• search

अमरीका में गन कंट्रोल को लेकर सड़क पर उतरने की तैयारी में छात्र

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    प्रदर्शनकारी
    Getty Images
    प्रदर्शनकारी

    फ़्लोरिडा के एक स्कूल में गोलीबारी की घटना के बाद अमरीका में गन कंट्रोल कानून को लेकर बहस फिर से शुरू हो चुकी है.

    इस घटना में बचे छात्र इस बहस को निर्णायक मोड़ तक ले जाना चाहते हैं. छात्रों ने गन कंट्रोल पर राजनीतिक कार्रवाई के लिए राजधानी वॉशिंगटन में राष्ट्रीय मार्च निकालने की घोषणा की है.

    बुधवार को फ़्लोरिडा के एक स्कूल में गोलीबारी की घटना में 17 छात्रों की जान गई थी. स्कूल के ही एक पूर्व छात्र निकोलस क्रूज़ को इस हमले के अभियुक्त के रूप में गिरफ़्तार किया गया है.

    छात्रों की योजना 24 मार्च को राजधानी वॉशिंगटन में मार्च निकालने की है.

    वहीं, राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने हमले के बाद अपनी पहली सार्वजनिक टिप्पणी में कहा है कि गन कंट्रोल कानून न पास करने के लिए डेमोक्रेट्स ज़िम्मेदार हैं

    क्या है छात्रों का रुख़

    प्रदर्शनकारी छात्रों ने अमरीकी मीडिया से कहा है कि वे बुधवार को हुई गोलीबारी की घटना को बंदूक के लिए होने वाली राष्ट्रीय बहस में तब्दील करने के लिए दृढ़-संकल्प हैं.

    गोलीबारी के बाद शूटर ने क्या-क्या किया

    बंदूक से लेकर कैंची तक सप्ताह के कार्टून

    प्रदर्शनकारी
    Getty Images
    प्रदर्शनकारी

    गोलीबारी में बचे एक छात्र डेविड हॉग ने एक टीवी इंटरव्यू में सीधा राष्ट्रपति को निशाने पर लिया.

    उन्होंने कहा, "राष्ट्रपति ट्रंप, प्रतिनिधि सभा आपके नियंत्रण में है, आप सीनेट को नियंत्रिण करते हो और आपका शासन पर नियंत्रण है. आप मानसिक स्वास्थ्य संबंधित देखभाल या बंदूकों पर नियंत्रण पर न तो एक भी बिल लाते हैं और न पास करते हैं. यह दयनीय है."

    हॉग ने कहा, "हमने सरकार का कामकाज ठप होते देखा है, हमने कर सुधार देखा है लेकिन बच्चों के जीवन को बचाते नहीं देखा. क्या आप मज़ाक कर रहे हैं? आप सोचते हैं कि यह अतीत के बारे में सोचने का समय है और भविष्य में हज़ारों बच्चों को मौत से बचाने का नहीं? मुझे आपसे चिढ़ है."

    ऐसा कोई पहली दफ़ा नहीं है कि बंदूकों को रखने के लिए किसी कानून पर बहस हो रही है. फ़्लोरिडा की घटना के बाद छात्रों ने कल भी प्रदर्शन किया था और अमरीकी सांसदों और राष्ट्रपति के ख़िलाफ़ नारे लगाए थे.

    प्रदर्शनकारी
    Getty Images
    प्रदर्शनकारी

    छात्रों के मारे जाने के ग़म को डेविड हॉग कुछ यूं बयां करते हैं.

    वह कहते हैं, "बहुत से लोगों ने अपने प्रियजनों को खोया है. हमारे समुदाय और हमारे राष्ट्र ने अपने दिल पर कई गोलियां खाई हैं और अब खड़े होने का समय है. इसलिए मैं वापस स्कूल जाने को लेकर सुरक्षित महसूस नहीं करता हूं जब तक कि उचित मानसिक स्वास्थ्य देखभाल और बंदूक नियंत्रण कानून पास नहीं हो जाता. क्योंकि इस समय यह अस्वीकार्य है."

    एक छात्रा एमा गोंज़ालेज़ ने राष्ट्रपति ट्रंप और नेशनल राइफ़ल एसोसिएशन (एनआरए) के संबंधों को लेकर भी आलोचना की थी. उन्होंने पूछा था कि एनआरए से ट्रंप ने कितने पैसे लिए हैं.

    सेंटर फ़ॉर रेस्पॉन्सिव पॉलिटिक्स के अनुसार, एनआरए ने 2016 के राष्ट्रपति चुनावों के दौरान ट्रंप के समर्थन में 1.14 करोड़ डॉलर ख़र्च किए थे.

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Students preparing to land on the road with gun control in the US

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X