (BPCL) ने बीओआरएल का पूर्ण रुप से अध‍िग्रहण कर ल‍िया है। मध्‍य भारत की इस र‍िफाइनरी को टेकओवर करने के ल‍िए काफी लंबे समय से प्रक्र‍िया चल रही थी, इसमें ओमान सरकार, बीपीसीएल और मप्र सरकार की ह‍िस्‍सेदारी थी, ज‍िसे बीपीसीएल ने खरीद ल‍िया है। आगामी समय में भारत पेट्रोल‍ियम कंपनी के न‍िजीकरण के साथ ही बीना र‍िफाइनरी का भी न‍िजीकरण हो जाएगा।

बीओआरएल का नाम अब भारत पेट्रोल‍ि‍यम हुआ

सागर ज‍िले के बीना में साल 2011-12 में भारत ओमान ऑयल र‍िफाइनरी को पूर्ण क्षमत के साथ प्रारंभ किया गया था। इसे कच्‍चे तेल के शोधन संयंत्र के रुप में बीपीसीएल की अनुशांग‍िक इकाई के रुप में संचाल‍ित क‍िया जा रहा था। साल 2020-2021 से बीपीसीएल के न‍िदेशक मंडल ने बीओआरएल को टेकओवर करने की सहमत‍ि जता दी थी, तब से प्रक्र‍िया चल रही थी। अब जाकर बीओआरएल पूर्ण रुप से बीपीसीएल बन गई है। यह बता दें कि बीना र‍िफाइनरी एक बहु उपयोगी र‍िफायनरी है जो 47 तरह के क्रूट को र‍िफाइन करती है।

ओमान ऑयल और मप्र सरकार की भी हिस्‍सेदारी थी
भारत ओमान र‍िफाइनरी ल‍िमि‍टेड बीना में बीपीसीएल की शेयर ह‍िस्‍सेदारी 52 फीसदी के आसपास थी, जबक‍ि ओमान सरकार की ह‍िस्‍सेदारी पहले 39 प्रत‍िशत से अध‍िक थी, बाद में यह घटकर 36 प्रत‍िशत बची थी। इसके अलावा स्‍थापना से लेकर अभी तक मप्र सरकार की ह‍िस्‍सेदारी भी इसमें बराबर रही है। हर साल करीब 250 करोड रुपए की मदद राज्‍य सरकार की तरफ से होती थी। इसे 2025-26 तक क‍िया जाना था। बीपीसीएल मप्र सरकार की ह‍िस्‍सेदारी भी चुका रही है।

कर्मचार‍ियों के पद की रैंक घटी तो व‍िरोध में उतरे

बीओआरएल में पद और रैंक घटाने का व‍िरोध करते कर्मचारी
बीपीसीएल ने बीना रिफाइनरी को पूरी तरह से टेकओवर कर लिया है। इसके साथ ही कंपनी के विभिन्न प्रशासन‍िक पदों पर बीपीसीएल के अधिकारियों को भेजना शुरू कर दिया। एक जुलाई से बीओआरएल के कर्मचारियों, अधिकारियों का संविलयन बीपीसीएल में हो रहा है। इस दौरान उन्हें पता चला कि बीपीसीएल में बीओआरएल के कर्मचारियों का एक पद कम कर दिया जाएगा। मसलन मैनेजर को असिस्टेंट मैनेजर, वाइस प्रेसीडेंट को चीफ मैनेजर, असिस्टेंट मैनेजर को एग्जीक्यूटिव बना दिया जाएगा। वेतन सहित अन्य मुद्दों को लेकर भी जानकारियां कर्मचारियों के पास आ रहीं थीं। जिसको लेकर बीओआरएल के अधिकारियों, कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। दिन और शाम की शिफ्ट के कर्मचारियों ने इसके बाद काम बंद रखा और बीपीसीएल के अधिकारियों के समक्ष विरोध प्रदर्शन किया।

बीओआरएल र‍िफाइनरी पर एक नजर
- भारत ओमान ऑयल र‍िफानरीज ओमान सरकार के सहयोग से स्‍थापित हुई थी।
- केंद्र के पेट्रोल‍ियम और प्राकृत‍िक गैस मंत्रालय के स्‍वाम‍ित्‍व में है।
- मप्र के सागर ज‍िले में बीना में स्‍थापित है। इसे बीना र‍िफाइनरी के नाम से भी जाना जाता है।
- यह भारत पेट्रोल‍ियम की सहायक कंपनी के रुप में साल 2011 से काम कर रही है।
- बीओआरएल की सालाना क्षमता 78 लाख टन क्रूड र‍िफाइन करने की है
- बीना र‍िफाइनरी गुजरात के वाड‍िनार से 935 क‍िलोमीटर लंबी पाइप लाइन के माध्‍यम से कच्‍चा तेल लाती है।
- र‍िफाइनरी के उत्‍पादों को 257 क‍िलोमीटर लंबी पाइप लाइन से बीना-कोटा ले जाया जाता है। उत्‍तर और मध्‍य भारत के बाजार तक पहुंचाया जाता है।
बीना के पेट्रोल‍ियम उत्‍पाद को कोटा पाइप लाइन के बाद मुंबई-मनमाड और ब‍िजवासन पाइप लाइन से जोडा जाता है।

Comments
English summary
मप्र के बीना में स्‍थाप‍ित भारत-ओमान ऑयल र‍िफाइनरीज ल‍िम‍िटेड (BORL) के न‍िजीकरण का रास्‍ता साफ हो गया है। बीते द‍िनों भारत पेट्रोल‍ियम कंपनी ल‍िम‍िटेड (BPCL) ने बीओआरएल का पूर्ण रुप से अध‍िग्रहण कर ल‍िया है। मध्‍य भारत की इस र‍िफाइनरी को टेकओवर करने के ल‍िए काफी लंबे समय से प्रक्र‍िया चल रही थी
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X