• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

फ्रांस में दोबारा लॉकडाउन, राष्‍ट्रपति मैंक्रो बोले-इस बार पहले से ज्‍यादा जानलेवा है कोरोना वायरस

|

पेरिस। फ्रांस में कोरोना वायरस महामारी के चलते लॉकडाउन ने एक साल के अंदर वापसी की है। राष्‍ट्रपति इमैनुएल मैंक्रो ने बुधवार को कम से कम एक दिसंबर तक के लिए देश में लॉकडाउन का ऐलान कर दिया है। उन्‍होंने उम्‍मीद जताई है कि महामारी की वजह से अस्‍पतालों में जो हालात हैं, उन पर लॉकडाउन के बाद कुछ हद तक नियंत्रण हो सकेगा। फ्रांस, यूरोप का वह देश है जिसने कोरोना वायरस की वजह से इटली के बाद सबसे ज्‍यादा नुकसान झेला है। पिछले दिनों यहां पर अचानक से केसेज में इजाफा हुआ है।

france.jpg

यह भी पढ़ें-जो बाइडेन बोले-आसानी से खत्‍म नहीं होगा कोरोना वायरस

राष्‍ट्रपति बोले-तो मर जाएंगे 4 लाख लोग

मैंक्रो ने टीवी पर दिए अपने संबोधन के दौरान कहा, 'वायरस बहुत तेजी से फ्रांस में फैल रहा है और जिस रफ्तार से यह लोगों को निशाना बना रहा है, उसकी उम्‍मीद किसी ने नहीं की थी।' उन्‍होंने अपने संबोधन में यह माना कि पेरिस और देश के दूसरे बड़े शहरों में जो कर्फ्यू दो हफ्ते पहले लगाया गया था, वह दूसरी लहर को रोकने में नाकाम रहा है। फ्रांस में अब तक कोरोना की वजह से 35,000 लोगों की मौत हो चुकी है। मैंक्रो ने आगे कहा, 'यूरोप के दूसरे हिस्‍सों की तरह ही फ्रांस भी वायरस के प्रकोप को दूसरी बार झेल रहा है। यह दूसरी लहर शायद बहुत मुश्किल और इस पहली लहर से ज्‍यादा जानलेवा है।'मैंक्रो ने कहा कि अगरे सरकार ने नहीं कुछ नहीं किया तो कुछ माह के अंदर देश में वायरस की वजह से 400,000 अतिरिक्‍त मौंतें होंगी। मैंक्रो ने चेतावनी दी कि अस्‍पतालों के आईसीयू में पहले ही 3,000 से ज्‍यादा मरीज भर्ती हैं जिन्‍हें बेड नहीं मिल रहा है और सरकार चाहें कुछ भी कर ले, नवंबर माह के मध्‍य तक कम से कम 9,000 और लोग आईसीयू में होंगे। बुधवार को सेंट पब्किल फ्रांस हेल्‍थ एजेंसी ने कोरोना वायरस की वजह से 244 और मौतों की जानकारी दी है। यह आंकड़ा 24 घंटे का है और 36,000 से ज्‍यादा मामले सामने आए हैं।

गुरुवार रात से सब हो जाएगा बंद

गुरुवार रात से दूसरे लॉकडाउन की शुरुआत हो जाएगी। इसके साथ ही सभी बार, रेस्‍टोरेंट्स और गैर-जरूरी बिजनेस को बंद होना पड़ेगा। अगर लोगों को घर से बाहर जाना है जो फिर उन्‍हें लिखित मंजूरी की जरूरत होगी। मैंक्रो ने जनता से अपील की हैं वो नियमों का पालन करें और जितना संभव हो सके, घरों में ही रहें। गर्मियों के मौसम में फ्रांस में दो माह का लॉकडाउन लगाया गया था। इस दौरान स्‍कूल बंद थे लेकिन इस बार हाई स्‍कूल लेवल से ऊपर के बच्‍चे स्‍कूल जाते रहेंगे। यूनिवर्सिटीज की क्लासेज ऑनलाइन होंगी। गौरतलब है कि सितंबर माह में जब से कोरोना के केसेज में इजाफा होना शुरू हुआ है, यूनिवर्सिटी को स्थिति के लिए सबसे ज्‍यादा दोष दिया गया है। फैक्‍ट्रीयों और खेतों में भी काम चलता रहेगा। कुछ पब्लिक सर्विसेज काम करती रहेंगी। मैंक्रो ने कहा, 'इकोनॉमी बिल्‍कुल नहीं रुकनी चाहिए और न ही इसे नष्‍ट होने देना चाहिए।' मैंक्रो ने कहा है कि वर्क फ्रॉम होम का नियम उन कंपनियों के लिए लागू होगा जो कंपनियां इसे मान्‍यता देती हैं। मैंक्रो ने बिजनेस के लिए अतिरिक्‍त वित्‍तीय सहायता का वादा किया है। उन्‍होंने यह बात समझी है कि छुट्टियों का मौसम शुरू होने वाला है और कई लोगों को उम्‍मीद थी कि इस दौरान बंदी नहीं झेलनी पड़ेगी। मगर अब स्थितियां मुश्किल नजर आने लगी हैं। मैंक्रो के मुताबिक अगर अगले दो हफ्तों में स्थितियां नियंत्रण में हुई तो फिर क्रिसमस हॉलीडे के दौरान बिजनेस को कुछ राहत मिल सकती है। मैंक्रो के शब्‍दों में, 'मुझे उम्‍मीद है कि हम क्रिसमस और न्‍यू ईयर की छुट्टी अपने परिवार के साथ मना सकेंगे।'

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Second lockdown in France to combat coronavirus.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X